एमपी की भाजपा सरकार ने विवादास्पद संत कालीचरण की गिरफ़्तारी का विरोध किया

विवादित संत कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी को लेकर अब मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ सरकार आमने-सामने आ गई है. डीजीपी विवेक जौहरी को छत्तीसगढ़ के डीजीपी से बात कर गिरफ्तारी के तरीके पर विरोध जताकर स्पष्टीकरण लेने के निर्देश दिए हैं.

कांग्रेस और बीजेपी सरकार में ठनी

  • कांग्रेस और बीजेपी सरकारों में कालीचरण को लेकर भिड़ंत
  • कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी पर आमने-सामने हुई मध्यप्रेश और छत्तीसगढ़ सरकार

खजुराहो से कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी के बाद मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कड़ी नाराजगी जताई है. गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी छत्तीसगढ़ पुलिस ने जिस तरीके से की है‌, वह संघीय मर्यादाओं के खिलाफ है. गिरफ्तारी से पहले छत्तीसगढ़ पुलिस को सूचना देना चाहिए था. कांग्रेस शासित छत्तीसगढ़ सरकार को इंटरस्टेट प्रोटोकॉल का उल्लंघन नहीं करना चाहिए था.

विवादित संत कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी को लेकर अब मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ सरकार आमने-सामने आ गई है. डीजीपी विवेक जौहरी को छत्तीसगढ़ के डीजीपी से बात कर गिरफ्तारी के तरीके पर विरोध जताकर स्पष्टीकरण लेने के निर्देश दिए हैं.

गौरतलब है कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को अपशब्द कहने और गोडसे को साष्ट्रांग प्रणाम करने वाले कालीचरण महाराज को मध्यप्रदेश के खजुराहो से गिरफ्तार कर लिया गया है.

इसे भी पढ़ें:

कालीचरण महाराज गिरफ्तार, रायपुर धर्म संसद में गांधी का अपमान कर गोडसे को किया था ‘साष्ट्रांग’

रायपुर पुलिस ने कालीचरण को मध्य प्रदेश के खुजराहो से गिरफ्तार किया है. रायपुर में धर्मसंसद के दौरान कालीचरण ने गांधीजी के लिए अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हुए गोडसे को उनकी हत्या करने के लिए धन्यवाद दिया था.

इसके बाद 27 दिसंबर देर रात कालीचरण ने अपने यूट्यूब चैनल में 8 मिनट 51 सेकेंड का एक वीडियो भी जारी किया था, जिसमें अपनी टिप्पणी पर अफसोस जताने के बजाय उसने एक बार फिर गांधीजी के लिए अपशब्द कहे और पटेल की जगह नेहरु को प्रधानमंत्री बनाने के कारण उन्हें राष्ट्रपिता नहीं वंशवाद का जनक बताया था.

वहीं, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस पर पलटवार करते हुए कहा कि कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी से पहले उनके परिवार और वकील को गिरफ्तारी की जानकारी दी गई थी. वहीं कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी के 24 घंटे के अंदर उनको कोर्ट में पेश किया जाएगा. गौरतलब है कि कालीचरण महाराज के खिलाफ छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के माना थाने में FIR दर्ज की गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 + nineteen =

Related Articles

Back to top button