डॉ. लोहिया बिना सत्ता में गए भी एकछत्र राजा थे-जनता के हृदय के राजा

नीरज कुमार

डॉ. राममनोहर लोहिया की मृत्यु के बाद देश में शोक का जो सैलाब आया, उससे यह साबित हो गया कि महात्मा गांधी के बाद यदि सही माने में देश के करोड़ो गरीब, भूखे-नंगे इंसानों का कोई रहनुमा था तो वह थे डॉ. राममनोहर लोहिया | डॉ. लोहिया ने अपने को आम जनता में इस तरह से मिला दिया था कि अनजान आदमी के लिए, जो डॉ. लोहिया को पहचानता न हो, यह समझ सकना प्रायः असंभव था कि उनके बीच खड़ा व्यक्ति अंतर्राष्ट्रीय ख्याति का महान नेता डॉ. लोहिया है अथवा कोई साधारण कार्यकर्ता |

एक बार लोहिया जी कहीं जा रहे थे | मोटर गाडी पर उनके साथ और भी कई कार्यकर्ता थे | रास्ते में कोई हलवाई जलेबी छान रहा था | लोहिया जी ने गाड़ी रुकवा दी | उतर पड़े | कुछ गर्म-गर्म जलेबियाँ तौलाई गईं | चलने के समय जब दूकानदार को पैसे दिए जाने लगे तो खासी परेशानी पैदा हो गई | हुआ यह कि जब लोहिया जी जलेबी खाने में मशगुल थे तभी किसी तरह दूकानदार को पता चल गया कि डॉ. लोहिया हैं | फिर क्या था ? दूकानदार पैसे लेने को तैयार ही नहीं हो और, लोहिया जी बिना पैसे दिये वहां से टलने को तैयार नहीं | दुकानदार का कहना था कि उसका सौभाग्य था कि डॉक्टर लोहिया ने उसकी दूकान पर जलेबी खाई, इसलिए वह पैसे नहीं ले सकता | लोहिया जी का कहना था कि यह हो नहीं सकता कि वे जलेबी खायें और पैसे न दें | बहस में समय बीत रहा था | अगली सभा में पहुँचने में देर हो रही थी | सभी लोग परेशान | अंत में लोहिया जी ने ही रास्ता निकाला | कहा- “अच्छा ! एक काम करो | तुम इन जलेबियों के तो भरपाई पैसे ले लो, और अपनी ओर से एक जलेबी दे दो, जो खाकर मैं तुम्हारी बात रख दूँ |” दूकानदार भी इस शर्त पर समझौते के लिए तैयार हो गया | ऐसे थे डॉ. लोहिया, आम लोगों में मिल जाने वाले |

1965 में 10 अगस्त को गिरफ्तार होकर लोहिया जी हजारीबाग केन्द्रीय कारागार में पहुंचे थे | चूँकि डॉ. लोहिया की बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका सर्वोच्च न्यायालय में विचारार्थ स्वीकृत हो चुकी थी और उसकी सुनवाई 23 अगस्त को होने वाली थी, इसलिए 20 अगस्त को लोहिया जी को हजारीबाग से दिल्ली ले जाया गया | जब वे वार्ड से विदा होने लगे राजनीतिक कैदियों से मिलने से पहले, उन्होंने परिचारकों से मिलना अधिक पसंद किया | सबसे पहले वे उस सेल में गये, जिसमें वार्ड का सफैया-योगीहरी रहता था | लोहिया जी को देखकर जैसे ही योगी अपने सेल से बाहर आया, लोहिया जी ने उसे पकड़ कर अपनी छाती से लगा लिया और कहने लगे – “जा रहा हूँ, पता नहीं फिर हम लोगों की भेंट होगी कि नहीं |” योगी लोहिया जी के आलिंगन में खड़ा अविरल रो रहा था और लोहिया जी उसकी पीठ थपथपा रहे थे | लगता था जैसे परिवार के दो सदस्य आपस में बिछुड़ रहे हों | उसके बाद लोहिया जी ने सभी परिचरों-पनिहा, रसोइया, पहरा, मेठ-सबको गले लगाया और बाद में राजनीतिक कैदियों की बारी आई, जिसमें किसी की पीठ थपथपाई, किसी को प्यार से चपत लगाई तो किसी से सिर्फ नमस्कार ही किया |

लोहिया जी अपने व्यवहार से किसी को भी मोह लेते थे | और, वह भी इस प्रकार से कि वह आदमी हमेशा के लिए उनका श्रद्धालु हो जाए | इसका बहुत बड़ा प्रमाण मिला था अक्टूबर 1967 में, लोहिया जी की बिमारी के समय | रीवां की वह पान वाली तथा दिल्ली का वह टैक्सी ड्राईवर | डॉ. लोहिया पान नहीं खाते थे | फिर भी आदमी तो मौज वाले थे न ! मौज में आ गया और कभी रीवां में एक बूढी पान वाली से पान खा लिया | लेकिन वह पान भी ऐसा जैसे विदुर के घर कृष्ण ने साग खा लिया | वह पान वाली हो गई डॉक्टर लोहिया की भक्त |

जब लोहिया जी की बीमारी की खबर उसने सुनी तो एकमात्र अपनी रोटी का सहारा-दूकान बंद करके चल पड़ी दिल्ली की ओर | दिल्ली के विलिंग्डन अस्पताल के हाते में, आँगन में, वह बूढी पान वाली बैठी रहती थी और बराबर हाथ जोड़कर डॉ. लोहिया की जिन्दगी के लिए भगवान से प्रार्थना करती रहती थी | जब कोई कह देता कि लोहिया जी को अभी कुछ आराम हैं तो ख़ुशी से उसका चेहरा चमक उठता और यदि कोई बिमारी बढ़ जाने की खबर कह देता तो उसका चेहरा उतर जाता था |

इसी प्रकार वह टैक्सी ड्राईवर भी सिर्फ उतनी ही देर तक अपनी टैक्सी चलाता, जितनी देर में मालिक को देने भर कमा लेता | और, बाकी समय अस्पताल में बैठा रहता | इस तरह डॉक्टर लोहिया ने अपने को आम जनता में बिल्कुल एकाकार कर लिया था | यही कारण है कि डॉ. लोहिया बीना सत्ता में गए भी एकछत्र राजा थे-जनता के हृदय के राजा।

डॉ॰ लोहिया का जीवन और चिंतन दोनों एक प्रयोग था

       डॉ॰ लोहिया का जीवन और चिंतन दोनों एक प्रयोग था । यदि महात्मा गांधी का जीवन सत्य के साथ प्रयोग था तो डॉ॰ लोहिया का जीवन और चिंतन समतामूलक समाज की स्थापना के लिए सामाजिक दर्शन और कार्यक्रमों के साथ एक प्रयोग था । वह प्रयोग आज भी अप्रासंगिक नहीं है, बल्कि शेक्सपियर की चतुष्ठपदी के फीनिक्स पक्षी के समान विस्मृतियों की राख से जाज्वल्यमान हो जाता है । वे भारतीय दर्शन के उदार दृष्टिकोण के साथ पाश्चात्य दर्शन की क्रियाशीलता के सम्मिश्रण के आकांक्षी थे । वे मार्क्स और गांधी के मिलन बिन्दु थे, जो सही अर्थ में भारतीय समाजवादी आंदोलन के जन्मदाता थे; जो मूल रूप से मार्क्सवादी दर्शन और पाश्चात्य देशों के समाजवादी आंदोलन से प्रभावित होने के बावजूद दोनों से भिन्न हैं । उनका समाजवादी आंदोलन पूर्णत: भारतीय संदर्भ में और राष्ट्रीय स्वतंत्रता आंदोलन के गर्भ से उद्भूत था ।  जहां पूंजीवाद और साम्यवाद दोनों अप्रासंगिक हो जाते हैं क्योंकि इन दोनों की धारणाओं का नैहर यूरोप है, भारत नहीं ।

        पूंजीवाद के पास भारतीय आर्थिक एवम सामाजिक समस्याओं का निराकरण नहीं है तो उस संदर्भ में डॉ॰ लोहिया के विचार और दर्शन और भी अधिक प्रासंगिक हो जाते हैं । वैचारिक स्तर पर अब यह बात साफ हो जानी चाहिए कि यदि पूंजीवादी दर्शन हो या समाजवादी, पाश्चात्य विचारों में भारत की समस्याओं का निदान नहीं है | इसके लिए हमें डॉ॰ लोहिया की लौटना ही होगा । 
जब कभी भी और जो भी सरकार भारत में सही अर्थ में एक समता मूलक समाज की स्थापना का प्रयास करेगी, भारतीय समाज को जाति, धर्म और योनि के कटघरे से मुक्त करने का प्रयास करेगी, उनका आदर्श और प्रेरणा स्त्रोत डॉ॰ लोहिया की सप्तक्रांति ही होगी | भले ही कोई उसे महात्मा गांधी का राम राज्य कहे, कोई उसे जयप्रकाश की सम्पूर्ण क्रांति कहे, कोई उसे वर्गहीन और राजयहीन समाज की धारणा कहे, किंतु इन सभी आदर्शों के बीच डॉ॰ लोहिया की सप्तक्रांति की धारणा सर्वाधिक सशक्त और सगुण धारणा है | 
वक्ती तौर पर इसमें कुछ परिवर्तन और परिवर्द्धन न हो सकते हैं, किंतु आज भी चौखम्बा राज्य और सप्तक्रांति की धारणा मूल रूप से सिर्फ प्रासंगिक ही नहीं है बल्कि साम्यवाद की अप्रासंगिक और पूंजीवाद की असमर्थता सिद्ध हो जाने के बाद भारतीय संदर्भ में नए समाज के निर्माण का यही एक रास्ता है | जब तक जाती के आधार, धर्म के आधार पर, आर्थिक गैरबराबरी आधार पर भारत में शोषण की प्रक्रिया जारी है, इनके खिलाफ लड़ने वालों के प्रेरणा स्त्रोत डॉ॰ लोहिया के विचार और कार्य सदैव रहेंगे |

        डॉ॰ लोहिया एक वैकल्पिक व्यवस्था की खोज में थे | पंचमढ़ी में उन्होने कहा कि “पूंजीवाद उत्पादन तंत्र  तंत्र एशियाई देशों के लिए निरर्थक है क्योंकि यहाँ की जनसंख्या ज्यादा है और उत्पादन साधन कम और अविकसित हैं । यूरोप-अमेरिका की योग्यता के उत्पादन साधन यहाँ बनाने में और इसके लिए पूंजी का संचय करने में पूंजीवाद नाकामयाब साबित होगा ।” साम्यवाद भी दो कारणों से निकम्मा है । पहला, कम्युनिज्म का उत्पादन-तंत्र और जीवनशैली पूंजीवाद के ही समान है । वह भी केंद्रीकृत उत्पादन और उपभोगवादी जीवनशैली में विश्वास करता हैं । अविकसित देशों को विकेंद्रित उत्पादन व्यवस्था और सरल जीवनशैली चाहिए । और दूसरा, साम्यवाद सिर्फ पूंजीवादी उत्पादन के सम्बन्धों को बदलता है, उत्पादन की शक्तियों को बदलने की व्यवस्था नहीं है । तीसरी दुनिया के विकास के लिए न केवल उत्पादन के स्वामित्व में परिवर्तन लाना है बल्कि उत्पादन की शक्तियों को खास नीतियों के मार्फत योग्य भी बनाना है । लोहिया पूंजीवाद और साम्यवाद को एक ही सभ्यता के दो रूप मानते हैं ।

        आजाद भारत ने आर्थिक विकास की जो नीति अपनायी, डॉ॰ लोहिया उसके विरोधी थे । उन्होने यहाँ तक कहा था की हिंदुस्तान नया औद्योगिक नहीं प्राप्त कर रहा है, बल्कि यूरोप और अमेरिका की रद्दी मशीनों का अजायबघर बन रहा है । पश्चिम की नकल करके जिस उद्योगीकरण का इंतजाम हुआ है उससे न तो देश में सही औद्योगिक की नींव पड़ सकती है, न ही अर्थव्यवस्था में आंतरिक शक्ति और स्फूर्ति आ सकती है । सही उद्योगीकरण उसको कहते हैं जिसमें राष्ट्रीय उत्पादन के बढ़ने के साथ गरीबी का उन्मूलन होता जाता है । नकली उद्योगीकरण में असमानता और फिजूलखर्ची के कारण गरीबी भी बढ़ती जाती हैं । पूंजी निवेश की बढ़ती मात्रा, आर्थिक साधनों पर सरकारी स्वामित्व और विकास के लिए संभ्रांत वर्ग की अगुआयी, भारत के पुनरुत्थान के लिए पर्याप्त शर्त नहीं है । विकेंद्रित अर्थव्यवस्था,टेक्नालजी का नया स्वरूप और वैकल्पिक मानसिक रुझान से ही तीसरी दुनिया पूंजीवाद और साम्यवाद से बचते हुए आर्थिक विकास का रास्ता तय कर सकती है ।

        भारत यदि डॉ॰ लोहिया के बताये मॉडेल को अख़्तियार करता तो इसकी आर्थिक प्रगति तेज होती । देश आज मुद्रास्फीति की समस्या में नहीं उलझता यदि इसने ‘दाम बांधों’ की नीति का अनुसरण किया होता । यदि ‘छोटी मशीन’ द्वारा उद्योगीकरण होता तो आर्थिक असमानता, बेरोजगारी और विदेशी ऋण की समस्या खड़ी नहीं होती । यदि उपभोग की आधुनिकता पर छूट न दी गयी होती तो फिजूल खर्ची से देश को बचाया जा सकता था । सैद्धांतिक रूप से डॉ॰ लोहिया की नीति एक वैकल्पिक विकास पद्धति की रूपरेखा है । यदि भारत में डॉ॰ लोहिया की आर्थिक नीति का प्रयोग होता तो देश की आर्थिक व्यवस्था में आंतरिक स्फूर्ति आती जिससे यहाँ का विकास तेज होता, राष्ट्रियता गतिशील होती और यह प्रयोग दूसरे विकासशील देशों के लिए उदाहरण बनता ।

वैकल्पिक आर्थिक व्यवस्था और सामाजिक सिद्धांत की खोज

        लोहिया की आर्थिक विकास नीति एक वैकल्पिक आर्थिक व्यवस्था और सामाजिक सिद्धांत की खोज नीति है । इसका आधार छोटी मशीन, विकेंद्रित व्यवस्था और सरल जीवनशैली है । इसका लक्ष्य ऐसी व्यवस्था का निर्माण करना है जो लोगों में स्वतंत्रता और सृजनात्मकता को सुदृढ़ बना सके । यह सिर्फ गांधीवादी ही कर सकता है । लेकिन सरकारी गांधीवादी नहीं जो गांधी को सत्ता प्राप्ति के लिए बाजार में बेचता है । मठी गांधीवादी भी नहीं जो पूंजीवादी व्यवस्था के रहते भी चैन से सो सकता है । यह सिर्फ कुजात गांधीवादी ही कर सकता है जो पूंजीवाद से अनवरत लड़ने की इच्छा शक्ति रखता है और जो करुणा और क्रोध भरे दिलो-दिमाग से हिंसा का प्रतीकार मात्र अहिंसा के लिए नहीं बल्कि समता, संपन्नता और न्याय के लिए करता हैं ।     

Leave a Reply

Your email address will not be published.

16 − two =

Related Articles

Back to top button