सूखे से जूझ रहे बुंदेलखंड के कितने घरों को मिला पानी

उत्तर प्रदेश सरकार का दावा है कि ‘हर घर जल’ योजना के तहत 60,000 से अधिक गांवों में जलापूर्ति संबंधी कार्यों को पूरा कर लिया है.

उत्तर प्रदेश सरकार नमामि गंगे और ग्रामीण जल आपूर्ति विभाग के जरिए प्रदेश के सूखे बुंदेलखंड के सात और विंध्याचल के दो जिलों के हजारों गांव में ‘हर घर नल’ के जरिये जलपूर्ति सुनिश्चित करने की कोशिश कर रही है. सरकार की कोशिश इन इलाकों तक नल के जरिए साफ पानी की आपूर्ति को सुनिश्चित करना है.

‘हर घर नल’ योजना के जरिए अब तक 59,202 घरों में साफ पानी पहुंचाया जा चुका है जिसका लाभ करीब 2,36,808 लोगों को मिला रहा है. रेट्रोफिटिंग (Retrofitting) की इस योजना से 1,02,445 से अधिक घरों में जलापूर्ति की जा रही है और 4,09,780 से अधिक लोग लाभान्वित हुए हैं. सरकार दावा कर रही है कि इस योजना के तहत 60,000 से अधिक गांवों में जलापूर्ति संबंधी कार्यों को पूरा कर लिया है.

बुंदेलखंड और विंध्याचल के नौ जिलों में नमामि गंगे के अधिकारियों और ग्रामीण जल आपूर्ति विभाग द्वारा पुरानी योजनाओं को समयबद्ध तरीके से पूरा किया गया है. सोनभद्र में 10,974 से अधिक घरों में पानी के कनेक्शन दिए जा चुके हैं. मिर्जापुर में 62 रेट्रोफिटिंग योजनाओं में से लगभग 59 को पूरा किया जा चुका है. और 24,150 से अधिक घरों को शुद्ध पानी मिला है. जालौन में कुल 9,156, ललितपुर में 1,450, महोबा में 11,966 और झांसी में 20,969 अधिक परिवार लाभान्वित हुए हैं. हमीरपुर में 10,554 से अधिक, चित्रकूट में 835 और बांदा में 12,391 घरों में जलापूर्ति कनेक्शन प्रदान किए जा चुके है.

झांसी में 1,037 से अधिक घरों में पानी के कनेक्शन दिए गए हैं. ललितपुर में 5,414, जालौन में 5,203, हमीरपुर में 5,779, बांदा में 9,658, चित्रकूट में 2,902 और महोबा में 11,279 घरों में पानी के कनेक्शन दिए गए हैं. इसके अलावा, सरकार मिर्जापुर में 17,930 से अधिक घरों और सोनभद्र में 3,21,403 घरों को पानी के घरेलू कनेक्शन प्रदान करने के लिए भी काम कर रही है.

बुंदेलखंड में चल रही दो योजनाओं के माध्यम से महोबा में 5,062, जालौन में 1,189 घरों, झांसी में 2,400, ललितपुर में 5,184 और से अधिक घरों में पानी के कनेक्शन दिए गए हैं. हमीरपुर में 1,686 परिवारों, चित्रकूट में 1,219 और बांदा में 4,596 परिवारों को भी पानी के कनेक्शन दिए गए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button