कोई इसका मुंह नोचे

                                         सुन पण्डा के बैन, भगवान रहा मुस्काय

                                         ‘जनम पाप धुल जांयगे, गंगा लेउ नहाय;

                                         गंगा लेउ नहाय, जीवन भर पाप कमाओ

                                         डुबकी एक लगाय के, तुम मोक्ष पा जाओ।‘

                                         पापकर्म में हर्ज़ क्या, मुझको कोई बताय

                                         ’सण्डे कन्फ़ेशन’ से, अगर पाप धुल जाय;

                                         अगर पाप धुल जाय, तो सातों दिन कीजे

                                         चोरी, छिनारी, हत्या से, सांस क्यों लीजे?

                                         तालिबान को प्यार से, मुल्ला पाठ पढ़ाय

                                         निर्दोषों को मारे जो,  सीधे जन्नत जाय;

                                         सीधे जन्नत जाय, सुन ऊपर वाला सोचे

                                         यह पागल हो गया, कोई इसका मुंह नोचे।

महेश चंद्र द्विवेदी, पूर्व पुलिस महानिदेशक, उत्तर प्रदेश

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button