PM मोदी के तीनों कृषि कानूनों की वापसी पर संयुक्त किसान मोर्चा ने क्या कहा, आइए जानें

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जून 2020 में पहली बार अध्यादेश के रूप में लाए गए सभी तीन किसान-विरोधी, कॉर्पोरेट-समर्थक काले कानूनों को निरस्त करने के भारत सरकार के फैसले की घोषणा की है। उन्होंने गुरु नानक जयंती के अवसर पर यह घोषणा करने का निर्णय लिया।

संयुक्त किसान मोर्चा ने आज 19 नवंबर 2021 को सवेरे 10:30 बजे प्रेस व्यक्तव्य जारी करते हुए तीनों कृषि कानूनों की वापसी के पीएम मोदी की सुबह 9 बजे की घोषणा के बाद उनके इस फैसले का स्वागत किया है. हालांकि, उन्होंने यह भी कहा ​है कि वे संसद में इस कानून की वापसी का इंतजार करेंगे. इसके बाद ही ​किसान अपने अपने घरों को लौटेंगे.

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जून 2020 में पहली बार अध्यादेश के रूप में लाए गए सभी तीन किसान-विरोधी, कॉर्पोरेट-समर्थक काले कानूनों को निरस्त करने के भारत सरकार के फैसले की घोषणा की है। उन्होंने गुरु नानक जयंती के अवसर पर यह घोषणा करने का निर्णय लिया।

संयुक्त किसान मोर्चा इस निर्णय का स्वागत करता है और उचित संसदीय प्रक्रियाओं के माध्यम से घोषणा के प्रभावी होने की प्रतीक्षा करेगा। अगर ऐसा होता है, तो यह भारत में एक वर्ष से चल रहे किसान आंदोलन की ऐतिहासिक जीत होगी। हालांकि, इस संघर्ष में करीब 700 किसान शहीद हुए हैं। लखीमपुर खीरी हत्याकांड समेत, इन टाली जा सकने वाली मौतों के लिए केंद्र सरकार की जिद जिम्मेदार है।

इसे भी पढ़ें:

तीनों कृषि कानून की वापसी का निर्णय किसानों और लोकतंत्र की जीत है, जानिए किसने क्या कहा?

संयुक्त किसान मोर्चा प्रधानमंत्री को यह भी याद दिलाना चाहता है कि किसानों का यह आंदोलन न केवल तीन काले कानूनों को निरस्त करने के लिए है, बल्कि सभी कृषि उत्पादों और सभी किसानों के लिए लाभकारी मूल्य की कानूनी गारंटी के लिए भी है। किसानों की यह अहम मांग अभी बाकी है। इसी तरह बिजली संशोधन विधेयक को भी वापस लिया जाना बाकि है। एसकेएम सभी घटनाक्रमों पर संज्ञान लेकर, जल्द ही अपनी बैठक करेगा और यदि कोई हो तो आगे के निर्णयों की घोषणा करेगा।

संयुक्त किसान मोर्चा के इस निर्णय का बलबीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढूनी, हन्नान मोल्ला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, शिवकुमार शर्मा (कक्का जी) और युद्धवीर सिंह ने भी स्वागत किया है।

(संयुक्त किसान मोर्चा, ईमेल: samyuktkisanmorcha@gmail.com)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

nineteen − six =

Related Articles

Back to top button