माउंटेन्स टू मैंग्रोव्स – अ जर्नी ऑफ 1000 किलोमीटर

पश्चिम बंगाल में पर्यटन

Deepak Kolhi
ड़ा दीपक कोहली

हाल ही में  भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय ने ‘देखो अपना देश’  की वेबीनार श्रृंखला  के अंतर्गत “माउंटेन्स टू मैंग्रोव्स – अ जर्नी ऑफ 1000 किलोमीटर”  नामक वेबीनार आयोजित किया । इस वेबीनार में पर्वतों से मैंग्रोव तक 1000 किलोमीटर की यात्रा दो सबसे सुरम्य राज्यों- पश्चिम बंगाल और सिक्किम- पर केंद्रित थी।

उल्लेखनीय है कि ये दोनों राज्य पर्यटन की एक विस्तृत श्रृंखला पेश करते हैं, जिसमें साहसिक, आध्यात्मिकता, विरासत, वन्य जीवन और कई अन्य विशेषताएं शामिल हैं। यह यात्रा हिमालय पर्वतश्रेणी के सिक्किम से शुरू होकर पहाड़ों की रानी दार्जिलिंग होते हुए दक्षिण में तटीय क्षेत्र में स्थित गंगा के मैदानों से विश्व के सबसे बड़े डेल्टा सुंदरबन में पूरी हुई।

आध्यात्मिकता,अद्भुत परिदृश्य, चाय बगान, ट्रेकिंग ट्रेल्स, यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल (यथा- दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे एवं सुंदरवन नेशनल पार्क), पश्चिम बंगाल की विरासत एवं औपनिवेशिक समृद्ध वास्तुशिल्प के खजाने से होकर यह यात्रा सम्पन्न हुई है।

दार्जीलिंग की खूबसूरत यात्रा
दार्जीलिंग की खूबसूरत यात्रा

सिक्किम राज्य में प्राकृतिक विपुलता


भारत का सिक्किम राज्य प्राकृतिक रूप से काफी धनी या विपुल है। इसमें विश्व का तीसरा सबसे ऊंचा पर्वत कंचनजंघा, फूलों की अल्पाइन घास के मैदान और पहाड़ी झीलें आदि शामिल हैं।सिक्किम के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में राज्य की राजधानी गंगटोक, पेलिंग, लाचुंग, लाचेन, युमथांग, नाथूला दर्रा, गुरुडोंगमार झील आदि हैं।गौरतलब है कि विदेशियों को सिक्किम जाने के लिए पहले इनर लाइन परमिट के रूप में प्रतिबंधित क्षेत्र परमिट (आएपी) लेना जरूरी होता है।

पश्चिम बंगाल में पर्यटन


भारत के पश्चिम बंगाल राज्य में समृद्ध इतिहास, अद्भूत परिदृश्य, विरासत वास्तुकला, कला एवं शिल्प, जीवंत लोक उत्सव, संगीत-थिएटर-नाटक, पारंपरिक उत्सव, स्वादिष्ट खानपान आदि की प्रचुरता है।इस राज्य में आकर्षक स्थलों की सूची अंतहीन हैं। इनमें कुछ स्थल के नाम इस प्रकार हैं- दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे (यूनेस्को विश्व विरासत स्थल), कलिम्पोंग, दुआर्स, जाल्दापारा, मालदा, बिष्णुपुर, शांतिनिकेतन, कोलकाता-सिटी ऑफ जॉय, सुंदरबन (यूनेस्को विश्व विरासत स्थल) और दीघा समुद्री तट।

सुंदरबन


सुंदरबन, गंगा-ब्रह्मपुत्र डेल्टा में स्थित है। यक एक दलदलीय वन क्षेत्र है।यह भारत (पश्चिम बंगाल) और बांग्लादेश दोनों ही देशों में विस्तृत है।सुंदरबन, यहाँ के जंगलों में पाए जाने वाले सुन्दरी नामक वृक्षों के कारण प्रसिद्ध है।भारत के पश्चिम बंगाल राज्य क्षेत्र में स्थित सुंदरबन को यूनेस्को द्वारा “विश्व धरोहर स्थल”  घोषित किया गया है।सुंदरबन, जैव विविधता की दृष्टि से काफी सम्पन्न क्षेत्र है। इसको रॉयल बंगाल टाइगर के प्राकृतिक आवास के रूप में जाना जाता है। इसके अलावा, यहाँ एशियाई छोटे पंख वाले ऊदबिलाव, गंगा की डॉल्फिन, भूरे और दलदली नेवले और जंगली रीसस बंदर जैसे महत्वपूर्ण जीव भी पाये जाते हैं।भारत सरकार द्वारा वर्ष 1973 में सुंदरबन को टाइगर रिज़र्व घोषित किया गया था तथा वर्ष 1984 में इसे सुंदरबन राष्ट्रीय उद्यान बनाया गया था।

_____________________________________________________
प्रेषक: डॉ दीपक कोहली, संयुक्त सचिव ,पर्यावरण ,वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग ,उत्तर प्रदेश शासन ,5 /104, विपुल खंड, गोमती नगर, लखनऊ- 226010 ( मोबाइल- 9454410037) 

support media swaraj

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button