पाँच अप्रैल की शाम बिजली ग्रिड के सुरक्षित सञ्चालन की तैयारी

पावर इंजीनियर्स फ़ेडेरेशन ने लोगों से धैर्य रखने की अपील की

ऑल इण्डिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन ने देश भर के बिजली अभियंताओं और कर्मियों से अपील की है कि वे बिजली ग्रिड के सुरक्षित और सुचारु संचालन हेतु सभी आवश्यक कार्य सुनिश्चित करें | फेडरेशन ने आम नागरिकों से अपील की है कि बिजली कर्मचारियों के साथ पूरा सहयोग करे | बिजली कर्मी ग्रिड देख रहे हैं फिर भी यदि कही कोई कठिनाई आती है तो धैर्य बनाये रखे बिजली कर्मी बिजली का सुचारु संचालन सुनिश्चित करने में लगे हैं  |

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अपील पर कोरोना की महामारी को मात देने हेतु सम्पूर्ण देशवासी 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए घरों की बिजली बंद कर दीपक जला कर एकता का प्रदर्शन करेंगे । उस समय बिजली सप्लाई अचानक कम होने से ग्रिड को बचाने के लिए देशभर के बिजली इंजीनियर, जूनियर इंजीनियर  व् कर्मचारी कम पर लगाए गए हैं। ये लोग बिजली ग्रिड के सुरक्षित सञ्चालन की तैयारी  में जुटे हैं |  

ऑल इण्डिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन के चेयरमैन शैलेन्द्र दुबे ने कल प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को पत्र मेल कर यह अनुरोध किया था कि वे विद्युत् मंत्रालय और केंद्रीय विद्युत् एजेंसियों को निर्देश दें कि वे स्थिति की समीक्षा कर राज्यों के साथ संपर्क करें और उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश दें जिससे 05 अप्रैल को रात 09 बजे पूरे देश में एक साथ बिजली बंद होने से आने वाले जर्क के कारण ग्रिड डिस्टर्ब  न हो और उसका सुचारु संचालन होता रहे | 

प्रधानमंत्री कार्यालय और केंद्रीय विद्युत् मंत्रालय द्वारा इस पत्र के बाद की गई त्वरित कार्यवाही की प्रशंसा करते हुए शैलेन्द्र दुबे ने बताया कि राज्यों को दिशा निर्देश दिए जा रहे हैं और ग्रिड के सुचारु संचालन की तैयारी चल रही हैं |

ऑल इण्डिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन ने नेशनल लोड डिस्पैच सेंटर , रीजनल लोड डिस्पैच सेंटर और स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर के अभियंताओं की तारीफ़ की है जो कल से ही लगातार सारी व्यवस्था ठीक बनाये रखने में दिनरात जुटे हैं | फेडरेशन ने 765 केवी ,400 केवी ग्रिड सबस्टेशन के इन्चार्ज अभियंताओं से देश भर में अपील की है कि वे  बिजली  उपकेंद्रों के सुचारु सञ्चालन हेतु स्वयं मुस्तैद रहें |  इसी प्रकार ताप और जल विद्युत् ग्रहों के अभियंता भी दिशा निर्देशों का पालन करते हुए उत्पादन इकाइयों का संचालन सुनिश्चित करेंगे |

जानकर लोगों का कहना है कि ग्रिड को बचाने की  इस सारी कार्यवाही में काफ़ी धनराशि खर्च करनी होगी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles