“भारत – ब्रह्मचर्य, राम और भगवद् गीता का संगम”

जब तक विचारों का इतना अंकुश प्राप्त नहीं होता कि इच्छा के बिना एक भी विचार मन में न आये, तब तक ब्रह्मचर्य सम्पूर्ण नहीं कहा जा सकता। विचार-मात्र विकार हैं, मन को वश में करना; और मन को वश में करना वायु को वश में करने से भी कठिन है।

(महात्मा गांधी)

(महात्मा गांधी की आत्मकथा ‘सत्य के प्रयोग’ से) “… ब्रह्मचर्य का अर्थ है, मन-वचन से समस्त इन्द्रियों का संयम। इस संयम के लिए ऊपर बताये गये त्यागों की आवश्यकता है, इसे मैं दिन-प्रतिदिन अनुभव करता रहा हूँ और आज भी कर रहा हूँ। त्याग के क्षेत्र की सीमा ही नहीं है, जैसे ब्रह्मचर्य की महिमा की कोई सीमा नहीं हैं। ऐसा ब्रह्मचर्य अल्प प्रयत्न से सिद्ध नहीं होता। करोड़ों लोगों के लिए वह सदा केवल आदर्श रूप ही रहेगा।

क्योंकि प्रयत्नशील ब्रह्मचारी अपनी त्रुटियों का नित्य दर्शन करेगा, अपने अन्दर ओने-कोने में छिपकर बैठे हुए विकारों को पहचान लेगा और उन्हें निकालने का सतत प्रयत्न करेगा।

जब तक विचारों का इतना अंकुश प्राप्त नहीं होता कि इच्छा के बिना एक भी विचार मन में न आये, तब तक ब्रह्मचर्य सम्पूर्ण नहीं कहा जा सकता। विचार-मात्र विकार हैं, मन को वश में करना; और मन को वश में करना वायु को वश में करने से भी कठिन है। फिर भी यदि आत्मा है, तो यह वस्तु भी साध्य है ही। हमारे मार्ग में कठिनाइयाँ आकर बाधा डालती हैं, इससे कोई यह न माने कि वह असाध्य हैं। और परम अर्थ के लिए परम प्रयत्न की आवश्यकता हो तो उसमें आश्चर्य ही क्या।

परन्तु ऐसा ब्रह्मचर्य केवल प्रयत्न साध्य नहीं है, इसे मैंने हिन्दुस्तान में आने के बाद अनुभव किया। कहा जा सकता है कि तब तक मैं मूर्च्छावश था।

मैंने यह मान लिया था कि फलाहार से विकार समूल नष्ट हो जाते हैं और मैं अभिमान पूर्वक यह मानता था कि अब मेरे लिए कुछ करना बाकी नही है।

पर इस विचार के (आत्मकथा के) प्रकरण तक पहुँचने में अभी देर है।

इस बीच इतना कह देना आवश्यक है, कि ईश्वर-साक्षात्कार के लिए जो लोग मेरी व्याख्या वाले ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहते हैं, वे यदि अपने प्रयत्न के साथ ही ईश्वर पर श्रद्धा रखने वाले हों, तो उनकी निराशा का कोई कारण नहीं रहेगा।

विषया विनिवर्तन्ते निराहारस्य देहिनः। रसवर्जं रसोऽप्यस्य परं दृष्ट्वा निवर्तते॥
(गीता 2 . 59)

(निराहारी के विषय तो शान्त हो जाते हैं, पर उसकी वासना का शमन नहीं होता। ईश्वरदर्शन से वासना भी शान्त हो जाती है।)

अतएव आत्मार्थी के लिए रामनाम और रामकृपा ही अन्तिम साधन हैं, इस वस्तु का साक्षात्कार मैंने हिन्दुस्तान में ही किया।

(-सत्य के प्रयोग (आत्मकथा) 3/8 में से)

इसे भी पढ़ें:

थक गया हूँ इन घडों को ढ़ोते- ढ़ोते

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button