CM योगी ने गोंडा के गन्ना किसानों को दिया तोहफा, देश के सबसे बड़े एथेनॉल प्लांट का किया लोकार्पण

इससे पहले आज सुबह सीएम योगी आदित्यनाथ ने बलरामपुर में मां पाटेश्वरी मंदिर में पूजा अर्चना की। फिर, गोंडा में रैली को संबोधित करते हुये यहां के गन्ना किसानों और युवाओं को रोजगार के नये रास्ते सुझाये।

मीडिया स्वराज डेस्क

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने तीन दिन के दौरे में शनिवार दोपहर गोंडा में एक रैली को संबोधित किया. अपने चुनावी प्रचार के दौरान योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उनकी सरकार के दौरान कोरोना को मात देकर सभी त्योहारों का बड़े पैमाने पर आयोजन किया गया। गोंडा की चुनावी रैली में योगी आदित्यनाथ ने जिन्ना से लेकर किसान रैली और गन्ना किसानों की स्थिति पर भी मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी पर निशाना साधा। योगी ने किसानों को अन्नदाता कहकर उनके सम्मान की बात की तो युवाओं को रोजगार देने और आस्था के नाम पर अयोध्या के राम मंदिर की बात की।

शनिवार को गोंडा में आयोजित कार्यक्रम में योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर की चर्चा करते हुए कहा कि अयोध्या में प्रभु श्रीराम का भव्य मंदिर बनाने के लिए किसने रोका था। कांग्रेस को किसने रोका, बुआ को किसने रोका और बबुआ को किसने रोका। साथ ही उन्होंने कहा कि इन्हें तो पूरा मौका मिला था लेकिन उनकी सरकारों में भाई-भतीजे के लिए काम होता था। उनकी सरकारों में अपना-पराया था। जो आस्था का सम्मान करना जानते हैं, वह लोग अयोध्या में प्रभु श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण करा रहे हैं।

उन्होंने विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि ये लोग जातिवाद, क्षेत्रवाद, बेईमानी और भ्रष्टाचार फैलाते थे, दंगे करवाते थे, इनके दोहरे चरित्र में आप लोग कभी मत आना, इनके बहकावे में कभी मत आना, इनके बयानों से तो कभी गिरगिट भी शरमा जाए, ये लोग बार-बार रंग बदलते हैं।

इसके अलावा उन्होंने विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि ये लोग जातिवाद, क्षेत्रवाद, बेईमानी और भ्रष्टाचार फैलाते थे, दंगे करवाते थे, इनके दोहरे चरित्र में आप लोग कभी मत आना, इनके बहकावे में कभी मत आना, इनके बयानों से तो कभी गिरगिट भी शरमा जाए, ये लोग बार-बार रंग बदलते हैं।

योगी आदित्यनाथ ने कृषि क्षेत्र में किए गए काम को लेकर भाजपा सरकार की जमकर पीठ थपथपाई और पूर्ववर्ती सरकारों को निशाने पर लिया। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 2017 से पहले उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों या सामान्य किसानों की क्या स्थिति थी, यह आप सब लोग जानते हैं। किसान आत्महत्या कर रहा था तब प्रदेश में किसान अपनी मेहनत से अन्न का उत्पादन करता था लेकिन उसके क्रय की कोई व्यवस्था नहीं थी।

योगी ने बीजेपी सरकार के दौरान किये गये सर्जिकल स्ट्राइक की याद दिलाते हुये कहा कि हमारी सरकार ने आतंक​वादियों के घर में घुसकर उन्हें धूल चटाई। योगी ने केंद्र में कांग्रेस और प्रदेश में सपा सरकार की खामियां गिनवाईं और विकास के नाम पर बीजेपी सरकार के लिये वोट मांगे।

इस दौरान उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिन्ना वाले बयान को लेकर भी सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर निशाना साधा। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ये जो दंगाई हैं, जिन्ना के अनुयायी हैं, ये गन्ने की मिठास को क्या समझ पाएंगे। याद करिए जिन आतंकवादियों ने मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की जन्‍मभूमि पर हमला किया था, उन आतंकवादियों के मुकदमे को बड़ी बेशर्मी के साथ वापस लेने का कार्य पिछली सरकार ने किया। 

आगे उन्होंने कहा कि धन्यवाद है इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय का जिन्होंने पिछली सरकार की इस मंशा को पूरा नहीं होने दिया। हमारी सरकार आयी तो हमने प्रदेश को दंगा मुक्त किया और साढ़े चार वर्ष में एक भी दंगा नहीं हुआ। भाजपा की सरकार में आतंकवादियों को उनकी मांद में घुस घुसकर मारा गया।

गोंडा में रैली को संबोधित करने के बाद योगी आदित्यानाथ जनपद जौनपुर में रक्षा मंत्री और यूपी के पूर्व सीएम राजनाथ सिंह के साथ यूपी बीजेपी द्वारा आयोजित ‘बूथ अध्यक्ष सम्मेलन’ में सम्मिलित हुये।

गोंडा में रैली को संबोधित करने के बाद योगी आदित्यानाथ जनपद जौनपुर में रक्षा मंत्री और यूपी के पूर्व सीएम राजनाथ सिंह के साथ यूपी बीजेपी द्वारा आयोजित ‘बूथ अध्यक्ष सम्मेलन’ में सम्मिलित हुये।

बता दें कि योगी आदित्यनाथ इस वक्त तीन दिनों के चुनावी दौरे पर हैं। अयोध्या में आयोजित एक सामूहिक विवाह कार्यक्रम में जोड़ों को आशीर्वाद देने के बाद शुक्रवार को मुख्यमंत्री बलरामपुर पहुंचे और रात्रि प्रवास किया। शनिवार को सुबह बलरामपुर में मां पाटेश्वरी मंदिर तुलसीपुर में पूजा-अर्चना की और गोंडा को बड़ा तोहफा देने के लिये निकल पड़े।

गोंडा में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने देश के सबसे बड़े एथेनॉल प्लांट का शिलान्यास किया। इसके बाद मैजापुर चीनी मिल में 26 हेक्टेयर क्षेत्र में बनने वाले डिस्टलरी प्लांट की आधारशिला रखी। कहा जा रहा है कि यह प्लांट मई 2022 तक बनकर तैयार हो जाएगा और यह स्थानीय लोगों के लिए रोजगार का एक बड़ा रास्ता खोलेगा।

बता दें कि गन्ने के जूस ब्रोकन राइस से इस प्लांट में एथेनॉल तैयार किया जायेगा, जिससे तकरीबन 60 हजार किसानों को फायदा होगा। साथ ही 250 लोगों को रोजगार भी मिलेगा। मैजापुर शुगर मिल में 350 केएल की क्षमता के डिस्टलरी प्लांट की स्थापना पर 455.87 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इस प्लांट के जरिये किसानों की आमदनी बढ़ाने के साथ साथ बेरोजगारों को रोजगार के अवसर भी उपलब्ध कराये जायेंगे।

इसे भी पढ़ें:

संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान में लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट

इतना ही नहीं, ईंधन उत्पादन में भी ये प्लांट मील का पत्थर साबित होंगे। मुख्यमंत्री यहां खेती किसानी के स्टालों का भी शुभारंभ करेंगे। यहां की मैजापुर चीनी मिल प्रांगण में 60 से ज्यादा स्टाल लगे हैं। सीएम ने विभिन्न योजना के तहत तैयार हो रहे उत्पाद के स्टाल का निरीक्षण किया। एथेनाल प्लांट के शिलान्यास कार्यक्रम के बाद मीडिया व यहां मौजूद जनता को संबोधित किया।

बता दें कि गोंडा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का करीब एक महीने के अंतराल पर यह दूसरा दौरा है। इससे पहले योगी 27 अक्टूबर को गोंडा आए थे। तब उन्होंने यहां करोड़ों की योजनाओं का लोकार्पण किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

twelve + five =

Related Articles

Back to top button