UK में महानगर व्यापार की मांग, रात को ही करवाए जाएं स्मार्ट सिटी के कार्य

दून महानगर व्यापार प्रकोष्ठ ने जिला प्रशासन से स्मार्ट सिटी के कार्य रात को ही करवाने की मांग की है। कहा कि दिन में कार्य के चलते व्यापार प्रभावित हो रहा है। कोरोनाकाल के कारण व्यापारी पहले ही काफी नुकसान झेल रहे हैं, इसलिए यह व्यवस्था जल्द की जानी चाहिए। इस संबंध में व्यापारियों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन भेजा है।

महानगर व्यापार प्रकोष्ठ के अध्यक्ष सुनील कुमार बांगा की अध्यक्षता में हुई बैठक मे व्यापारियों ने कहा कि छोटे व्यापारी पहले ही अपने व्यापार में बहुत नुकसान झेल चुके हैं। एक तरफ कोरोना की मार दूसरी तरफ गड्ढ़ों से उठ रही धूल से व्यापारी पिछले आठ महीने से परेशान हैं। सरकार को छोटे व्यापारियों की कोई चिंता नहीं है।

व्यापारियों ने प्रशासन से आग्रह किया कि वह सभी विभागों की बैठक कर निर्माण के बारे में चर्चा करे, फिर सड़क की खोदाई शुरू करें। साथ ही कहा कि जो कार्य पहले शुरू किए हैं, उन्हें पूरा किया जाए। उसके बाद ही नए कार्यो को शुरू किया जाए। बैठक में नदीम बैग, प्रवीण बांगा, राहुल कुमार, रवि फुकेला, महताब आलम, गगन कुकरेजा, शेखर कपूर, प्रवीण अरोड़ा, फुजल अहमद, रोहित कपूर, राजेश मित्तल, योगेश भटनागर आदि मौजूद रहे।

आस्था पथ की शांति छीन रहे दोपहिया
त्रिवेणी घाट से बैराज तक करीब चार किलोमीटर लंबे आस्था पथ में फर्राटा भर रहे दुपहिया वाहन पैदल चलने वालों के लिए मुसीबत बने हैं। नगर निगम प्रशासन ने यहां कोई भी सुरक्षाकर्मी तैनात नहीं किया है। पुलिस की कार्रवाई से कुछ दिन सब ठीक रहता है फिर यही समस्या पैदा हो जाती है। गंगा तट पर निर्मित आस्था पथ सुबह और शाम में भ्रमण करने वाले विशेष रूप से बुजुर्ग नागरिकों के लिए पसंदीदा जगह बना हुआ है।

पहले इंद्रमणि बडोनी चौक से देहरादून रोड में स्थानीय लोग बड़ी संख्या में सुबह घूमने पर जाया करते थे। इस क्षेत्र में हाथियों की बढ़ती आमद के कारण विशेष रूप से वरिष्ठ नागरिकों ने जाना बंद कर दिया है। त्रिवेणी घाट से बैराज तक बने आस्था पथ को भ्रमण के लिए सबसे सुरक्षित और स्वास्थ्य वर्धक समझा जाता है।

support media swaraj

Related Articles

Back to top button