ओमीक्रान वैरिएंट पर विश्व वैज्ञानिकों के अध्ययन में भारत और आयुर्वेद की स्थिति

कोविड के ओमीक्रान वैरिएंट (रूपान्तरण) पर आज दुनिया के वैज्ञानिक तेजी से अध्ययन में लगे हुए हैं। तेज सूचना की तकनीक के इस दौर में इसका आतंक फैल चुका है। इस संबंध में बांग्लादेश के ढाका में चाइल्ड हेल्थ रिसर्च फाउंडेशन के आणविक सूक्ष्म जीवविज्ञानी और निदेशक सेनजुति साहा कहते हैं- मैं जहां भी जाता हूं, हर कोई कहता है: हमें ओमाइक्रोन के बारे में और बताएं, क्या हो रहा है, क्या यह सच है? जबकि वैज्ञानिकों के लिए भी अभी इसे समझना शेष है।"

डॉ.आर.अचल

कोविड के ओमीक्रान वैरिएंट (रूपान्तरण) पर आज दुनिया के वैज्ञानिक तेजी से अध्ययन में लगे हुए हैं। बोत्सवाना और दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिक दुनिया को तेजी से फैलने वाले सार्स कोवि-2 के नये संस्करण के प्रति सावधान करने की चेतावनी देते हुए तेजी से शोध में लगे हुए हैं। इस क्रम में फ्लू के इस नये संस्करण का नाम ओमीक्रान दिया गया है। बता दें कि संस्करण का नामकरण अध्य़यन की सुविधा के लिए दिया जाता है।

दुनिया भर के शोधकर्ता ओमीक्रान के खतरे को समझने के लिए तेजी से काम कर रहे हैं। अभी तक 20 देशों में इसके संक्रमण की पुष्टि की गयी है। परन्तु ओमीक्रान की संरचना-प्रसार गति और प्रभाव को समझने में अभी अधिक समय लगने की संभावना व्यक्त की गयी है। इसके साथ ही इससे बचाव के टीके जैसे उपाय पर भी तेजी से काम किया जा रहा है। वैसे फ्लू अर्थात सर्दी-जुकाम के टीकों और दवाओं की खोज मुश्किल काम है क्योंकि देश-काल के अनुसार इसका रूप तेजी से बदलता रहता है। यहाँ तक कि इसका प्रभाव वैयक्तिक रूप में भी देखा जाता है। परन्तु तेज सूचना की तकनीक के इस दौर में इसका आतंक फैल चुका है। इस संबंध में बांग्लादेश के ढाका में चाइल्ड हेल्थ रिसर्च फाउंडेशन के आणविक सूक्ष्म जीवविज्ञानी और निदेशक सेनजुति साहा कहते हैं- मैं जहां भी जाता हूं, हर कोई कहता है: हमें ओमाइक्रोन के बारे में और बताएं, क्या हो रहा है, क्या यह सच है? जबकि वैज्ञानिकों के लिए भी अभी इसे समझना शेष है।”

दुनिया की प्रसिद्ध विज्ञान रिसर्च जर्नल ‘नेचर’ ने वैज्ञानिकों के प्रयासों का आंकलन कर उसे प्रकाशित किया है, जिसके अनुसार दक्षिण अफ्रीका में ओमीक्रोन का तेज प्रसार शोधकर्ताओं के चिंता का कारण बना हुआ है। क्योंकि ओमीक्राम की यह तेज प्रसार गति कोविड-19 से अधिक विस्फोटक प्रसार का संकेत करता है।

दक्षिण अफ्रीका के जोहन्सबर्ग के गौंतेंय क्षेत्र में 26 नवम्बर तक 3402 संक्रमित व्यक्तियों की पहचान की गयी, लेकिन 1 दिसम्बर को यह संख्या बढ़कर 8561 हो गयी।संक्रमितों की पहचान के लिए महामारी वैज्ञानिकों द्वारा प्रयोग की जाने वाली तकनीक को संकेत में “R” कहा जाता है। संक्रमितों द्वारा संक्रमण प्रसार के नये मामलों की औसत संख्य़ा नवम्बर के अंत तक दक्षिण अफ्रिका के राष्ट्रीय संचारी रोग संस्थान (एन.आई.सी.डी.) के अनुसार गौतेंय प्रान्त में “R” 2 से ऊपर पाया गया।

ओमीक्रान के प्रसार गति के विषय पर रिचर्ड सेल्स व क्वाजुलु नताल में एक संक्रामक रोग चिकित्सक ने दक्षिण अफ्रिका के विश्वविद्यालय में पिछले हप्ते एक प्रेसवार्ता में यह बताया कि सितंबर में गौतेंग का “R” मानक 1 से नीचे था, इस समय डेल्टा संस्करण प्रमुख था, जिसका प्रसार तेजी से कम हो रहा था। इससे तुलना करते हुए चिकित्सक ने बताया कि ओमीक्रान में डेल्टा की तुलना में बहुत तेजी से फैलने और बहुत अधिक लोगों को संक्रमित करने की क्षमता है।
इस क्रम में केयू-ल्यूवेन (बेल्जियम) के जीवविज्ञानी टॉम वेंसलीर्स का अनुमान है कि कोविड-19 के संक्रमण की वृद्धि और अनुक्रमण डेटा के आधार पर, एक ही समय ओमीक्रान, डेल्टा से 3-6 गुना अधिक लोगों को संक्रमित कर सकता है।

स्विट्ज़रलैंड के बर्न विश्वविद्यालय में एक कम्प्यूटेशनल महामारी विज्ञानी क्रिश्चियन अल्थॉस कहते हैं, शोधकर्ता यह देख रहे हैं कि दक्षिण अफ्रीका के अन्य हिस्सों में और विश्व स्तर पर ओमिक्रॉन कैसे फैलता है?

स्विट्ज़रलैंड के बर्न विश्वविद्यालय में एक कम्प्यूटेशनल महामारी विज्ञानी क्रिश्चियन अल्थॉस कहते हैं, शोधकर्ता यह देख रहे हैं कि दक्षिण अफ्रीका के अन्य हिस्सों में और विश्व स्तर पर ओमिक्रॉन कैसे फैलता है? दक्षिण अफ्रीका में अत्यधिक निगरानी के कारण शोधकर्ता ओमाइक्रोन की तीव्र वृद्धि का अनुमान लगा सकते हैं, जबकि अन्य देशों, जहाँ निगरानी की समुचित व्यवस्था नहीं है, वहाँ ऐसा करना संभव नहीं है। लेकिन यदि यह पैटर्न अन्य देशों में दोहराया जाता है, तो ओमीक्रान के प्रसार गति के अध्ययन में बड़ी सफलता मिल सकती है।

आगे अल्थौस कहते हैं कि अगर ऐसा नहीं होता है तो यूरोपीय देशों में अध्ययन थोड़ा कठिन होगा। यहाँ यह भी ध्यान देने योग्य है कि मजबूत इम्यूनिटी के लोगों में इसके प्रभाव का पता नहीं चलता है इसलिए इसके विषय में स्थिति को स्पष्ट करने के लिए अभी इन्तजार करना होगा।

क्योंकि ओमीक्रोन मामलों की पुष्टि के लिए जीनोम अनुक्रमण (genome sequencing) की आवश्यकता होती है, हालांकि पीसीआर परीक्षण कुछ हद तक पहचान की जा सकती हैं, जो इसे डेल्टा से अलग करता है। इस संकेत के आधार पर प्रारंभिक संकेत हैं कि यूनाइटेड किंगडम में ऐसे लक्षण के रोगियों की संख्या अच्छी-खासी दिख रही है, जो वास्तव में ओमीक्राम ही है। यह निश्चित तौर पर नहीं कहा जा सकता है, अभी इसे देखना होगा।

ओमाइक्रान टीकों या संक्रमण से प्रतिरक्षा

दक्षिण अफ्रीका में वैरिएंट का तेजी से बढ़ना संकेत देता है कि इसमें प्रतिरक्षा को दूर करने की कुछ क्षमता है। महामारी की शुरुआत के बाद से बढ़ी हुई मृत्यु दर के आधार पर, दक्षिण अफ्रीका के लगभग एक-चौथाई लोगों को पूरी तरह से टीका लगाया गया है, और यह संभावना है कि आबादी का एक बड़ा हिस्सा ओमीक्राम से पहले दौर में ही संक्रमित हो चुका था।

इस संदर्भ में दक्षिणी अफ्रीका में ओमाइक्रोन की सफलता मोटे तौर पर उन लोगों को संक्रमित करने की क्षमता के कारण हो सकती है, जो डेल्टा और अन्य प्रकारों के कारण होने वाले कोविड-19 से उबर चुके थे या उनका टीकाकरण हो चुका था।

एनआईसीडी के शोधकर्ताओं के अनुसार 2 दिसंबर के प्रीप्रिंट 1 में पाया गया कि दक्षिण अफ्रीका में पुन: संक्रमण में जैसे-जैसे ओमाइक्रोन फैल गया है, वैसे-वैसे संक्रमण के लक्षणों में वृद्धि हुई। दुर्भाग्य से, यह प्रतिरक्षा से बचने के रूपों को विकसित करने के लिए एकदम सही वातावरण है, अल्थौस के अनुसार यह हर्ड इम्यूनिटी का समय रहा है।

इस संदर्भ में यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड, यूके में वायरल इवोल्यूशन के विशेषज्ञ एरिस काट्ज़ोराकिस कहते हैं, वैरिएंट कहीं और कितनी अच्छी तरह फैलता है, यह टीकाकरण और पूर्व संक्रमण दर जैसे कारकों पर निर्भर हो सकता है। यदि इसे अत्यधिक टीकाकरण वाली आबादी में फैला कर अन्य नियंत्रण उपायों को छोड़ दिया जाता है तो इसके बढ़ने की संभावना अधिक हो सकती है।

प्राकृतिक इम्यूनिटी एवं वैक्सीन इम्यूनिटी और ओमीक्रान का अध्ययन

आगे शोधकर्ता ओमीक्रान के प्रभाव को प्राकृतिक रोगप्रतिरक्षा और वैक्सीन से प्राप्त रोगप्रतिरक्षा के संदर्भ में भी अध्ययन कर रहे हैं। दक्षिण अफ्रिका के राष्ट्रीय संचारी रोग संस्थान के एक वायरोलॉजिस्ट पेनी मूर और जोहान्सबर्ग में यूनिवर्सिटी ऑफ विटवाटरसैंड के नेतृत्व में एक टीम, ओमीक्रॉन को संक्रमित कोशिकाओं से रोकने के लिए पिछले संक्रमण और टीकाकरण से उत्पन्न एंटीबॉडी को निष्क्रिय करने, या वायरस-अवरुद्ध करने की क्षमता को माप रही है।

एक प्रयोगशाला परीक्षण उनकी टीम ‘स्यूडोवायरस’ कण बना रही है। एचआईवी का एक तकनीशियन इस संस्करण से स्वस्थ कोशिकाओं को संक्रमित करने के लिए ओमीक्रान के स्पाइक प्रोटीन का उपयोग कर रहा है।

डरबन में अफ्रीकी स्वास्थ्य अनुसंधान संस्थान में वायरोलॉजिस्ट एलेक्स सिगल के नेतृत्व में दक्षिण अफ्रीका की एक अन्य टीम संक्रामक सार्स कोवि-2 कणों का उपयोग करके वायरस को निष्क्रिय करने वाले एंटीबॉडी पर समान परीक्षण कर रही है।

डरबन में अफ्रीकी स्वास्थ्य अनुसंधान संस्थान में वायरोलॉजिस्ट एलेक्स सिगल के नेतृत्व में दक्षिण अफ्रीका की एक अन्य टीम संक्रामक सार्स कोवि-2 कणों का उपयोग करके वायरस को निष्क्रिय करने वाले एंटीबॉडी पर समान परीक्षण कर रही है।

गैल्वेस्टन में टेक्सास मेडिकल ब्रांच विश्वविद्यालय में एक वायरोलॉजिस्ट पे-योंग शी के नेतृत्व में एक टीम है, जो यह निर्धारित करने के लिए फाइजर-बायोएनटेक के साथ सहयोग कर रही है कि इसका टीका ओमाइक्रोन के खिलाफ कितना प्रभावी है। इस सभी वैज्ञानिकों का कहना है कि ओमीक्राम के संबंध में कुछ भी निश्चित करने के लिए अभी समय की आवश्यकता है।

वैज्ञानिकों के अनुसार ओमाइक्रान के स्पाइक म्यूटेशन के पिछले अध्ययन- विशेष रूप से उस क्षेत्र में, जो मानव कोशिकाओं पर रिसेप्टर्स को पहचानते हैं, वे वेरिएंट एंटीबॉडी को निष्क्रिय करने की शक्ति को कुंद कर देंगे। उदाहरण के लिए, सितंबर 2021 नेचर पेपर-2 में, न्यूयॉर्क शहर में रॉकफेलर यूनिवर्सिटी के एक वायरोलॉजिस्ट पॉल बिएनियाज़ के सह-नेतृत्व वाली एक टीम ने स्पाइक के एक अत्यधिक उत्परिवर्तित संस्करण का अध्ययन किया। जिसके अनुसार यह वायरस कोविड-19 के लक्षण पैदा करने में असमर्थ है परन्तु ओमाइक्रोन के साथ उत्परिवर्तन (पॉलीमुटेंट स्पाइक) उन अधिकांश लोगों के एंटीबॉडी को बेअसर करने के लिए पूरी तरह से प्रतिरोधी साबित हुआ, जिनका उन्होंने परीक्षण किया था, जिन्हें या तो आरएनए वैक्सीन की दो खुराक मिली थी या सीओवीआईडी-19 से प्राप्त किया था। वे आशान्वित हैं कि यह एक महत्वपूर्ण सफलता होगी।

ओमाइक्रान पर टीकों का प्रभाव

यदि ओमाइक्रान बेअसर करने वाले एंटीबॉडी को चकमा दे सकता है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि टीकाकरण और पूर्व संक्रमण से शुरू होने वाली प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया संस्करण के खिलाफ टीके कोई सुरक्षा प्रदान नहीं करेंगे। प्रतिरक्षा अध्ययनों से पता चलता है कि एंटीबॉडी को निष्क्रिय करने के अपेक्षाकृत निम्न स्तर लोगों को सीओवीआईडी-19 के गंभीर रूपों से बचा सकते हैं।

ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय के एक इम्यूनोलॉजिस्ट माइल्स डेवनपोर्ट कहते हैं कि प्रतिरक्षा प्रणाली के अन्य भाग, विशेष रूप से टी कोशिकाएं, एंटीबॉडी प्रतिक्रियाओं की तुलना में ओमाइक्रोन के उत्परिवर्तन से कम प्रभावित हो सकती हैं।

दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं ने टी कोशिकाओं और प्राकृतिक हत्यारे कोशिकाओं नामक एक अन्य प्रतिरक्षा सैनिक की गतिविधि को मापने की योजना बनाई है, जो विशेष रूप से गंभीर सीओवीआईडी-19 से सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण हो सकती है।

दक्षिण अफ्रिका के कोविड-19 वैक्सीन परीक्षणों का नेतृत्व करने वाले विटवाटरसैंड विश्वविद्यालय के एक वैक्सीनोलॉजिस्ट शब्बीर माधी कहते हैं कि ओमाइक्रोन के खिलाफ टीकों की प्रभावशीलता के महामारी विज्ञान अध्ययन करने के प्रयासों का भी हिस्सा हैं। दक्षिण अफ्रीका में प्रशासित सभी तीन टीकों- जॉनसन एंड जॉनसन, फाइजर-बायोएनटेक और ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका में सफलता के संक्रमण की महत्वपूर्ण रिपोर्टें हैं। लेकिन माधी का कहना है कि शोधकर्ता टीकों द्वारा प्रदान की जाने वाली सुरक्षा के स्तर के साथ-साथ ओमाइक्रोन के खिलाफ पूर्व संक्रमण को मापना चाहेंगे। माधी यह संदेह व्यक्त करते हैं कि परिणाम इस बात की याद दिलाएंगे कि एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड वैक्सीन ने बीटा संस्करण के खिलाफ कैसे प्रदर्शन किया, एक प्रतिरक्षा-विकसित संस्करण, जिसे दक्षिण अफ्रीका में 2020 के अंत में पहचाना गया था।

माधी के नेतृत्व में एक अध्ययन में पाया गया कि वैक्सीन ने हल्के संक्रमणों में बहुत कम सुरक्षा प्रदान की और अपेक्षाकृत कम उम्र में मध्यम मामले लोगों, जबकि कनाडा में एक वास्तविक विश्लेषण ने अस्पताल में भर्ती होने के खिलाफ 80% से अधिक सुरक्षा दिखाई।

यदि ओमाइक्रोन इसी तरह का व्यवहार करता है, तो हम मामलों में वृद्धि देखने जा रहे हैं। हम बहुत सारे सफल संक्रमण, बहुत सारे पुन: संक्रमण देखने जा रहे हैं। लेकिन अस्पताल में भर्ती होने की दर की तुलना में समुदाय में मामले की दर में यह उतार-चढ़ाव होने वाला है।”

माधी का कहना है कि शुरुआती रिपोर्टों से पता चलता है कि ओमाइक्रोन के साथ अधिकांश सफल संक्रमण हल्के रहे हैं। “मेरे लिए, यह एक सकारात्मक संकेत है।”

क्या वर्तमान बूस्टर ओमाइक्रोन के खिलाफ सुरक्षा में सुधार कर सकते हैं

ओमीक्रान के खतरे ने कुछ समृद्ध देशों, जैसे कि यूनाइटेड किंगडम को कोविड वैक्सीन बूस्टर खुराक के रोल-आउट में तेजी लाने और व्यापक बनाने के लिए प्रेरित किया है। लेकिन यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि ये अतिरिक्त खुराकें कितनी प्रभावी होंगी। इसी प्रकार एक अन्य वैज्ञानिक बैनियाज कहते हैं, तीसरी खुराक सुपरचार्ज न्यूट्रलाइज़िंग-एंटीबॉडी स्तर, और यह संभावना है कि यह इन एंटीबॉडी से बचने के लिए ओमीक्राम की क्षमता के खिलाफ एक कवच प्रदान कर सकता है। पॉलीम्यूटेंट स्पाइक पर उनकी टीम ने पाया कि जो लोग टीकाकरण के पहले कोविड से ठीक हो गए थे, उनमें एंटीबॉडी अभी भी उत्परिवर्ती स्पाइक को अवरुद्ध करने में सक्षम थे। ऐसे परिणामों से पता चलता है कि सार्स कोवि-2 (ओमीक्रान) के स्पाइक प्रोटीन के बार-बार संपर्क में आने वाले लोग, चाहे वह संक्रमण या बूस्टर खुराक के माध्यम से हो, “ओमाइक्रोन के खिलाफ गतिविधि को निष्क्रिय करने की काफी संभावना है।”

कोविड के अन्य वैरियंट और ओमीक्रान

प्रारंभिक रिपोर्टों ने ओमाइक्रोन को हल्के रोग के रूप में देखा है क्योंकि इससे संक्रमित लोग स्वतः स्वस्थ होते पाये गये हैं, जिससे यह आशा जगी है कि यह संस्करण अपने कुछ पिछले वैरिएंट की तुलना में कम गंभीर हो सकता है लेकिन ये रिपोर्टें- जो अक्सर डेटा और अनुमान के स्क्रैप पर आधारित होती हैं, जो भ्रामक हो सकती हैं, ब्रिटेन के सेंट एंड्रयूज विश्वविद्यालय में एक संक्रामक रोग विशेषज्ञ मुगे सेविक को चेतावनी देते हैं। “हर कोई कुछ डेटा खोजने की कोशिश कर रहा है, जो हमारा मार्गदर्शन कर सके, उनका कहना कि- यह बहुत मुश्किल है।

यह आकलन करते समय एक बड़ी चुनौती है कि क्या एक प्रकार की गंभीरता कई भ्रमित चर के लिए नियंत्रित कर रही है, जो रोग के अध्ययन को प्रभावित कर सकती है, खासकर यह प्रकोप जब भौगोलिक रूप से स्थानीयकृत होते हैं। उदाहरण के लिए, दक्षिण अफ्रीका में ओमाइक्रोन संक्रमण से होने वाली हल्की बीमारी की रिपोर्ट इस तथ्य को प्रतिबिंबित कर सकती है कि देश में अपेक्षाकृत युवा आबादी है, जिनमें से अनेक लोग सार्स कोविड के संपर्क में आ चुके हैं।

सेविक आगे कहते हैं कि डेल्टा के प्रकोप के शुरुआती दिनों के दौरान, ऐसी रिपोर्टें थीं कि वैरिएंट अन्य वेरिएंट की तुलना में बच्चों में अधिक गंभीर बीमारी पैदा कर रहा था, यह विचार अधिक डेटा आने के बाद बदल गया।

शोधकर्ता किसी निश्चित निर्णय पर पहुँचने के पहले अन्य देशों में ओमाइक्रोन संक्रमण के आंकड़ों को एकत्र कर अध्ययन करेंगे, जो भौगोलिक प्रसार, और मामलों के बढ़ने के एक बड़े आँकड़े के साथ शोधकर्ताओं को एक बेहतर विचार देगा कि प्रारंभिक अध्ययनों को कितना बेहतर बनाया जा सकता है।

इस तरह शोधकर्ता किसी निश्चित निर्णय पर पहुँचने के पहले अन्य देशों में ओमाइक्रोन संक्रमण के आंकड़ों को एकत्र कर अध्ययन करेंगे, जो भौगोलिक प्रसार, और मामलों के बढ़ने के एक बड़े आँकड़े के साथ शोधकर्ताओं को एक बेहतर विचार देगा कि प्रारंभिक अध्ययनों को कितना बेहतर बनाया जा सकता है।

अंततः शोधकर्ता केस-नियंत्रित अध्ययन करना चाहेंगे, जिसमें ओमीक्रोन से संक्रमित लोगों की जनसांख्यिकी से सावधानीपूर्वक एक दूसरे भौगोलिक क्षेत्र के समूह की तुलना कर सकेंगे। यह वैज्ञानिकों को उम्र, टीकाकरण की स्थिति और स्वास्थ्य की स्थिति जैसे महत्वपूर्ण कारकों के लिए बेहतर नियंत्रण करने में सहयोग करेगा। दोनों समूहों के डेटा को समसामयिक रूप से एकत्र करने की आवश्यकता है, क्योंकि अस्पताल में भर्ती होने की संख्या एक क्षेत्र में समग्र अस्पताल क्षमता से प्रभावित हो सकती है।

यहाँ सबसे महत्वपूर्ण शोधकर्ताओं को आर्थिक संसाधनों की उपलब्धता होगी। एक तेजी से फैलने वाला नया वैरियंट कमजोर समूहों तक अधिक तेजी से पहुंच सकता है। सेविक कहते हैं, उनके लोगों के काम की प्रकृति या रहने की स्थिति या पहले से किसी गंभीर बीमारी की स्थिति भी प्रभावित करेगी। इस कार्य में एक लम्बा समय लग सकता है। अंत में सेविक कहते हैं कि- मुझे लगता है कि गंभीरता का सवाल आखिरी बिट्स में निश्चित होगा, जिसमें हम सुलझा पाएंगे, ऐसा ही डेल्टा के साथ हुआ था।

ओमीक्रोन कहाँ फैला है और वैज्ञानिक इसे कैसे ट्रैक कर रहे हैं?

अब तक 20 से अधिक देशों में ओमीक्रोन का पता लगाया गया है, एक संख्या जो दुनिया भर में वैरिएंट वृद्धि को ट्रैक करने के प्रयासों के रूप में लगातार नजर रख रही है। लेकिन सकारात्मक कोविड परीक्षणों से वायरस को तेजी से अनुक्रमित करने की क्षमता धनी देशों में केंद्रित है, जिसका अर्थ है कि ओमीक्रोन के प्रसार पर शुरुआती डेटा तिरछा होगा।

ब्राजील और कुछ अन्य देशों में निगरानी के प्रयास के लिए विशेष रूप से पीसीआर परीक्षणों पर एक विशिष्ट परिणाम का लाभ उठा रहे हैं, जो उन्हें अनुक्रमण के लिए संभावित ओमीक्रोन मामलों की ओर संकेत करने की दे सकता है, ब्राजील में मिनस गेरैस के संघीय विश्वविद्यालय में वायरोलॉजिस्ट रेनाटो सैन्टाना कहते हैं- परीक्षण तीन वायरल जीन के खंडों की तलाश करता है, जिनमें से एक जीन है जो स्पाइक प्रोटीन के लिए एन्कोड करता है। ओमाइक्रोन के स्पाइक जीन में उत्परिवर्तन परीक्षण में इसकी पहचान को रोकते हैं, जिसका अर्थ है कि वेरिएंट वाले नमूने केवल दो जीनों के लिए सकारात्मक परीक्षण करेंगे।

बांग्लादेश में लगभग 0.2% सकारात्मक कोरोनावायरस नमूनों का अनुक्रम करता है, शोधकर्ता ओमीक्रॉन और अन्य उभरते वेरिएंट की निगरानी के लिए जीनोमिक निगरानी को बढ़ाने के लिए उत्सुक है, आणविक माइक्रोबायोलॉजिस्ट सेनजुति साहा, एक आणविक माइक्रोबायोलॉजिस्ट और ढाका में चाइल्ड हेल्थ रिसर्च फाउंडेशन के निदेशक कहते हैं। लेकिन संसाधन सीमित हैं। वह कहती हैं कि बांग्लादेश एक बड़े डेंगू के प्रकोप से उबर रहा है। “ग्लोबल साउथ में, हम सभी कोविड के बारे में चिंतित हैं, लेकिन आइए अपनी स्थानिक बीमारियों को न भूलें,” साहा कहते हैं। हम केवल इतना ही कह सकते हैं।

ओमीक्रान के लक्षण

ओमीक्रान के लक्षणों के बताते हुए दक्षिण अफ्रिकान मेडिकल एसोसिएसन के अध्यक्ष एंजलिक कोएत्जी के अनुसार थकान के साथ निम्न लक्षण ओमीक्रान के संक्रमित मरीजों में देखे गये हैं। यदि कोई व्यक्ति कोरोना के ओमीक्रोन वेरिएंट से संक्रमित है तो उसे लगातार थकावट महसूस हो सकती है।कोरोना के इस बेहद संक्रामक वेरिएंट से संक्रमित व्यक्ति को बदन व सिर के साथ अन्य कई तरह के दर्द अनुभव हो सकते हैं।

यह आलेख विश्व प्रसिद्ध साइंस जर्नल ‘नेचर’ व विश्वस्वास्थ्य संगठन के रिपोर्ट पर आधारित है, जिसमें खेद जनक तथ्य यह कि जब दुनिया भर के वैज्ञानिक तेजी से अध्ययन कर रहे हैं, उस समय भारत में अध्ययन का कहीं उल्लेख नहीं है।भारत में केवल आतंकित करने वाले समाचार जनता को डरा रहे हैं।सरकारों के बयान आ रहे हैं, वैज्ञानिक संस्थान और विश्वविद्यालयों से कोई अध्ययन की टीम नहीं दिखाई दे रही है।

सबसे महत्वपूर्ण तथ्य यह है भारत में डेंगू, चिकनगुनियाँ और कोरोना में अच्छा परिणाम देने वाला आयुर्वेद चिकित्सा समुदाय दीन दुनिया से बेखबर सुस्त पड़ा हुआ है, जबकि आयुर्वेद में अनेक ऐसी दवायें हैं, जो किसी संक्रामक वायरस के प्रत्येक संस्करण (वैरियंट) पर प्रभावी हो सकती हैं।इसलिए अभी समय है भारत सरकार और आयुर्वेद व ऐलोपैथी के संस्थानों, संगठनों, चिकित्सकों को अध्ययन शुरू कर देना चाहिए।जिससे हम आसानी से ओमीक्रान के अफरा-तफरी से बच सकते हैं।

(लेखक-ईस्टर्न साइंटिस्ट शोध पत्रिका के मुख्य संपादक, वर्ल्ड आयुर्वेद कांग्रेस के संयोजक सदस्य, लेखक और विचारक हैं।)

इसे भी पढ़ें:

सनस्क्रीन के प्रयोग से नुकसान तो नहीं हो रहा!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button