नवरात्रि के दूसरे दिन करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा, शत्रु पर करेंगे विजय प्राप्त

नवरात्रि का दूसरा दिन, मां ब्रह्मचारिणी की होती है पूजा

Second Day of Navratri 2021: 7 अक्टूबर 2021 से नवरात्रि का पावन पर्व आरंभ हो चुका है. 8 अक्टूबर 2021, शुक्रवार को मां ब्रह्मचारिणी (Brahmacharini) की पूजा की जाएगी.

मां ब्रह्मचारिणी (Maa Brahmacharini)

शास्त्रों में मां ब्रह्मचारिणी को मां दुर्गा का विशेष स्वरूप माना गया है. नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी को समर्पित है. मान्यता है कि मां ब्रह्मचारिणी की आराधना से तप, शक्ति, त्याग, सदाचार, संयम और वैराग्य में वृद्धि होती है. इससे हम शत्रुओं को पराजित कर उन पर विजय प्राप्त करते हैं. नवरात्रि पर विधि पूर्वक पूजा करने से मां ब्रह्मचारिणी सभी मनाकोमनाओं को पूर्ण कर जीवन में आने वाली परेशानियों को दूर करती हैं.

मां ब्रह्मचारिणी की पूजा का महत्व

पौराणिक कथाओं में मां ब्रह्मचारिणी को महत्वपूर्ण देवी के रूप में माना गया है. मां ब्रह्मचारिणी नाम का अर्थ तपस्या और चारिणी यानि आचरण से है. मां ब्रह्मचारिणी को तप का आचरण करने वाली देवी माना गया है.

मां ब्रह्मचारिणी का स्वरूप

मां ब्रह्मचारिणी के दाहिने हाथ में तप की माला और बाएं हाथ में कमण्डल है. मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने से जीवन में तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार और संयम प्राप्त होता है. मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने से आत्मविश्वास में भी वृद्धि होती है. जीवन की सफलता में आत्मविश्वास का अहम योगदान माना गया है. मां ब्रह्मचारिणी की कृपा प्राप्त होने से व्यक्ति संकट आने पर घबराता नहीं है.

मां दुर्गा के इस स्वरूप मां ब्रह्माचारिणी की पूजा करें. उन्हें अक्षत, फूल, रोली, चंदन आदि अर्पित करें. मां को दूध, दही, घृत, मधु और शक्कर से स्नान कराएं. मां ब्रह्मचारिणी को पान, सुपारी, लौंग भी चढ़ाएं.

शुक्रवार को प्रात: उठकर नित्यकर्मों से निवृत्त होकर स्नान करें. स्वच्छ वस्त्र धारण कर पूजा स्थल पर विराजें. मां दुर्गा के इस स्वरूप मां ब्रह्माचारिणी की पूजा करें. उन्हें अक्षत, फूल, रोली, चंदन आदि अर्पित करें. मां को दूध, दही, घृत, मधु और शक्कर से स्नान कराएं. मां ब्रह्मचारिणी को पान, सुपारी, लौंग भी चढ़ाएं.

इसके बाद मंत्रों का उच्चारण करें. हवनकुंड में हवन करें साथ ही इस मंत्र का जाप करते रहें-

मां ब्रह्मचारिणी को प्रसन्न करने का मंत्र- ऊँ ब्रां ब्रीं ब्रूं ब्रह्मचारिण्यै नम:.

इसके उपरांत स्थापित कलश, नवग्रह, दशदिक्पाल, नगर देवता और ग्राम देवता की पूजा करनी चाहिए.

मंत्र-

श्लोक
दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलु| देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा ||

ध्यान मंत्र

वन्दे वांछित लाभायचन्द्रार्घकृतशेखराम्।
जपमालाकमण्डलु धराब्रह्मचारिणी शुभाम्॥
गौरवर्णा स्वाधिष्ठानस्थिता द्वितीय दुर्गा त्रिनेत्राम।
धवल परिधाना ब्रह्मरूपा पुष्पालंकार भूषिताम्॥
परम वंदना पल्लवराधरां कांत कपोला पीन।
पयोधराम् कमनीया लावणयं स्मेरमुखी निम्ननाभि नितम्बनीम्॥

शुभ मुहूर्त-
ब्रह्म मुहूर्त- 04:39 ए एम से 05:29 ए एम
अभिजित मुहूर्त- 11:45 ए एम से 12:32 पी एम
विजय मुहूर्त- 02:05 पी एम से 02:52 पी एम
गोधूलि मुहूर्त- 05:47 पी एम से 06:11 पी एम
अमृत काल- 11:00 ए एम से 12:27 पी एम
निशिता मुहूर्त- 11:44 पी एम से 12:33 ए एम, अक्टूबर 09
रवि योग- 06:59 पी एम से 06:18 ए एम, अक्टूबर 09

अशुभ मुहूर्त-
राहुकाल- 10:41 ए एम से 12:08 पी एम
यमगण्ड- 03:04 पी एम से 04:31 पी एम
गुलिक काल- 07:45 ए एम से 09:13 ए एम
विडाल योग- 06:18 ए एम से 06:59 पी एम
दुर्मुहूर्त- 08:38 ए एम से 09:25 ए एम

मां ब्रह्मचारिणी का मंत्र:
या देवी सर्वभू‍तेषु ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

मां ब्रह्मचारिणी की आरती:
जय अंबे ब्रह्माचारिणी माता।
जय चतुरानन प्रिय सुख दाता।
ब्रह्मा जी के मन भाती हो।
ज्ञान सभी को सिखलाती हो।
ब्रह्मा मंत्र है जाप तुम्हारा।
जिसको जपे सकल संसारा।
जय गायत्री वेद की माता।
जो मन निस दिन तुम्हें ध्याता।
कमी कोई रहने न पाए।
कोई भी दुख सहने न पाए।
उसकी विरति रहे ठिकाने।
जो ​तेरी महिमा को जाने।
रुद्राक्ष की माला ले कर।
जपे जो मंत्र श्रद्धा दे कर।
आलस छोड़ करे गुणगाना।
मां तुम उसको सुख पहुंचाना।
ब्रह्माचारिणी तेरो नाम।
पूर्ण करो सब मेरे काम।
भक्त तेरे चरणों का पुजारी।
रखना लाज मेरी महतारी।

मां ब्रह्मचारिणी की कथा (Vrat Katha)

एक कथा के अनुसार पूर्वजन्म में मां ब्रह्मचारिणी पर्वतराज हिमालय की पुत्री हैं. भगवान शंकर को पति रूप में प्राप्त करने के लिए मां ब्रह्मचारिणी ने कठोर तप किया. इसीलिए इन्हें ब्रह्मचारिणी कहा गया. पौराणिक कथा के अनुसार मां ब्रह्मचारिणी ने एक हजार वर्ष तक फल-फूल खाकर बिताए और सौ वर्षों तक केवल जमीन पर रहकर शाक पर निर्वाह किया.

इसके बाद मां ने कठिन उपवास रखे और खुले आकाश के नीचे वर्षा और धूप को सहन करती रहीं. टूटे हुए बिल्व पत्र खाए और भगवान शंकर की आराधना करती रहीं. भोले नाथ प्रसन्न नहीं हुए तो उन्होने सूखे बिल्व पत्र खाना भी छोड़ दिए और कई हजार वर्षों तक निर्जल और निराहार रह कर तपस्या करती रहीं.

पत्तों को खाना छोड़ देने के कारण इनका नाम अपर्णा नाम पड़ गया. मां ब्रह्मचारणी कठिन तपस्या के कारण बहुत कमजोर हो गईं. इस तपस्या को देख सभी देवता, ऋषि, सिद्धगण, मुनि सभी ने उनकी सराहाना की और उनकी मनोकामना पूर्ण होने का उन्हें आशीर्वाद दिया.

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × 3 =

Related Articles

Back to top button