URGENT : प्रधानमंत्री के  आव्हान से पावर ग्रिड फेल होने का ख़तरा

 बिजली इंजीनियरों की नींद उड़ी 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना महामारी से लड़ने में देश व्यापी एकजुटता दिखाने के लिए सभी देशवासियों से पाँच अप्रैल को रात नौ बजे नौ मिनट के लिए सारी लाइटें बंद करने के आह्वान से अचानक पावर लोड काम हो जाएगा। इससे देश भर में बिजली सप्लाई का पावर ग्रिड फेल होने का ख़तरा उत्पन्न हो गया है। 

शैलेंद्र दुबे

आल इंडिया पावर इंजीनियर्स फ़ेडेरेशन के अध्यक्ष शैलेंद्र दुबे ने प्रधानमंत्री का संदेश सुनने के तुरंत बाद उन्हें पत्र लिखकर इस ख़तरे से आगाह किया। इसके बाद भारत सरकार के ऊर्जा मंत्रालय और बिजली उत्पादन तथा वितरण से जुड़ी सभी इकाइयों के हाहाकर मच गया। 

अब चार अप्रैल को सुबह साढ़े ग्यारह बजे राष्ट्रीय स्तर पर ग्रिड को बचाने  के लिए वीडियो कानफ़्रेस होगी। फ़िलहाल उत्तर प्रदेश में तय किया गया है कि ख़तरे से निबटने के लिए सभी इंजीनियर और स्टाफ़ पाँच अप्रैल को रात आठ बजे से दास बजे तक सब स्टेशनों और जगह – जगह  ड्यूटी पर तैनात रहेंगे। 

एक बातचीत में श्री शैलेंद्र दुबे ने विस्तार से बताया की वैसे ही डिमांड कम है। पिछले 20 दिनों में ग्रिड पर लोड लगभग 30% कम हो गया है, ट्रैन / फैक्ट्री / बड़े व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद हैं। बिजली का स्टोरेज संभव नही है, जिस क्षण लोड कम होता है या बढ़ता है उसी क्षण किसी न किसी पॉवर प्लांट में उतना लोड कम किया जाता है या बढ़ाया जाता है। देश मे जो बिजली सप्लाई हो रही है उसका 70 प्रतिशत से ज्यादा थर्मल प्लांट से आता है । थर्मल प्लांट की लोड कम करने की क्षमता सीमित होती है। वो अगर अपनी क्षमता के 60% से कम लोड पर चलाये जाएं तो उनके स्थायित्व पर संकट आ सकता है। यह बिंदु टेक्निकल मिनिमम कहलाता है। लॉक डाउन के चलते बड़ी संख्या में थर्मल प्लांट टेक्निकल मिनिमम या उसके आसपास ही चल रहे हैं। अब अगर ये बिजली बंद करने का आव्हान 70% भी अमल में आया तो ग्रिड पर अचानक बड़ा जर्क आएगा। अनावश्यक तौर पर सारी व्यवस्था हलाकान होगी। यदि ग्रिड डिस्टर्ब हुआ तो 12 – 18 घंटे लगेंगे व्यवस्था ठीक होने में। इस बीच अस्पताल और अन्य आपातकालीन सेवाएं भी प्रभावित हो सकती हैं।

खतरे को टालने के लिए केंद्रीय एजेंसी कल सभी प्रांतों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रातः 11:30 बजे बात कर रही है निश्चित रूप से इसमें कुछ निर्देश सामने आएंगे।

Note : Please write your comments in the box

Please  subscribe www.mediswaraj.com website and Youtube channel for regular update

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles