सिडनी के दर्शकों ने डाला रंग में भंग..

भारतीय टीम का मौजूदा आस्ट्रेलिया दौरा कई वजहों से रोचक होता जा रहा है। कुछ अच्छा तो कुछ बुरा दोनों ही तरह की घटनाओं से सराबोर रहा है टीम इंडिया का यह विदेशी दौरा।
सिडनी में तीसरे क्रिकेट टेस्ट मैच के दौरान तो हद ही हो गई। भारत ने पांचवें दिन मैच को ड्रा कराके वाहवाही लूटी लेकिन भारतीय खिलाड़ियों पर दर्शकों की नस्लीय टिप्पणी और आस्ट्रेलियाई कप्तान की अशोभनीय हरकत से खेल का मजा किरकिरा हो गया।

सबसे पहले चर्चा करते हैं दर्शकों की बदतमीजी का। सिडनी में तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे और चैथे दिन कुछ दर्शकों ने भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद सिराज को निशाना बना कर नस्लीय टिप्पणी की। भारतीय टीम ने इस मामले पर आधिकारिक शिकायत दर्ज कराई। जब चैथे दिन भी यह घटना दोहराई गई तो सिराज ने अम्पायरों का ध्यान इस ओर दिलाया। इसके बाद कुछ देर के लिए खेल रोक दिया गया। भारतीय टीम प्रबंधन ने भी अपनी ओर से शिकायत दर्ज कराई।

= अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी)
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी)

भारतीय टीम का आस्ट्रेलिया दौरा

इसके बाद कार्रवाई करते हुए आस्ट्रेलिया के सुरक्षा अधिकारियों ने छह दर्शकों को स्टेडियम से बाहर कर दिया। जाहिर है, खेल के मैदान में इस तरह की घटना बिल्कुल अस्वीकार्य है। इससे दोनों देशों के रिश्तों पर असर पड़ता है। कोई भी देश नहीं चाहेगा कि खेलों के माध्यम से कटुता बढ़े। इस मामले का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने भी संज्ञान ले लिया। उसने क्रिकेट आस्ट्रेलिया से इस बारे में रिपोर्ट मांगी है। आईसीसी ने बयान जारी कर कहा कि हम सिडनी के मैदान में नस्लवाद की घटनाओं की कड़ी निंदा करते हैं और इसकी जांच में सहयोग की पेशकश भी करते हैं। आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मनु साहनी ने कहा, किसी भी तरह के भेदभाव के प्रति हमारी ‘जीरो टालरेंस की नीति है। खेल में भेदभाव के लिए कोई जगह नहीं है।

सरदार पटेल और भारत की एकता(Opens in a new browser tab)

आस्ट्रेलिया ने मांगी माफी मामला बढ़ता देख आस्ट्रेलियाई क्रिकेट की नियामक संस्था ‘क्रिकेट आस्ट्रेलिया‘ने भारतीय टीम से माफी मांग ली। इस संस्था के सुरक्षा प्रमुख सीन कैरोल ने कहा-‘ऐसी घटनाएं शर्मनाक हैं। दर्शकों के एक वर्ग की हरकत से हम लज्जित हैं।

नस्लीय टिप्पणी को कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। यह अफसोस की बात है कि इतने बेहतरीन मैच के बीच हमें ऐसी अप्रिय घटना देखने को मिली। इस घटना ने हमारी छवि को ठेस पहुंचाई है। एक मेजबान होने के नाते हम भारतीय टीम से माफी मांगते हैं।‘ इस घटना ने 2007 के उस सीरीज की याद दिला दी जब आस्ट्रेलिया के बल्लेबाज एंड्रयू सायमंड्स और भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह के बीच मंकी गेट कांड खूब उछला था। विवाद इतना बढ़ा था कि दौरा रद्द होने की नौबत आ गई थी।

मैच बचा के हीरो बने हनुमा और अश्विन तीसरा टेस्ट मैच बचा कर भारतीय टीम ने जो कारनामा किया है उससे पूरा खेल जगत गदगद है। मैच के आखिरी दिन भारत की हार तय लग रही थी लेकिन पांच विकेट गिरने के बाद हनुमा विहारी और अश्विन ने पिच पर अंगद की तरह पैर जमा लिया। इन दोनों ने करीब 40 ओवरों तक कोई विकेट नहीं गिरने दिया।

वह भी तब जबकि दोनों घायल हो गए थे। कंगारू गेंदबाजों ने इन्हें आउट करने की जी तोड़ कोशिश की पर नाकाम रहे। इतना ही नहीं, आस्ट्रेलियाई कप्तान और विकेटकीपर टिम पेन ने अश्विन का ध्यान भंग करने के लिए उन पर छींटाकशी भी की। बाद में पेन अपनी हरकत पर शर्मिंदा हैं और अफसोस जता रहे हैं। टीम इंडिया में चोटिल खिलाड़ियों की सूची लंबी होती जा रही है। आखिरी टेस्ट के लिए पूरी तरह फिट 11 खिलाड़ी चुनना एक चुनौती बन गई है। मंगलवार को खबर आई है कि मुख्य गेंदबाज बुमराह भी चोटिल हैं और आखिरी मैच नहीं खेल पाएंगे। यह भारत के लिए बहुत बड़ा झटका है। ब्रिस्बेन में चैथा टेस्ट मैच 15 जनवरी से शुरू होगा।

=आर्दश प्रकाश  सिंह
आर्दश प्रकाश सिंह
support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 + eighteen =

Related Articles

Back to top button