Send Your News/Article

मीडिया स्वराज़ STYLE GUIDELINES 

मौलिक , प्रामाणिक सामग्री चाहिए 

पाठकों को मौलिक अनुभव-जन्य अथवा शोध परक उत्तम पठनीय अथवा दृश्य एवं श्रव्य सामग्री चाहिए जो एक विषय पर फ़ोकस संक्षेप में और रोचक शैली में हो।विषय सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक , इतिहास, क़ानून , स्वतंत्रता आंदोलन, पर्यावरण , स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि , रोज़गार, मनोरंजन , अध्यात्म , साहित्य आदि हो सकते हैं . 

आप अपने आसपास की सामाजिक , राजनीतिक, आर्थिक , आध्यात्मिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक , खेल कूद  की संक्षिप्त रपट भेज सकते हैं । इसके अलावा मौलिक कविता , लघु कथा , हास्य व्यंग्य, फ़ोटो , आडियो , वीडियो , ग्राफ़िक्स , पेंटिंग और कार्टून भेज सकते हैं .

कृपया विषय तात्कालिक महत्व का चुनें जो चर्चा में हो या जिसके बारे में लोग जानना चाहते होंरोज़मर्रा की राजनीतिक बयानबाज़ी , शिकवा शिकायत , दुर्घटना और आपराधिक घटनाओं पर आधारित सामग्री की आवश्यकता नहीं है।यह काम बाकी मीडिया बखूबी कर रहा है . 

रिसर्च 

जब किसी विषय पर लिखने की सोचें तो पहले इंटरनेट पर सर्च कर लें कि उस विषय पर लोग क्या खोज रहे हैं अथवा जानना चाह रहे हैं . देखें कि सर्च के मुख्य शब्द क्या हैं . अपने लेख में इन शब्दों, प्रश्नों को समाहित उत्तर देने का प्रयास करें . इसे की फ़्रेज या मुख्य शब्द कहते हैं. 

की फ़्रेज अनिवार्य रूप से 

हेडिंग, 

पहले पैरा और 

लेख के सार संक्षेप में शामिल होना चाहिए. 

भाषा एवं लेखन शैली

आप हिन्दी अथवा अंग्रेज़ी जिसमें सुविधाजनक हो लिख सकते हैं . इन दिनों अधिकॉंश लोग स्मार्ट फ़ोन पर ही देखते , सुनते , लिखते और और पढ़ते भी हैं .इसलिए सामग्री बहुत संक्षिप्त और  वाक्य छोटे होने चाहिए. भेजने से पहले ठीक से पढ़कर संशोधित कर लें . 

अनावश्यक शब्द , विशेषण आदि हटा दें .भाषा संतुलित , विधि सम्मत एवं मर्यादित हो. न भड़काने वाली हो न अपमानजनक .

शब्द सीमा 

लेख या रिपोर्ट पॉंच सौ से आठ सौ शब्दों के बीच होनी चाहिए. संस्मरण शोधपरक लेख और विश्लेषण हज़ार से दो हज़ार शब्दों के बीच हो सकते हैं .ज़्यादा बड़ा लिख रहे हैं तो पहले से परामर्श कर लें .

वेबसाइट दुनिया भर में कहीं भी पढ़ी जा सकती है , इसलिए बिलकुल ऐसे लोकल शब्द या मुहावरे इस्तेमाल न करें  जो दूसरी जगह के लोग न समझें .

हर नया आइडिया नया पैरा में लिखे. दो लाइनों के बीच डबल स्पेस रखें . 

आजकल स्मार्ट फ़ोन पर हिंदी लिखना  बहुत आसान है।लैपटोप या डेस्क्टाप पर Google के ज़रिए रोमन में लिखकर हिंदी परिवर्तित कर सकते हैं।बोलकर भी लिख सकते हैं। परिवार में कोई  भी बच्चा आसानी से सिखा देगा।

फ़ोन पर टाइप करने में बिन्दी अथवा मात्रा की अशुद्धियाँ होती हैं , भेजने से पहले ज़रूर सुधार लें . 

कृपया यूनिकोड फ़ॉण्ट में टाइप की हुई सामग्री ही भेजें . 

आडियो/ वीडियो 

आडियो रिकार्ड  करने के पहले लिखकर रिहर्सल कर लें।टी वी, पंखा, एसी, कूलर आदि बंद कर दें।  

वीडियो के साथ दृश्यों का विस्तृत विवरण होना चाहिए। 

ध्यान रहे की कैमरा हिले नहीं, रोशनी पर्याप्त हो और  बैकग्राउंड  आवाज़ न हो। अगर किसी से बात कर रहे हैं तो सवाल पहले से समझा दें और प्रश्न के बाद पाँच सेकंड ठहरकर जवाब रिकार्ड करें। 

कैमरे पर बोलकर पीस to  कैमरा का भी रिहर्सल कर लें। वाइस ओवर का भी पहले रिहर्सल कर लें। 

कोशिश करें कि बात बिना भूमिका सीधे , स्पष्ट . बोलचाल की भाषा में कहें . तीन चार मिनट से अधिक न हो . 

आडियो – वीडियो के साथ भी अपना प्रोफ़ाइल फ़ोटो और तीन चार मैचिंग फ़ोटो भेजें . 

समाचार के आवश्यक तत्व

समाचार में Who , What , Where, When  , Why और how का उत्तर मिलना चाहिए. 

ध्यान रखें समाचार और कार्यवृत्त में अंतर है. समाचार आम जनता के लिए इस्तेमाल उसमें समाज और पाठकों की दृष्टि से सबसे महत्वपूर्ण तथ्य होते हैं . कार्यवृत्त या कार्यवाही संस्था के आंतरिक रिकार्ड के लिए क्रमवार  विवरण है . 

विश्लेषण में विषय से संबंधित सभी तथ्यों के अलावा ओपिनियन को शामिल करना चाहिए.

हमेशा अपने पाठक की अभिरुचि को ध्यान में रखें कि वे क्या पढ़ना चाहेंगे. यह भी कि आपका लेख या समाचार उनके जीवन के लिए कितना मूल्यवान है . उसमें क्या नयी जानकारी , ज्ञान अथवा मनोरंजन मिलेगा. 

कृपया वही विषय चुनें जिसके आप विशेषज्ञ हैं , अथवा  कार्य अनुभव है. जो भी लिखें , मौलिक हो. विश्वास करने योग्य हो . 

स्वयं संपादन

बेहतर होगा कि हड़बड़ी में न भेजें . अपने तथ्यों और स्रोत को डबल चेक करें , भले जानकारी किसी दोस्त या रिश्तेदार ने दी हो . लिखने के बाद एक दो दिन के लिए भूल जायें और फिर उसे इस तरह संपादित  करें जैसे किसी और ने लिखा है . 

पूरे लेख की कई बार अच्छे से प्रूफरीडिंग करें और भाषा , वर्तनी तथा टाइपिंग की ग़लतियाँ अवश्य ठीक करें . 

ज़रूरत हो तो क़ानूनी पहलू भी देख लें ताकि बाद में कोर्ट कचेहरी के चक्कर न लगाने पड़ें. 

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की भी मर्यादा है . लेख में अपनी निजी भड़ास या खुन्नस न निकालें . राग द्वेष को परे रखें . किसी संस्कृति अथवा समुदाय की भावनाओं को ठेस नहीं पहुँचे . 

फ़ोटो 

विषय से संबंधित दो तीन फ़ोटो के अलावा अपना प्रोफ़ाइल फ़ोटो भी भेजें .

हर फ़ोटो फ़ाइल एक एम बी से कम रहे . वीडियो भी छोटे हों . वीडियो के साथ उसी ड्रेस और में अपने कुछ सामान्य फ़ोटो भी भेजें .

लेखक परिचय  

कृपया लेख के अंत में एक दो पैरा में अपना परिचय लिखना न भूलें . डिग्री, अनुभव के साथ ई मेल और फ़ोन नंबर और सोशल मीडिया अकाउंट भी . 

मौलिकता की घोषणा 

हाँ, कवरिंग लेटर / ई मेल  में रिपोर्ट या लेख की विषय वस्तु अधिकतम डेढ़ सौ शब्दों में बताने का कष्ट करें.

अंत में एक संक्षिप्त विधिक घोषणा भी जोड़ दें तो सम्पादकीय टीम को सुकून रहेगा  

मैं घोषणा करता / करतीहूँ कि मेरे द्वारा मीडिया स्वराज को भेजी जा रही यह सामग्री मौलिक है .इस पर किसी का कॉपीराइट नहीं है . मैंने सभी तथ्यों को ठीक से जॉंच परख लिया है .यह सामग्री जनहित में और सामाजिक सद्भाव तथा लोकतंत्र को मज़बूत करने वाली है .मैं यह जनसेवा की भावना से भेज रहा / रही हूँमुझे पारिश्रमिक भुगतान की अपेक्षा नहीं है. 

यह वेबसाइट समाज सेवा की भावना से जनहित में ट्रस्टीशिप नीति पर चल रही है. 

हमने किसी से आर्थिक सहयोग नहीं लिया है . अभी  हमारे पास पर्याप्त संसाधन नहीं हैं।साधन जुटे तो लेखकों को पारिश्रमिक देने  पर अवश्य विचार होगा। 

अच्छी प्रकाशन सामग्री के साथ अपने सुझाव भी भेजते रहें . 

वेब साइट और यू ट्यूब चैनल नियमित देखते रहें. 

Facebook MediaSwsraj  Twitter : Media Swaraj 

www.mediaswaraj.com वेबसाइट   यूट्यूब MediaSwsraj 

Email : mediaswaraj2020@gmail.com

WhatsApp +919839012810

धन्यवाद

टीम मीडिया स्वराज 

हार्दिक शुभ  कामनाएँ , स्वस्थ रहें , ख़ुश रहें . अपना और अपने परिवार का ख़याल रखें.

जय जगत !!! 

     

    मीडिया स्वराज़ के लिए प्रकाशन सामग्री निम्न लिखित पते पर भी  भेजी जा सकती है –

    Email :  mediaswaraj2020@gmail.com
    WHATSAPP +91 9839012810

    support media swaraj
    Back to top button