शङ्कराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद काशी में  मूल विश्वनाथ मन्दिर की परिक्रमा करेंगे 

ज्योतिष्पीठाधीश्वर जगदगुरु शङ्कराचार्य अविमुक्तेश्वरानन्द: सरस्वती ‘आज काशी पहुँचे . शङ्कराचार्य  ने कहा की आगामी 29 जनवरी को अपराह्न 3 बजे वे मूल विश्वनाथ मन्दिर की परिक्रमा करेंगे। 

शङ्कराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद काशी में 

वे आगामी 2 फरवरी को माघ पर्व महोत्सव के लिए प्रयागराज प्रस्थान करेंगे. वहॉं गौमाता को राष्ट्रमाता घोषित कराने हेतु गौ संसद का आयोजन किया जाएगा।

शंकराचार्य ने काशी में श्रीमठ पहुँचकर सर्वप्रथम गौ माता का दर्शन कर उनको गौग्रास खिलाया. आचार्य करुणाशङ्कर मिश्र सहित मठवासियों ने शङ्कराचार्य जी महाराज का वन्दन किया। उसके बाद भक्तों ने सामूहिक रूप से शङ्कराचार्य  की आरती उतारी।

शङ्कराचार्य के काशी प्रवास के दौरान अनेकों धर्मानुष्ठान व माङ्गलिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।

शंकराचार्य के स्वागत व वंदन कार्यक्रम में  प्रमुख रूप से सर्वश्री:- साध्वी पूर्णाम्बा दीदी, साध्वी शारदाम्बा दीदी, ब्रह्मचारी मुकुन्दानन्द, ब्रह्मचारी परमात्मानन्द, मीडिया प्रभारी संजय पाण्डेय, रवि त्रिवेदी, हरिनाथ दुबे, कृष्णकान्त उपाध्याय, यतीन्द्र चतुर्वेदी, रमेश उपाध्याय, श्रीप्रकाश पाण्डेय,अनुराग दुबे, अजय पाण्डेय, शारदा जी, अजित मिश्रा, सिद्धार्थ पाण्डेय, सत्यप्रकाश श्रीवास्तव, शिवकान्त मिश्रा, सावित्री पाण्डेय, सुमोना जी, सुनीता श्रीवास्तव आदि लोग प्रमुख रूप से सम्मिलित थे. 

शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरान्द जल मार्ग से मैथ पहुँचे
शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरान्द जल मार्ग से श्रीमठ पहुँचे

हाल ही में अयोध्या में नाव निर्मित राम मंदिर ने नयी मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा के दौरान शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरान्द विशेष चर्चा में आ गये थे क्योंकि उन्होंने कहा था कि अधूरी मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा अशुभ है।

https://www.bbc.com/hindi/articles/c9w2z24rj9xo

किंतु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चारों शंकराचार्य के विरोध और आपत्ति को नज़रअंदाज़ कर दिया।

https://www.youtube.com/live/lw-RC1_8ht0?si=akoiFU00cohEChxK

Leave a Reply

Your email address will not be published.

seventeen − 11 =

Related Articles

Back to top button