उत्तर प्रदेश सरकार ने बोर्ड परीक्षा नकल विहीन करने के लिए कमर कसी


उत्तर प्रदेश में नकल विहीन बोर्ड परीक्षा 2022 सम्पन्न कराना सर्वोच्च प्राथमिता . सी0सी0टी0वी0 कैमरे की नजर में करायी जायेगी परीक्षायें. प्रथम बार साफ्टवेयर के माध्यम से परीक्षा केन्द्रों पर कक्ष निरीक्षकों तथा अन्य कार्मिकों की तैनाती.

15 मार्च, 2022

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र द्वारा वर्ष 2022 की उ0प्र0 माध्यमिक शिक्षा परिषद, प्रयागराज द्वारा आयोजित बोर्ड परीक्षा को सकुशल सम्पन्न कराये जाने हेतु वीडियो कान्फ्रेन्सिंग के माध्यम सेप्रदेश के समस्त मण्डलायुक्तों, पुलिस आयुक्तों, जिलाधिकारियों तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों के साथ बैठककी गई। 

उन्होंने निर्देश दिया कि जिला प्रशासन द्वारा प्रश्न पत्रों के पहुंचने से पूर्व ही प्रश्न पत्रों की सुरक्षा हेतुआवश्यकतानुसार पुलिस व्यवस्था सुनिश्चित कराते हुए उन्हें जनपद मुख्यालय में सुरक्षित स्थान पर पुलिसअभिरक्षा में रखवाया जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि परीक्षा केन्द्रों पर प्रश्न पत्रों का वितरणजिलाधिकारी द्वारा नामित अधिकारी की निगरानी में  जिला विद्यालय निरीक्षक द्वारा पुलिस अभिरक्षा में करायाजाये। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन यह सुनिश्चित करें कि समस्त परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षा की अवधि मेंपर्याप्त सशस्त्र सुरक्षा बल उपलब्ध रहे।

मुख्य सचिव द्वारा जिलाधिकारियों को निर्देश दिये गये कि नकल विहीन परीक्षा कराने हेतु जनपद में जोनलतथा सेक्टर मजिस्ट्रेट तैनात कर लिए जाये, जो परीक्षा अवधि में परीक्षा केन्द्रों का नियमित निरीक्षण तथापर्यवेक्षण करें। संगठित रूप से नकल कराने वालों पर रा0सु0का0 के तहत तत्काल कार्यवाही की जाये।अफवाह फैलाने वालों पर विशेष ध्यान रखा जाये तथा उन पर सख्त कार्यवाही की जाये। संवेदनशील केन्द्रों परएस0टी0एफ0 द्वारा नजर रखी जाये। 

मुख्य सचिव द्वारा यह भी अपेक्षा की गयी कि समस्त जिलाधिकारी नकल विहीन व शान्तिपूर्ण परीक्षा संचालनहेतु संबंधित अधिकारियों की बैठक शीघ्र कर लें तथा टीम बनाकर परीक्षा केन्द्रों की आधारभूत सुविधाओं काशत प्रतिशत स्थलीय निरीक्षण करा लें। उन्होंने यह भी कहा कि परीक्षा अवधि में निर्बाध विद्युत आपूर्ति कीव्यवस्था सुनिश्चित करा ली जाय। इसी प्रकार स्वास्थ्य विभाग, परिवहन विभाग, नगर विकास विभाग, पचायती राज विभाग से अपेक्षा की गयी कि बोर्ड परीक्षा के दृष्टिगत परीक्षा केन्द्रों पर आवश्यक सुविधाओंउपलब्ध करायें, जिससे परीक्षार्थियों को किसी प्रकार की कठिनाई का सामना न करना पड़े। मुख्य सचिव द्वारासमस्त जिलाधिकारी एवं पुलिस  अधिकारियों से अपेक्षा की गई कि वह स्वयं भी परीक्षा केन्द्रों का निरीक्षणकर लें।

अपर मुख्य सचिव माध्यमिक शिक्षा आराधना शुक्ला द्वारा बताया गया कि प्रदेश में 8,373 परीक्षा केन्द्रों पर51,92,689 परीक्षार्थी परीक्षा दे रहे है। प्रश्न पत्रों को रखने की व्यवस्था डबल लाक युक्त अलमारी मेे कियागया है। प्रत्येक परीक्षा केन्द्र के प्रत्येक परीक्षा कक्ष में सी0सी0टी0वी0 तथा राउटर स्थापित किया गया है।इसके पर्यवेक्षण हेतु माध्यमिक शिक्षा के शिविर कार्यालय, लखनऊ में केन्द्रीयकृत राज्य स्तरीय कन्ट्रोल रूमकी स्थापना की गयी है। इस कन्ट्रोल रूम से परीक्षा अवधि में प्रत्येक जनपद के प्रत्येक परीक्षा केन्द्र के प्रत्येकपरीक्षा कक्ष कीं निगरानी की जायेगी। नकल विहीन परीक्षा कराना प्रत्येक जनपद के जिला विद्यालय निरीक्षकका दायित्व होगा, जो निरन्तर जिला प्रशासन से समन्वय बनाये रखेगें। 

उन्होंने बताया कि प्रदेश की बोर्ड परीक्षा में प्रथम बार साफ्टवेयर के माध्यम से कक्ष निरीक्षकों एवं अन्यकार्मिकों की तैनाती की जा रही है, जिसमें उनकी दैनिक उपस्थिति होगी। परीक्षा केन्द्र पर मोबाइल फोन लेजाना वर्जित रहेगा।

वीडियो कान्फ्रेन्सिंग में पुलिस महानिदेशक मुकुल गोयल ऑनलाइन उपस्थित थे। इनके अतिरिक्त अपर मुख्यसचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव परिवहन राजेश कुमार सिंह, अपर पुलिस महानिदेशककानून-व्यवस्था प्रशान्त कुमार, अपर पुलिस महानिदेशक एस0टी0एफ0 अमिताभ यश, सचिव बेसिक शिक्षाअनामिका सिंह, सचिव गृह तरूण गाबा, विशेष सचिव माध्यमिक शिक्षा शम्भु कुमार व जय शंकर दुबे, निदेशकमाध्यमिक शिक्षा विनय कुमार पाण्डेय सहित शासन तथा विभाग के वरिष्ठ अधिकारीगण आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

19 − fourteen =

Related Articles

Back to top button