“ सम्भव है कोरोना वायरस कभी समाप्त न हो”

विश्व स्वास्थ्य संगठन की चेतावनी

( मीडिया स्वराज डेस्क )

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है, “ सम्भव है कोरोना वायरस कभी समाप्त हो. 

WHO के आपदा निदेशक डॉक्टर माइक रेयान ने प्रेस  को सम्बोधित करते हुए कहा, “मुझे नहीं लगता कि कोई इस बात की भविष्यवाणी कर सकता है कि कब और कैसे यह बीमारी खत्म होगी” वह कहते हैं, “वैक्सीन बन जाने के बाद भी कोरोना वायरस को पूर्णतया समाप्त कर पाना विश्व समुदाय के सामने एक बड़ी चुनौती होगी।”

ताज़ा जानकारी के अनुसार विश्वभर  में 100 से  भी अधिक तरह की वैक्सीनों पर काम हो रहा है जिससे कि  समय रहते इस महामारी से निजात पाया जा सके। मगर वास्तविकता यह है कि दावे से कोई नहीं कह सकता कि कब तक इसका सफल इलाज संभव हो पायेगा और वह कितना प्रभावी होगा।  इसी सन्दर्भ में  डॉ. रेयान का मानना है कि संभवतः एच आई वी और खसरा जैसे वाइरसों  की ही तरह, कोरोना भी दुनिया में रह जाएगा और सभी सरकारों को अब इसी को देखते हुए भविष्य के बारे में योजनाएं बनानी पड़ेंगी। 

अपनी  बात को स्पष्ट करते हुए डॉ रेयान ने कहा, ‘एच आई वी दुनिया से खत्म नही हुआ, वह आज भी है, मगर दुनिया ने इसके साथ जीना सीख लिया है। कोरोना वायरस भी शायद समाज से कभी ख़त्म न हो, हमको इससे बचते हुए जीने की आदत डालनी पड़ेगी।’

लॉकडाउन को लेकर डॉ रेयान ने कहा, “लॉक डाउन हटने के बाद केस खत्म हो जाएंगे और कम्युनिटी में वायरस फैलने की दर कम हो जाएगी, यह कह पाना अभी जल्दबाजी होगी। अगर आप बढ़ते हुए केसों के बीच इसे हटाते हैं तो यह और तेजी से फैल सकता है।” उनका यह कथन आज प्रासंगिक है जब दुनिया भर के देश लॉक डाउन से बाहर निकलने की योजनाओं पर काम कर रहे हैं। 

WHO के महानिदेशक डॉक्टर टेड्रोस अधानोम ने यह भरोसा जताया कि हम अब भी इस वायरस को और अधिक फैलने से रोक सकते हैं पर इसके लिए “अधिक प्रभावी कदम उठाने की आवश्यकता है।” विश्व समुदाय को आगाह करते हुए डॉ टेड्रोस ने कहा “सभी देश स्वयं को सतर्कता व बचाव के उच्चतम स्तर पर ले जायेंगे, तभी इस महामारी को फैलने से रोका जा सकेगा।” 

पूरा विश्व कोरोना वायरस नामक महामारी से पूरी ताकत से लड़ रहा है। संक्रमित व्यक्तियों की संख्या दिन-प्रतिदिन तेजी से बढ़ रही है, वहीं इससे बचाव के लिए वैक्सीन पर काम भी ज़ोरों से चल रहा है। 

 इस समय तक पूरे विश्व मे 3 लाख से ज्यादा मौतें नोवेल कोरोना वायरस के कारण हो चुकी हैं जबकि 43 लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) इस आपदा काल में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। बुधवार को जिनेवा में आयोजित वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से उसने विश्व को वायरस के प्रकोपों पर चेताते हुए भविष्य की रणनीतियों के विषय में आगाह किया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles