स्वर कोकिला Lata Mangeshkar की अधूरी प्रेम कहानी

Lata Mangeshkar's incomplete love story: अपनी आवाज से करोड़ों लोगों के दिलों पर राज करने वाली लता मंगेशकर के लव लाइफ के बारे में बहुत कम लोग जानते होंगे.

Lata Mangeshkar’s incomplete love story: स्वर कोकिला लता मंगेशकर इन दिनों अस्पताल में भर्ती हैं। 92 साल की लता मंगेशकर 8 जनवरी को कोरोना पॉजिटिव पाई गई। अभी वह मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती हैं। उन्हें कोरोना के साथ-साथ निमोनिया की भी समस्या हो गई है। डॉक्टर ने लोगों से उनकी सेहत को लेकर दुआ करने की बात की है. अपनी आवाज से करोड़ों लोगों के दिलों पर राज करने वाली लता मंगेशकर के लव लाइफ के बारे में बहुत कम लोग जानते होंगे. आज हम आपको लता मंगेशकर के अधूर प्रेम कहानी के बारे में बताएंगे।

लता मंगेशकर का शुरुआती जीवन


लता मंगेशकर का जन्म 28 सितंबर 1929 को मध्य प्रदेश के इंदौर में हुआ था। लता मंगेशकर का असली नाम हेमा मंगेशकर है. इनका एक भाई है जिनका नाम हृदयनाथ मंगेशकर है और इनकी तीन बहनें उषा, मीना और आशा भोंसले हैं। लता अपने परिवार में सबसे बड़ी हैं. उनके पिता दीनानाथ मंगेशकर एक कलाकार के साथ गायक भी थे। लता जी को उनके पिता से ही गायिकी का गुण मिला है।


लता मंगेशकर का करियर


सुरों की देवी लता मंगेशकर ने 9 साल की उम्र में ही गायिकी शुरू कर दिया था। पहली बार लता ने अपने पिता दीनानाथ के साथ कोल्हापुर के एक कॉन्सर्ट में भाग लिया था। जहां उन्होंने पहली बार अपनी आवाज का जादु बिखेरा था. उन्होने अपने करियर में कई भाषाओं में गाना गए हैं। लता दीदी ने अब तक 30,000 से अधिक गाने गाए हैं। उन्हें गाना ‘दिल मेरा तोड़ा’ से ब्रेक मिला।


लता मंगेशकर सुपरहिट गाने


लता मंगेशकर के सुपरहिट गाने की बात करें तो उन्होंने अनगिनत सुपरहिट गाने गाए हैं। जैसे ‘इक प्यार का नगमा है’, ‘जिंदगी की ना टूटे लड़ी’, ‘इक तू ही है भरोसा’, ‘ओ पालन हारे’, ‘आज फिर जीने की तमन्ना है’, ‘ये गलिया ये चोबारा’,और ‘दिल तो पागल है’ आदि हैं।


लता मंगेशकर की अधुरी प्रेम कहानी


लव अफेयर के मामले में लता मंगेशकर का नाम भी सामने आया है। एक समय ऐसा था जब लता दीदी एक शख्स के प्यार में पूरी तरह पागल थीं। उस शख्स के प्यार में लता मंगेशकर इस कदर पड़ी की उन्होंने आजीवन शादी न करने का निर्णय लिया। कहा जाता है कि लता मंगेशकर को दिवंगत क्रिकेटर राज सिंह से प्यार था जो डूंगरपूर के महाराजा थे। लता मंगेशकर को क्रिकेट का बहुत शौक था। उनके भाई हृदयनाथ मंगेशकर भी एक क्रिकेटर थे और वह राज सिंह के करीबी दोस्त भी थे। एक बार जब लता मंगेशकर क्रिकेट देखने गई तो उन्हें राज सिंह से प्यार हो गया। कहा जाता है कि राज सिंह भी लता की आवाज के दीवाने थे। उस दौरान राज सिंह लता जी को मिट्ठू के नाम से बुलाते थे। ये दोनों कपल शादी भी करना चाहते थे लेकिन जब राज सिंह के पिता को इस बात की जानकारी हुई तो उन्होंने साफ मना कर दिया। जिसके बाद राज सिंह ने अपने पिता के सामने कसम खाई को वह किसी और से कभी शादी नहीं करेंगे और अपनी कसम को उन्होंने आजीवन निभाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

20 − three =

Related Articles

Back to top button