प्रश्न ही प्रश्न !

डा अमिताभ शुक्ल की तीन कविताएँ

                                                                                                                                                                                                                               प्रश्न ही प्रश्न हैं ,   

                                         उत्तर सारे खो गए हैं ।।                                      ज़ख्म ही ज़ख्म और मलहम नदारद ,                 जिंदगी के प्रश्न  जटिल तम हो गए हैं ।।                बांस के पेड़ बहुतेरे.  ,                                      बांसुरी नदारद ,                                                   सुर सारे खो गए हैं ।।                                          गेहूं बहुलता से मिल रहा  ,                                     पर उगाने वाले सब खो रहे हैं ।।                      रखवालों के बीच में ही ,                                     कत्ल सारे हो  रहे हैं ।।                                     यौवन और जोश सारे ,                                       पर  होश सब अपना खो रहे हैं  ।।                    आत्मा और परमात्मा के खेल सारे ,                       पर पिसाच सब अपना                                        खेल खेल रहे हैं । ।                                             घरों में अपने रहते  हुए भी ,                                  लोग गमगीन कितने हो रहे हैं ।।                      देवताओं के देश में भी ,                                       पाप अब कितने हो रहे हैं ।।                               सीधी राह से मंजिल मिलती नहीं  ,                       शॉर्ट कट अब कितने नए हो रहे हैं ।।                    लोग अपने घरों में कैद ,                                       और राह चलते हुए भी ,                                      सब्र अपना अब खो रहे हैं ।।                             जिंदगी और मौत के किस्से पुराने हो चुके हैं ,          पर जिंदगी के तजुर्बे नए हो रहे हैं l।                            न जिंदगी की खुशी ,                                         और न मातम मरने का ,                                      सारे खेल अब कितने आसान हो रहे हैं ।।               प्रश्न ही प्रश्न…,                                                      पर उत्तर सारे खो रहे हैं ।।

   जिंदगी एक अनदेखा ख्वाब   …                   

                     
     जीवन एक गणित है ,                                       नाटक है , संग्राम है ।                                    हथेलियों में लिखा हुआ ,                                    भाग्य है।                                                         सारी विचित्रताआे के साथ ,                            संसार है ।                                                         सारे यत्न कर लीजिए ,                                        फिर भी दुर्भाग्य है । ।                                           या फिर , मनचाहा वरदान है।                             कभी शबनम तो कभी शूल ,                              कभी कांटे तो कभी गुलाब है ।।                             पूर्व – जन्म का फल या फिर ,                               इस जन्म का हिसाब है ।।                                   जब मधुर पल हैं ,                                               तब गुलजार है ।                                                   कठिन पलों में ,                                         बियाबान है।।                                                जिंदगी बस जिंदगी है ,                                           न अपने बस में है ,                                                 न उसके बस में है  ,                                             बस एक अनदेखा ,                                            और अनजाना ख्वाब है।    


     एक नई बस्ती बसाई जाए   

   
                                                                                                   कहां जा कर रहा जाए ?                                         जहां जीवन जिया जाए ?                                       चांद पर रहा जाए   ?                                             या फिर कोई नया ग्रह  ,                                         तलाशा जाए   .  ….?                                             खगोल विज्ञानियों की निगरानी में ,                           ऐसा कोई ग्रह तलाशा जाए .                                   एलियंस को दोस्त बनाया जाए ,                               या फिर नए ग्रहों पर ,                                             पैगाम भेजे  जाएं . …?                                            जरूरत है के इश्तहार ,                                         छपवाए जाएं . . ?      ,                                          या फिर सब ग्रहों में  ,                                            मुनादी करवाई जाए  ?                                          क्योंकि लगता है  ,                                                वक्त रह गया कम है ,                                            पृथ्वी पर तो अब बस ,                                          अस्पताल बचेंगे ,                                                   या फिर मास्क में ,                                                 चेहरा छुपाए बाशिंदे  ,                                           बचते –  बचाते  ,                                                   दवाइयां खाते-खाते  ,                                              भोजन करना   ,                                                    मुश्किल न हो जाए  .                                            इसलिए आइए साथ दीजिए  ,                                 एक नई मुहिम शुरू कीजिए  ,                                 एक नई बस्ती बसाई जाए ,                                     जहां केवल अन्न की फसल ,                                    उगाई जाए     .                                                   कल –  कारखाने न  हों  ,                                         न हो किल  – किल  ,                                             न दवा की जरूरत पड़े ,                                         न मास्क की   .                                                     एक ऐसी बस्ती . … ,                                            कहीं चल कर  बसाई जाए .                               

डा अमिताभ शुक्ल
डॉ. अमिताभ शुक्ल

डॉ. अमिताभ शुक्ल .                               

  ”  त्रासदियों का दौर” ,                   

  काव्य – संग्रह , जनवरी 2021,

  से

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button