जंगलराज के युवराज से क्या अपेक्षा की जा सकती है : मोदी

पटना। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बिहार विधानसभा चुनाव के मद्देनजर दरभंगा और मुजफ्फरपुर में एनडीए की रैलियों को संबोधित किया।

दरभंगा में नरेंद्र मोदी ने कहा कि बिहार के लोग ये ठान चुके हैं- बिहार में जंगलराज लाने वाली ताकतों को फिर परास्त करेंगे। बिहार के लोग ये ठान चुके हैं- बिहार को लूटने वालों को फिर हराएंगे। मुजफ्फरपुर में उन्होंने तेजस्वी यादव का नाम लिये बगैर कहा कि ‘जंगलराज के युवराज’ से बिहार की जनता पुराने ट्रैक रिकॉर्ड के आधार पर और क्या अपेक्षा कर सकती है?

दरभंगा के राजा मैदान में प्रधानमंत्री ने कहा कि सदियों की तपस्या के बाद, अब आखिरकार अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण शुरू हो गया है। वो सियासी लोग जो बार-बार हमें तारीख पूछा करते थे, बहुत मजबूरी में वो भी तालियां बजा रहे हैं।

हमने कहा था- हर किसान के बैंक खाते में सीधी मदद भेजेंगे – आज करीब-करीब एक लाख करोड़ रुपये की सीधी मदद किसान के खाते में जमा कराई जा चुकी है। हमने कहा था- हर गरीब का बैंक खाता खोलेंगे- आज 40 करोड़ से ज़्यादा गरीबों का बैंक खाता खुल चुका है।

हमने कहा था- हर गरीब बहन-बेटी की रसोई में मुफ्त गैस कनेक्शन पहुंचाएंगे। उज्जवला योजना ने बिहार की भी करीब 90 लाख महिलाओं को लकड़ी के धुएं से मुक्त किया है। हमने कहा था- हर गरीब को 5 लाख रुपये तक के मुफ्त इलाज की सुविधा देंगे। आज बिहार के भी हर गरीब को ये सुविधा मिल रही है।

मोदी ने आगे कहा कि कोरोना के इस संकट काल में हमने ये भी कहा था कि हर गरीब को मुफ्त अनाज देंगे। 8 महीने तक इस देश का कोई व्यक्ति भूखा न सो जाये, इतनी बड़ी व्यवस्था कोरोना काल में हम कर पाये। आज बिहार के भी गरीबों के लिए दीवाली और छठ पूजा तक मुफ्त में राशन की व्यवस्था की गई है।

राजद पर वार करते हुए मोदी ने कहा कि पहले के समय, जो लोग सरकार में थे, उनका मंत्र रहा है- पैसा हज़म, परियोजना खत्म। उन्हें कमीशन शब्द से इतना प्रेम था कि कनेक्टिविटी पर कभी ध्यान ही नहीं दिया। मिथिलांचल को जोड़ने वाले कोसी महासेतु के साथ क्या-क्या हुआ, ये तो आप भलीभांति जानते हैं।

मुजफ्फरपुर के पचरूखी चीनी मिल मैदान में एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि ये समय हवा-हवाई बातें करने वालों को नहीं, बल्कि जिनके पास अनुभव है, जो बिहार को एक गहरे अंधेरे से निकालकर यहां लाए हैं, उन्हें दोबारा चुनने का है। आप कल्पना कर सकते हैं, एक तरफ महामारी हो और साथ ही जंगलराज वाले राज करने आ जाएं तो ये बिहार के लोगों पर दोहरी मार की तरह हो जाएगा।

तेजस्वी को निशाने पर लेते हुए मोदी ने कहा कि ‘जंगलराज के युवराज’ से बिहार की जनता पुराने ट्रैक रिकॉर्ड के आधार पर और क्या अपेक्षा कर सकती है? जंगलराज की परंपरा में सब सीखने वाले लोगों को मुझसे ज़्यादा अच्छी तरह बिहार की जनता जानती है।

मोदी ने कहा कि वो दल जो बिहार के उद्योगों को बंद करने के लिए बदनाम है, जिनसे निवेशक कोसों दूर भागते हैं, वो लोग बिहार के लोगों को विकास के वायदे कर रहे हैं। सरकारी नौकरी तो छोड़िए, इन लोगों के आने का मतलब है, नौकरी देने वाली प्राइवेट कंपनियां भी बिहार से भाग जाएंगी।

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + 7 =

Related Articles

Back to top button