करोड़ों शिक्षित बेरोज़गार पर लोक सेवा आयोग प्रयागराज को नहीं मिल रहे योग्य उम्मीदवार

खाली जा रही हैं भर्तियां!

वीरेन्द्र पाठक, प्रयागराज

एक तरफ़ देश में करोड़ों शिक्षित बेरोज़गार हैं दूसरी तरफ़ विडम्बना है कि उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग प्रयागराज को नियुक्ति के लिए योग्य उम्मीदवार/ अभ्यर्थी नहीं मिल रहे हैं।

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग को आयोग के चेयरमैन संजय श्रीनेत का कहना है कि परीक्षाओं में योग्य उम्मीदवार नहीं मिलने से बहुत सारे ख़ाली पदों , विशेषकर तकनीकी पर भर्ती नहीं हो पा रही है .

कृपया इसे भी पढ़ें

एक अनौपचारिक बातचीत में उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग को आयोग के चेयरमैन संजय श्रीनेत का कहना है कि परीक्षाओं में योग्य उम्मीदवार नहीं मिलने से बहुत सारे ख़ाली पदों , विशेषकर तकनीकी पर भर्ती नहीं हो पा रही है . ने इस बात पर भी दुख जाहिर किया कि योग्य उम्मीदवार तकनीकी नौकरियों के लिए नहीं मिल रहे हैं। पद खाली पड़े हैं।

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग को आयोग  के चेयरमैन संजय श्रीनेत
उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग को आयोग के चेयरमैन संजय श्रीनेत

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के चेयरमैन ने इस बात पर दुख और चिंता जाहिर की कि उनको नौकरी के लिए योग्य उम्मीदवार नहीं मिल रहे हैं जिसके कारण से भर्तियां रिक्त जा रही हैं। खास तौर से तकनीकी सेवाओं वाली परीक्षा में योग्य उम्मीदवार नहीं मिल रहे।  वह परीक्षा में पासिंग मार्क भी नहीं ले आ पा रहे हैं । जिसके कारण से भर्तियां रिक्त पड़ी हैं।

कृषि विभाग का उदाहरण देते हुए बताया कि 7000 पद भरे जाने थे किंतु मात्र 1200 पद भरे गये। इसी तरह कई अन्य परीक्षाओं का भी यही हाल है।श्री श्रीनेत मैं यह स्पष्ट किया कि पासिंग मार्क्स सामान्य के लिए 40 है, और अन्य के लिए 35 है इसके बावजूद योग्य उम्मीदवार नहीं मिल पा रहे। 

उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में भर्ती के लिए जो भी पद खाली हैं, उन्हें वेबसाइट पर दर्शाया जा रहा है। साथ ही उनको जल्द से जल्द भरने की प्रक्रिया भी जारी है। इसी क्रम में जनवरी में पीसीएस की परीक्षा होगी तथा पुरुष नर्सिंग की परीक्षा भी जनवरी माह में होगी।

निजी क्षेत्र के उद्यमी भी इस तरह की शिकायतें कर रहे हैं। सबसे बड़ी परेशानी तो यह कि अंग्रेज़ी माध्यम से पढ़ने वालों बच्चों की हिंदी बहुत ख़राब है और अंग्रेज़ी भी ख़ास अच्छी नहीं।

लोक सेवा आयोग के चेयरमैन का यह बयान हमारी शिक्षा व्यवस्था में क्वालिटी की भारी कमी प्रचार करता है. डिग्री है, लेकिन योग्यता नहीं। क्योंकि या तो पर्याप्त शिक्षक नहीं या ज़रूरी प्रयोगशाला अथवा पाठ्यक्रम और पढ़ना – पढ़ने का तरीक़ा गड़बड़ है।

परीक्षा सेंटर की सूचना में बदलाव 

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के चेयरमैन संजय श्रीनेत ने वार्ता के दौरान कहा कि परीक्षाओं में शुचिता के लिए वह हर संभव प्रयास कर रहे हैं। 

इसी क्रम में एक नई प्रणाली का परीक्षण किया जा रहा है ,जिसके तहत परीक्षार्थी को उसके एडमिट कार्ड पर जिस शहर में परीक्षा होगी उसका ब्यौरा होगा किंतु किस सेंटर पर उसकी परीक्षा ली जाएगी यह अंतिम 48 घंटे में उसे सूचित किया जायेगा। इसका परीक्षण जारी है।

उत्तर प्रदेश में नकल माफिया की कारगुजारियों को देखते हुए यह बदलाव किया जा रहा है. 

उन्होंने यह भी बताया कि उनकी प्राथमिकता परीक्षाओं में शुचिता के साथ समयबद्धता भी है। 

इसी के तहत समय पर  परीक्षा के परिणाम घोषित किए जा रहे हैं। ।

पिछली परीक्षाओं के दोषी नहीं बचेंगे 

आयोग के अध्यक्ष संजय श्रीनेत ने स्पष्ट किया कि आयोग की पिछले परीक्षाओं पर चल रही सीबीआई की जांच में दोषियों को बचाया नहीं जा रहा है। जांच के संबंध में सुप्रीम कोर्ट में मामला लगा है। इसी तरह एक कमेटी के द्वारा एक्सपर्ट्स की ओपिनियन के बाद इस पर फैसला होगा।

स्केलिंग के लिए कमेटी 

उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि स्केलिगं  के लिए उच्च स्तर पर एक कमेटी गठित की जा रही है जो परीक्षाओं में स्केलिंग को कैसे लागू किया जाए इसके बारे में अपनी राय देगी।

उन्होने यह भी बताया कि आयोग में सभी के लिए ट्रेनिंग करायी जा रही है। व्यवस्था सुधारी जा रही है।

उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि एक चरण वाली परीक्षा प्रणाली खत्म करने पर विचार किया जा रहा है जिससे नकल माफिया पर अंकुश लगाया जा सके।

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग अपने अभ्यर्थियों को 48 घंटे पहले सूचित करेगा कि उस का सेंटर कहां पर पड़ने वाला है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty + seven =

Related Articles

Back to top button