National Flag : राष्ट्रीय ध्वज की आत्मा है ख़ादी ,क़ानून में संशोधन वापस हो

सिबी के. जोसेफ

National Flag भारत ने सोच समझ कर ख़ादी कपड़े का तिरंगा राष्ट्रीय ध्वज स्वीकृत किया था जो हमारे स्वतंत्रता संग्राम का भी प्रतीक है। ख़ादी यानी हाथ से काटा और बुना हुआ सूती, रेशमी या ऊनी कपड़ा। लेकिन भारत सरकार ने क़ानून बदल कर अब देश के राष्ट्रीय ध्वज के लिए मशीन से बने आयातित पोलिएस्टर कपड़े के इस्तेमाल की अनुमति दे दी है। पढ़िए सिबी के. जोसेफ का लेख।

गांधी जी ने जब राष्ट्रीय आंदोलन का नेतृत्व सँभाला, तो 2 नवंबर, 1920 को अंकलेश्वर में लोकमान्य नेशनल स्कूल के उद्घाटन समारोह में दिए गए अपने भाषण में कहा था कि आज स्कूलों के ऊपर जो झंडा फहराता है, वह एक शैतानी सरकार का झंडा है। उनका मानना था कि हम अपने बच्चों को उन स्कूलों में पढ़ाकर गुलाम बनाते हैं, जिन पर शैतानी झंडा फहराता है। बाद में 20 मार्च, 1921 को नवजीवन में लिखे गए एक लेख में गांधी जी ने ‘स्वराज का ध्वज’ विषय पर अपने विचार लिखे। उन्होंने लिखा कि एक बुद्धिमान मित्र ने सुझाव दिया है कि हमारे स्वराज ध्वज पर चरखे का चित्र होना चाहिए। यह विचार मुझे बहुत सुंदर लगा।

…मुझे भी स्वराज के झंडे पर चरखा रखने जैसा आकर्षक कोई और विचार नहीं लगता। मैं इस विचार के लिए उन नेताओं की सराहना करता हूं, जो आगामी कांग्रेस अधिवेशन के प्रभारी होंगे। गांधी जी ने 13 अप्रैल, 1921 को यंग इंडिया में ‘राष्ट्रीय ध्वज’ नामक एक लेख में इस विषय पर फिर लिखा  और तमाम धार्मिक परंपराओं से जुड़े सभी देशवासियों से अपने लिए एक राष्ट्रीय ध्वज और उसका स्वरूप तय करने का आह्वान किया, जिसके लिए जिया और मरा जा सके। उन्होंने आगे सुझाव दिया कि जो लोग मेरे ऊपर विश्वास करते हैं, वे अपने घरों में जल्दी से जल्दी चरखा अपनाएंगे और मेरे द्वारा सुझाए गए डिजाइन का राष्ट्रीय ध्वज रखेंगे। मेरी राय यह है कि झंडा खादी का होना चाहिए, क्योंकि केवल खादी के जरिये ही हम कपड़े के लिए भारत को विदेशी बाजारों से मुक्त कर सकते हैं। 1921 खत्म होते-होते यह राष्ट्रीय ध्वज स्वतंत्रता आंदोलन और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अभिन्न अंग बन गया। खद्दर के कपड़े से बना यह राष्ट्रीय ध्वज स्वतंत्रता आंदोलन के आदर्शों का प्रतीक था और प्रत्येक भारतीय के लिए स्वराज का ध्वज था।

काका कालेलकर के पुत्र सतीश डी. कालेलकर ने 6 जुलाई 1947 को हरिजन में एक लेख लिखा था, जिसमें कहा गया था कि हमारे पहिये में लाल, सफेद और हरे रंग की तीन धारियां हो सकती हैं. आठ तीलियों वाला यह पहिया किसी भी उपयुक्त रंग में हो सकता है। गांधी जी ने सतीश कालेलकर के लेख में यह अंश जोड़ा, ‘पहली डिजाइन के प्रवर्तक के रूप में मुझे कहना चाहिए कि तीन धारियां सभी समुदायों का प्रतिनिधित्व करने वाली थीं और चरखा अहिंसा का प्रतीक था।’ ब्रिटिश सरकार द्वारा भारत को सत्ता हस्तांतरण से पहले राष्ट्रीय ध्वज में सुधार के सुझाव सार्वजनिक चर्चा के केंद्र में थे। गांधी के भाषणों और लेखन में भी यह एक मुख्य विषय था।

22 जुलाई 1947 को नई दिल्ली में एक प्रार्थना सभा में गांधी जी ने कहा, ‘मुझे बताया गया है कि झंडे पर चरखे के बजाय केवल एक पहिया होता है। लेकिन मेरे लिए इसमें कोई ख़ास फर्क नहीं है कि  चरखा रहे या न रहे। यदि वे उसे फेंक भी दें, तब भी वह मेरे हाथ में और मेरे हृदय में तो रहेगा ही।’ आगे उन्होंने कहा, ‘एक मित्र मुझसे कहते हैं कि झंडे पर अभी भी चरखा है। एक और मित्र मुझसे कहते हैं कि झंडे पर चरखा है ही नहीं, मेरे जीवित रहते हुए ही उसे त्याग दिया गया है, मुझे नहीं पता था। मैं इतना जानता हूं कि अगर झंडे पर चरखा रखा भी जाता और लोगों के दिलों में नहीं होता, तो झंडा और चरखा दोनों ही जला देने के लायक होते। अगर चरखे की जगह लोगों के दिलों में होती, तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि इसे झंडे पर रखा गया है या नहीं।’-(प्रार्थना प्रवचन- I, पीपी। 269-72) इस प्रकार यह स्पष्ट है कि गांधी जी चाहते थे कि स्वतंत्र भारत के लोगों के दिलों में चरखा रहना ही चाहिए।

गांधी जी इस तर्क को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं थे कि देश का मूल ध्वज चला गया और स्वतंत्र भारत का नया ध्वज इस नए युग को फिट रखने वालों में से एक होगा। उन्होंने लिखा, ‘लोग कह रहे हैं कि चरखा तो एक बूढ़ी औरत का सुकून और गांधी का खिलौना था, लेकिन स्वराज बूढ़ी महिलाओं के लिए नहीं, योद्धाओं के लिए है, इसलिए हम झंडे पर शेरों के साथ अशोक का प्रतीक चिह्न चाहते हैं. अगर सिंहों को झंडे पर जगह नहीं मिलती है, तो इसका मतलब है कि ये शेर केवल सजाने के लिए हैं. उन्हें कपड़े पर प्रस्तुत नहीं किया जा सकता है। लेकिन शेरों को कहीं न कहीं जरूर दिखना चाहिए। हमारे भीतर काफी हद तक कायरता है। किसी को अभी तक वीरों की अहिंसा का अनुभव नहीं हुआ है। अब जब हम इसे देखेंगे, तो इसके बारे में बात करेंगे। यह जो शेर है, यह जंगल का राजा होता है। भेड़ और बकरियां उसके भोजन हैं। हम खादी पहनकर थक चुके हैं। अब हम कांच के बने कपड़े पहनेंगे। हमारे पूर्वज खुद को ढकने के लिए कपड़े का इस्तेमाल करते थे। हम खुद को सजाने के लिए कपड़े पहनते हैं। वस्त्र ऐसे होने चाहिए जो शरीर के हर अंग को लाभ पहुंचाएं। उन्नत ध्वज को खादी की कोई आवश्यकता नहीं है। हम अपने शहरों की दुकानों की खिड़कियों को खादी से खराब नहीं करना चाहते हैं। गांवों में गरीब हर तरह से खादी पहन सकते हैं। हम इसे अपराध नहीं मानेंगे। अपनी झोपड़ियों में बूढ़ी औरतें चरखे चला सकती हैं। इस नए युग में इसे एक एहसान माना जाना चाहिए।’

गांधी जी चरखे और खादी के महत्व के बारे में बेहद आश्वस्त थे। उन्होंने जोर देकर कहा, ‘मैं उस ध्वज को सलामी देने से इनकार कर दूंगा, जो उपरोक्त पंक्तियों में लिखा गया है, चाहे वह कितना भी कलात्मक क्यों न दीखता हो।’ इसके बावजूद वे नए झंडे के बारे में तमाम तर्कों के सकारात्मक पक्ष को स्वीकार करने के लिए तैयार थे। उन्होंने लिखा, ‘खुशी की बात है कि एक दूसरा पक्ष भी है, जो कहता है कि नया झंडा केवल मूल झंडे का एक बेहतर डिजाइन है। उस पर चरखा बना हुआ है। अब अगर उसकी धुरी और माल नहीं है, तो यह कला की विफलता है। आखिर तस्वीर तो तस्वीर ही होती है। कल्पना के लिए हमेशा कुछ न कुछ शेष रहता ही है। एक चित्र देखा तो चरखे में कोई स्लिवर नहीं था, और न ही कोई स्पिनर इस पर काम कर रहा था। इन्हें कल्पना के लिए छोड़ दिया जाता है। यह नियम ध्वज की बेहतर डिजाइन पर भी लागू होता है।’ लेकिन नया तिरंगा झंडा किस कपड़े पर बनाया जाए, इस बारे में वे कोई रियायत देने को तैयार नहीं थे. उन्होंने इसे बहुत स्पष्ट रूप से निर्दिष्ट किया। उन्होंने लिखा, ‘पहिये के साथ इस तिरंगे झंडे में निश्चित रूप से हाथ से काती और हाथ से बुनी खादी ही होगी। हमारे देश ने इसे खादी कहा है, चाहे वह हाथ से बुनी हुई रुई से बनी हो या रेशम से।’ –(हरिजन बंधु, 3-8-1947)

स्वतंत्र भारत ने संविधान सभा में उचित विचार-विमर्श के बाद (22 जुलाई 1947 की संविधान सभा की बहस देखें) राष्ट्रीय ध्वज के संशोधित संस्करण को अपनाया। नए झंडे में तिरंगा वही केसरिया, सफेद और हरा बना रहा और चरखे को अशोक चक्र से बदल दिया गया, जो कानून के शाश्वत चक्र का प्रतिनिधित्व करता था। झंडा तैयार करने के लिए खादी ही एकमात्र कपड़ा था और किसी भी अन्य सामग्री से बना झंडा फहराने पर जुर्माने के अलावा तीन साल तक की कैद की सजा का प्रावधान था। भारत सरकार के विदेश व्यापार महानिदेशालय ने 11 अक्टूबर 2019 की एक अधिसूचना (संख्या 24 2015/2020) में ध्वज संहिता-2002 के भाग-1 खंड 1.2 के तहत निर्धारित विनिर्देशों का पालन नहीं करने वाले भारतीय राष्ट्रीय ध्वज के आयात पर रोक लगायी है (परिशिष्ट-1 देखें)। गृह मंत्रालय (पब्लिक सेक्शन), भारत सरकार (फाइल नंबर 15/1/2021-पब्लिक) ने इस विषय पर 5 अगस्त, 2021 को फ्लैग एडवाइजरी जारी की थी, जिसमें फ्लैग कोड ऑफ इंडिया-2002 और राष्ट्रीय प्रतीकों की अवमानना की रोकथाम करने वाले ‘राष्ट्रीय सम्मान अधिनियम-1971’ के प्रावधानों का कड़ाई से अनुपालन करने का निर्देश दिया गया था। 

एडवाइजरी में  राष्ट्रीय सम्मान अधिनियम-1971 और भारतीय ध्वज संहिता-2002 की प्रतिलिपि संलग्न की गयी थी। फ्लैग एडवाइजरी में संलग्न भारतीय ध्वज संहिता-2002 में भाग-I के पैराग्राफ 1.2 में लिखा है कि- ‘1.2 भारत का राष्ट्रीय ध्वज हाथ से बुने हुए ऊन/सूती/रेशम खादी से बना होगा।’ इस प्रकार यह स्पष्ट है कि अगस्त 2021 तक राष्ट्रीय ध्वज बनाने के लिए खादी ही एकमात्र कपड़ा था।

राष्ट्रीय ध्वज
ख़ादी कपड़े का बना भारत का राष्ट्रीय ध्वज

भारत सरकार के गृह मंत्रालय (सार्वजनिक अनुभाग) ने 30 दिसंबर, 2021 के एक आदेश में भारतीय ध्वज संहिता (परिशिष्ट-2 देखें) में संशोधन किया। भारतीय ध्वज संहिता-2002 के भाग- I के नए संशोधित पैराग्राफ 1.2 में लिखा है कि- ‘1.2 भारत का राष्ट्रीय ध्वज हाथ से काते और हाथ से बुने हुए सूत या मशीन से बने कपास/पॉलिएस्टर/ऊन/रेशम खादी से बना होगा।’ भारतीय ध्वज संहिता- 2002 का संशोधित संस्करण गृह मंत्रालय की वेबसाइट (www.mha.gov.in) पर उपलब्ध है। खादी से बना राष्ट्रीय ध्वज भारत की विशिष्ट पहचान था और यह देश के स्वतंत्रता आंदोलन के मूल्यों का प्रतीक था। खादी स्वतंत्रता का ताना-बाना थी और गांधी जी चाहते थे कि तिरंगा झंडा हाथ से काती और हाथ से बुनी हुई खादी का हो। इस प्रकार यह नया संशोधन स्वतंत्रता आंदोलन के मूल्यों और गांधी जी की इच्छा के एकदम खिलाफ है।

इस निर्णय के बावजूद 15 जनवरी, 2022 को सेना दिवस मनाने के लिए जैसलमेर में भारत-पाकिस्तान सीमा पर खादी के कपड़े से बने दुनिया के सबसे बड़े राष्ट्रीय ध्वज को एक भव्य सार्वजनिक पटल पर रखा गया था। सूक्ष्म एवं लघु मंत्रालय की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार 2 अक्टूबर 2021 को लेह में इसके अनावरण के बाद से यह राष्ट्रीय ध्वज का 5 वां सार्वजनिक प्रदर्शन था।

इसके अलावा 8 अक्टूबर, 2021 को वायु सेना दिवस के अवसर पर हिंडन एयरबेस में और 21 अक्टूबर 2021 को इसे लाल किले पर भी प्रदर्शित किया गया, जिस दिन भारत में 100 करोड़ कोविड टीकाकरण पूरा किया गया था। 4 दिसंबर 2021 को नौसेना दिवस मनाने के लिए मुंबई में गेटवे ऑफ इंडिया के पास नौसेना डॉकयार्ड में भी स्मारकीय राष्ट्रीय ध्वज प्रदर्शित किया गया था। प्रेस विज्ञप्ति में आगे कहा गया है कि स्मारकीय राष्ट्रीय ध्वज, जो भारतीयता की सामूहिक भावना और खादी की विरासत और शिल्प का प्रतीक है, खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव मनाने के लिए संकल्पित और तैयार किया गया है।  

केवीआईसी ने ध्वज को ऐतिहासिक अवसरों पर प्रमुख स्थानों पर प्रदर्शित करने के लिए रक्षा बलों को सौंप दिया है। फिर सवाल उठता है कि अगर सरकार खादी के झंडे को भारतीयता और हमारी विरासत की सामूहिक भावना मानती है, तो जब देश भारतीय स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ मना रहा है, ऐसे में मशीन से बने पॉलिएस्टर कपड़े को शामिल करने के लिए ध्वज संहिता में संशोधन क्यों किया गया?

यह आश्चर्य की बात है कि हमारे देश की मुख्यधारा की मीडिया में भारतीय ध्वज संहिता के संशोधन पर चर्चा नहीं हुई। हालाँकि, 2 मार्च 2022 को इकोनॉमिक टाइम्स में इस बारे में एक समाचार छपा था। साथ ही कुछ न्यूज चैनलों भी ने इस खबर को कवर किया। अप्रैल 2022 में दस्तकार की चेयरपर्सन लैला तैयबजी ने लिखा, ‘खादी हमारे स्वतंत्रता आंदोलन का ताना-बाना थी, ग्रामीण समुदायों, विशेषकर महिलाओं के लिए रोजगार और कमाई के ख्याल से चरखे पर धागे की कताई और करघे पर ताने-बाने का खेल स्वदेशी और हमारे पारंपरिक हस्तशिल्प को एकाकार करते हैं। गांधी जी और स्वतंत्रता के बाद की पीढ़ियों के लिए राष्ट्रीय ध्वज ने हमारी पहचान, हमारे आदर्शों, हमारी आशाओं और हमारे भविष्य के लिए एक दृष्टि को मूर्त रूप देने का काम किया। 

केंद्र सरकार ने अभी-अभी 2002 के फ्लैग कोड में संशोधन किया है और मशीन से बने राष्ट्रीय झंडों के निर्माण और आयात की अनुमति दी है, जो पॉलिएस्टर से बने हैं! दस्तकार ने पॉलिएस्टर के झंडों को वैध करने के विरोध में एक याचिका भी दाखिल की थी। लेखक और सुप्रीम कोर्ट के वकील अनिल नौरिया ने एक पोस्ट में लिखा कि ‘गांधी ने खादी का प्रचार किया था, क्योंकि यह औपनिवेशिक अर्थव्यवस्था में प्रचलित असमान विनिमय से मुक्ति का प्रतीक था, जिसमें कच्ची कपास जैसी सामग्री भारत और अन्य देशों से खरीदी जाती थी और बदले में तैयार वस्त्र और कपड़ा उत्पाद उन्हें बेचे जाते थे। जवाहरलाल नेहरू ने खादी को ‘स्वतंत्रता की पोशाक’ के रूप में मान्यता दी। इधर कुछ वर्षों में प्रतिकूल वित्तीय परिस्थितियों के कारण भारतीय किसान अपनी जान ले रहे हैं। विडंबना यह है कि इनमें से बड़ी संख्या में कपास उत्पादक हैं, जिन्हें अंतरराष्ट्रीय व्यापार की अनियमितताओं के कारण नुकसान उठाना पड़ा है।

भारत के प्रधान मंत्री ने 2 अक्टूबर 2021 को महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि के रूप में लेह, लद्दाख में प्रदर्शित दुनिया के सबसे बड़े (खादी से बने) राष्ट्रीय ध्वज के लिए खादी ग्रामोद्योग आयोग की पहल की प्रशंसा की थी। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘यह सम्मानित बापू को एक अनूठी श्रद्धांजलि है, जिनका खादी के प्रति जुनून व्यापक रूप से जाना जाता है। इस त्योहारी सीजन में खादी और हस्तशिल्प उत्पादों को अपने जीवन का हिस्सा बनाने पर विचार करें और आत्मनिर्भर भारत बनाने के संकल्प को मजबूत करें।’ अगर सरकार आत्मनिर्भर भारत के लिए प्रतिबद्ध है, तो उसे भारत के ध्वज संहिता के हालिया संशोधन को वापस लेना चाहिए और खादी को राष्ट्रीय ध्वज तैयार करने के लिए एकमात्र कपड़ा बनाना चाहिए। स्वतंत्रता आंदोलन की भावना को आत्मसात करने वाले और गांधीवादी मूल्यों का सम्मान करने वाले सभी देशभक्त लोगों को भारतीय ध्वज संहिता के नए संशोधन को वापस लेने की मांग करनी चाहिए। यह भारतीय स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपिता को सबसे बड़ी श्रद्धांजलि होगी।

लेखक श्री जमनालाल बजाज मेमोरियल लाइब्रेरी एंड रिसर्च सेंटर, सेवाग्राम आश्रम प्रतिष्ठान, सेवाग्राम के निदेशक हैं. 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

17 − fourteen =

Related Articles

Back to top button