हर की पौड़ी पर बिजली गिरने से हुआ काफी नुकसान

सोमवार देर रात को हरिद्वार में आकाशीय बिजली गिरने से हर की पौड़ी पर 80 फीट की दीवार गिर गई। ये हादसा हर की पौड़ी में ब्रह्मकुंड के पास हुआ। गनीमत की बात ये रही कि रात का वक्त होने का कारण यहां पर भीड़ नहीं थी, ऐसे में किसी को नुकसान नहीं पहुंचा। बिजली गिरने के साथ ही तेज बारिश भी रिकाॅर्ड की गई।

हादसे के बाद अखाड़ा परिषद के श्रीमहंत नरेंद्र गिरी भी हर की पौड़ी पहुंचे, उन्होंने यहां के हालात का जायजा लिया। स्थानीय प्रशासन की मदद से मलबे को हटाया जा रहा है और पूरे इलाके को फिर से ठीक किया जा रहा है। हर की पौड़ी पर सावन के महीने में अक्सर भीड़ रहती है, लेकिन इस बार कोरोना संकट के कारण कांवड़ियों को आने से मना किया गया है। हालांकि, फिर भी स्थानीय श्रद्धालु लगातार हरिद्वार पहुंच रहे हैं।

support media swaraj

One Comment

  1. हरकीपौड़ी पर बिजली गिरी भारी तबाही
    उत्तराखंड में भारी बारिश ने कहर बरपा रखा है। हरिद्वार में बीती रात हुई तेज बारिश के साथ गिरी आकाशीय बिजली से हर की पौड़ी ब्रह्मकुंड के पास ट्रांसफार्मर समेत दीवार ध्वस्त हो गई। इस घटना के बाद आसपास की क्षेत्र की बिजली बाधित हो गई। हालांकि घटना के वक्त आसपास किसी के ना होने के कारण किसी की जान को कोई नुकसान नहीं हुआ है।

    पुलिस प्रशासन और श्री गंगा सभा के सेवादारों ने आसपास बैरिकेडिंग लगाकर श्रद्धालुओं का हर की पैडी ब्रह्मकुंड पर जाना रोक कर क्षेत्र में फैले मलबे को हटाने का काम शुरू कर दिया है। वहीं, देहरादून और उसके आसपास के क्षेत्रों में मंगलवार सुबह से ही रिमझिम बारिश हुई। इससे मौसम सुहावना हो गया। वहीं, आने वाले दो दिनों में देहरादून, मसूरी क्षेत्र में बारिश होने की संभावना है।
    इससे पहले रविवार आधी रात को पिथौरागढ़ से करीब 90 किलोमीटर दूर स्थित बंगापानी तहसील के दो गांवों में बादल फटने से भारी तबाही मची। गैला पत्थरकोट गांव में पति-पत्नी और बेटी की मौत हो गई जबकि 5 से अधिक लोग घायल हुए हैं। वहीं, टांगा गांव में चार मकान जमींदोज हो गए हैं। इन घरों में सो रहे 11 लोग अभी तक लापता हैं।

    गैला पत्थरकोट से तीनों मृतकों के शव मलबे से निकाल लिए गए हैं। टांगा में लापता 11 लोगों के सर्च के लिए रेस्क्यू जारी है। बचाव राहत कार्य त्वरित गति से किए जा रहे हैं। दोनों ही जगह भारी बारिश के बाद मलबा घुस जाने से हादसा हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

6 − 3 =

Related Articles

Back to top button