UP Election 2022 News Updates : योगी को दोबारा CM बनाने को इकबाल अंसारी ने मांगी दुआ

यूपी की ताजा चुनावी हलचल : 12 फरवरी 2022

UP Assembly Election 2022 News Updates : उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में आज दूसरे चरण के प्रचार का अंतिम दिन है। प्रदेश में दूसरे चरण का मतदान 14 फरवरी, सोमवार को होना है। ऐसे में राजनीतिक दलों के बीच जुबानी जंग तेज होती जा रही है। एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी जारी है। यूपी की ऐसी ही ताजा खबरों और हलचल से रूबरू होने के लिये पढ़िए प्रदेश की राजनीति से जुड़े ताजा अपडेट्स…

योगी को दोबारा सीएम बनाने के लिए इकबाल अंसारी ने मांगी दुआ

अयोध्या में तपस्वी छावनी के संत परमहंस और बाबरी मस्जिद के पूर्व पक्षकार इकबाल अंसारी ने एक साथ योगी आदित्यनाथ को दोबारा मुख्यमंत्री बनाने के लिए अपने अपने धर्म के अनुसार प्रार्थना की। संत परमहंस ने हनुमान जी और रामलला से प्रार्थना की, वहीं इकबाल अंसारी ने बाकायदा हाथ उठा कर दुआ मांगी।

बाबरी मस्जिद विवाद में पक्षकार रहे इकबाल अंसारी ने योगी आदित्यनाथ के लिए दुआ मांगने के बाद कहा कि देखिए यह इलेक्शन का दौर है। यहां परमहंस आचार्य ने अपने धर्म के अनुसार पूजन किया। मैंने अपने धर्म के मुताबिक दुआएं मांगीं। उन्होंने कहा कि हमने मुख्यमंत्री जी को दोबारा मुख्यमंत्री बनाने के लिए दुआ मांगी और पूजा-पाठ किया।

अंसारी ने कहा, ”हम लोग यही चाहते हैं कि अयोध्या धर्म की नगरी है और संतों की धार्मिक आस्थायें पूरी करना उनका धर्म है। हम लोग भी उनसे जुड़े हुए हैं। हम चाहते हैं कि योगी जी दोबारा से मुख्यमंत्री बनें। अयोध्या में जो भी धार्मिक कार्य रहेगा, उसमें हम साथ रहेंगे।”

सिरसागंज में अखिलेश की ‘साइकिल’ पंचर करने में जुटे मुलायम सिंह यादव के समधी

फिरोजाबाद जिले की सिरसागंज विधानसभा सीट पर पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह के समधी हरिओम यादव साइकिल को पंचर करने में जुटे हैं। भगवा रथ पर सवार हरिओम को उनके ही राजनीतिक शिष्य सर्वेश यादव सपा से चुनौती देंगे। हरिओम के हर पैंतरे का जवाब देने के लिए ही सपा ने सर्वेश को मैदान में उतारा है। दोनों के एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव मैदान में ताल ठोकने से माहौल गरमाया हुआ है।

सिरसागंज विधानसभा सीट पर इस बार मुकाबला दिलचस्प है। यादव बाहुल्य सीट पर भाजपा से दो बार के विधायक रहे हरिओम यादव चुनाव मैदान में हैं तो वहीं कभी उनके चुनावी रणनीतिकार रहे सर्वेश यादव को सपा ने मैदान में उतारा है। बसपा से पंकज मिश्र और कांग्रेस से प्रतिमा पाल भी चुनाव लड़ रहे हैं। चुनावी जानकारों की मानें तो यहां सपा और भाजपा में सीधा मुकाबला है। बसपा प्रत्याशी पंकज मिश्र लड़ाई को त्रिकोणीय बनाने में जुटे हैं।

बता दें कि 2012 में अस्तित्व में आई सिरसागंज विधानसभा सीट से लगातार दो बार सपा से हरिओम यादव विधायक चुने गए हैं। 2012 के चुनाव में हरिओम यादव ने बसपा प्रत्याशी अतुल प्रताप सिंह को चालीस हजार वोट से शिकस्त दी थी। वर्ष 2017 के चुनाव में हरिओम यादव ने मोदी लहर में भी सिरसागंज सीट पर जीत का परचम लहराया था। उन्होंने भाजपा प्रत्याशी जयवीर सिंह को दस हजार मतों के अंतर से हराया था।

जबकि पड़ोसी जनपद मैनपुरी की करहल विधानसभा सीट से सपा से पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और भाजपा से केंद्रीय राज्यमंत्री एसपी सिंह बघेल के चुनाव मैदान में उतरने का सिरसागंज सीट पर भी प्रभाव पड़ेगा। सर्वेश यादव को जहां संजीवनी मिली है। वहीं हरिओम यादव भी वोटों के बिखराव की चिंता से बेफिक्र हुए हैं।

गिरिराज सिंह का अखिलेश यादव पर हमला

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि उनका चेहरा बता रहा है कि अब गुंडागर्दी की सरकार उत्तर प्रदेश में लौटकर नहीं आएगी। चाहे वे कितने भी कट्टरपंथियों को जोड़ने की कोशिश कर ले। अखिलेश यादव कितना भी हिजाब का आंदोलन चला लें। गिरिराज ने कहा कि अखिलेश यादव जेल में बंद आजम खान, अतीक अहमद को प्रगतिशील कह रहे हैं। अगर ये लोग प्रगतिशील हैं तो उत्तर प्रदेश की जनता भी इन्हें प्रगति के रास्ते पर बाहर भेज देगी।

देवबंद में मुस्लिमों का रुख तय करेगा जीत-हार

पश्चिमी उत्तर प्रदेश की देवबंद विधानसभा सीट पर सबकी निगाहें हैं। मुस्लिम दीनी इदारे दारुल उलूम और सिद्धपीठ त्रिपुर बाला सुंदरी मंदिर से देवबंद की देश-दुनिया में अलग पहचान है। यहां से निकला सियासी संदेश अन्य चरणों के चुनाव में भी अहम होगा। ध्रुवीकरण के बीच भाजपा और सपा प्रत्याशियों के बीच सजातीय मतों में बिखराव रोकना भी एक चुनौती है। अभी ज्यादातर वोटर खामोश हैं। वे अभी पता कर रहे हैं कि पहले चरण में किसकी हवा चली।

यूपी चुनाव में ट्रम्प की एंट्री

उत्तर प्रदेश चुनाव में जिन्ना की एंट्री करवाने के बाद अब समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की भी एंट्री करवा दी है। उन्होंने ट्रम्प और पीएम मोदी की फोटो शेयर करते हुए योगी और मोदी दोनों पर निशाना साधा है।

अखिलेश ने ट्वीट किया, ‘जीत की अपील कर के, जिसका भी है हाथ उठाया, वो जितने भी वोट से हारता, उससे ज़्यादा से हरवाया’ अखिलेश ने इस ट्वीट के साथ दो फोटो शेयर की है। एक में ट्रम्प और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हाथ ऊपर करके खड़े हैं, जबकि दूसरे में ठीक उसी तरह हाथ ऊपर करके मोदी और योगी खड़े हैं। कुछ दिन पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने साथ पीएम मोदी की इसी फोटो को ट्विटर पर शेयर की थी।

कांग्रेस की डॉ चेतना, पूनम और देवेंद्र ने दाखिल किया पर्चा

विधानसभा चुनाव के छठे चरण के लिए नामांकन प्रक्रिया के अंतिम दिन शुक्रवार को कांग्रेस की डॉ चेतना पांडेय, पूनम, देवेंद्र के अलावा सपा के संजय समेत 44 लोगों ने पर्चा भरा है। चार फरवरी से 11 फरवरी तक चली नामांकन प्रक्रिया के दौरान नौ विधानसभा क्षेत्रों से कुल 159 पर्चे दाखिल किए गए हैं। नामांकन पत्रों की जांच 14 फरवरी को होगी। 16 को नाम वापस लिए जा सकेंगे। इसी दिन प्रतीक चिह्नों का आवंटन किया जाएगा।

सपा कार्यालय में नोट बांटने का वीडियो वायरल

समाजवादी पार्टी के लालबाजार, हंडिया स्थित कार्यालय में नोट बांटने का वीडियो शुक्रवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। वायरल वीडियो की जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। जांच पड़ताल के बाद पुलिस ने हंडिया विस क्षेत्र अध्यक्ष रमाकांत विश्वकर्मा समेत तीन को नामजद करते हुए रिपोर्ट दर्ज कर ली। मामले में 10-12 अज्ञात को भी आरोपी बनाया गया है। पुलिस का कहना है कि जांच पड़ताल की जा रही है।

अमरोहा में कांग्रेस को बड़ा झटका

अमरोहा विधानसभा चुनाव के लिए मतदान से तीन दिन पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। अमरोहा विधानसभा सीट से उनके प्रत्याशी सलीम खान एडवोकेट सपा में शामिल हो गए हैं। रामपुर में जनसभा को संबोधित करने पहुंचे सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से उन्होंने मुलाकात की। इसके दो दिन पहले सलीम खान का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था, जिसमें उन्होंने भाजपा को हराने के लिए अपने समर्थकों से सपा के पक्ष में वोट करने की अपील की थी।

स्नातक छात्रों के लिए बड़ी खबर: बीकॉम, बीए, बीएससी का Exam सिस्टम बदला

उत्तर प्रदेश के अलग अलग यूनिवर्सिटीज और कॉलेजों में पढ़ाई कर रहे छात्रों के लिए बड़ी खबर है। राज्य में नई शिक्षा नीति लागू होने की वजह से एग्जाम का पैटर्न बदल दिया गया है। अब बीकॉम, बीए और बीएससी प्रथम वर्ष की परीक्षा में मूल विषयों में थ्योरी का पेपर 80 के बजाय 70 अंकों का होगा, जबकि आंतरिक मूल्यांकन 20 के बजाय 30 अंकों का होगा।

रिपोर्ट्स के मुताबिक यूनिवर्सिटीज को मई में होने वाली परीक्षा में यही सिस्टम लागू करना होगा। वहीं, अब छात्रों को अंटेंडेंस के 10 अंक दिये जायेंगे। हालांकि कोरोना वायरस संक्रमण के चलते फिलहाल इसमें ऑनलाइन क्लास की अटेंडेंस को भी शामिल किया जायेगा। ऐसे में रिजल्ट 100 अंकों के आधार पर तैयार किया जायेगा।

खबरों के मुताबिक नये सिस्टम में थ्योरी की परीक्षा 70 अंकों की होगी। किसी भी छात्र को पास होने के लिए 23 अंक लाने होंगे। परीक्षा में वस्तुनिष्ठ प्रश्न, लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न पूछे जाएंगे। वहीं, आंतरिक मूल्यांकन 30 अंकों का होगा। पास होने के लिए छात्रों को 10 अंक लाने होंगे। इसमें 10 नंबर अटेंडेंस, 10 नवंबर असाइनमेंट और 10 नंबर प्रश्न-उत्तर के होंगे।

UP School Reopen: सोमवार से खुलेंगे नर्सरी से कक्षा 8 तक के सभी स्कूल

कोरोना वायरस के संक्रमण की रफ्तार कम होने के बाद अब उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी स्कूलों को फिर से खोलने का बड़ा फैसला लिया है। 14 फरवरी यानी सोमवार से राज्य में नर्सरी से लेकर कक्षा आठ तक के सभी सरकारी और निजी स्कूल खुल जाएंगे। अब विद्यार्थियों को भौतिक रूप से कक्षाओं में पढ़ने के लिये उपस्थित होना होगा। आनलाइन कक्षाएं नहीं चलेंगी। मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिये हैं।

अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी की ओर से सोमवार से सभी स्कूलों को खोलने के आदेश जारी कर दिए गए हैं।उन्होंने बताया कि कोविड प्रोटोकॉल के साथ सोमवार से सभी स्कूल खोले जाएंगे। अभी तक आनलाइन कक्षाएं चल रही थीं, लेकिन अब कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए भौतिक रूप से कक्षाएं शुरू की जाएंगी। अब आनलाइन कक्षाएं नहीं चलेंगी। कोरोना संक्रमण में लगातार आ रही कमी को देखते हुए यह फैसला किया गया है। हालांकि, इन स्कूलों को कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती के साथ पालन करना होगा।

इससे पहले बीती सात फरवरी को कक्षा नौ से इंटरमीडिएट तक के सभी स्कूल और विश्वविद्यालय व डिग्री कालेजों में भौतिक रूप से कक्षाएं शुरू कर दी गईं थी। इसके बाद से नर्सरी से कक्षा आठ तक के स्कूलों को भी खोलने की लगातार निजी स्कूल मांग कर रहे थे। आखिरकार इन्हें भी खोलने का आदेश गुरुवार को जारी कर दिया गया।

स्कूलों के कक्षाओं के संचालन के लिए दिशा-निर्देश भी जारी किए गए हैं। कक्षाओं की क्षमता के अनुसार 50 प्रतिशत विद्यार्थियों को बैठाया जाएगा। मास्क अनिवार्य रूप से सभी विद्यार्थियों, शिक्षकों व कर्मचारियों को लगाना होगा। स्कूल के मुख्य द्वार पर हेल्प डेस्क बनाई जाएगी। यहां इंफ्रा रेड थर्मामीटर, पल्स आक्सीमीटर इत्यादि की मदद से कोरोना के लक्षण वाले लोगों को चिन्हित किया जाएगा। स्कूल परिसर में सैनिटाइजेशन और साफ-सफाई की भी पुख्ता व्यवस्था की जाएगी। कोविड प्रोटोकाल का पालन कर कक्षाएं संचालित की जाएंगी।

जारी की गई गाइडलाइन

स्कूल परिसर में सभी के लिए मास्क पहनना अनिवार्य है।
यदि किसी को भी जुकाम, बुखार आदि के लक्षण दिखते हैं तो उसे चिकित्सीय सलाह के साथ उनके घर पहुंचाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।
कोई भी आयोजन तब ही किया जाए जब उसमें फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जा सकता हो।
सांस्कृतिक गतिविधियों में कोविड प्रोटोकाल लागू होगा।
स्कूलों को प्रतिदिन सेनेटाइज करना होगा।
प्रवेश करते समय शिक्षकों, कर्मचारियों व छात्र-छात्राओं की थर्मल स्कैनिंग की जाए।
हाथों को सेनेटाइज कराने की व्यवस्था गेट पर ही की जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button