भारत के सामने झुका Pakistan, कहा-अगले 100 साल तक शत्रुता नहीं चाहते

पाकिस्तान ने कहा कि ' हम अगले 100 सालों तक भारत से शत्रुता नहीं चाहते हैं'. नई नीति के साथ पड़ोसियों देशों के साथ शांति की उम्मीद रखते हैं.

Pakistan News: पड़ोसी देश पाकिस्तान (Pakistan) अब भारत के साथ अपनी दुश्मनी को खत्म करना चाहता है. पाक ने अपनी नई सुरक्षा नीति में कहा है कि वो भारत के साथ अब किसी तरह की दुश्मनी को रखना नहीं चाहता है. अब वह अपने पड़ोसी देशों के साथ शांतिपूर्ण रिश्ते की चाह रखता है. पाकिस्तान का यह राष्ट्रीय सुरक्षा नीति पड़ोसी देशों के साथ शांति और आर्थिक कूटनीति विदेश नीति के केंद्र में होगी.

पाकिस्तान के एक अखबार के अनुसार, एक अधिकारी ने नई सुरक्षा नीति पर मीडिया से मंगलवार को जानकारी दी. इस दौरान अधिकानी ने बताया कि 100 पन्ने की नई सुरक्षा नीति में कहा गया है कि भारत और पाकिस्तान के बीच लंबे समय से चल रे कश्मीर विवाद के अंतिम समाधान के बिना ही भारत देश के साथ व्यापार और वाणिज्यिक संबंधों के लिए पाक की ओर से रास्ता पूरी तरह से खुला है. दोनों देशों के बीच बातचीत में प्रगति हो.

हम अगले 100 सालों के लिए भारत देश से शत्रुता नहीं चाहते हैं. अब नई नीति के साथ अपने पड़ोसियों के साथ शांति की चाह रखती है. अगर भारत  के साथ बातचीत बनती है तो व्यापार  और वाणिज्यिक संबंधों को सामान्य करने के लिए पहले के जैसे ही होगा. अगस्त साल 2019 में भारत के पीएम मोदी ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर उसे विशेष राज्य के दर्जा को पूरी तरह से खत्म कर दिया था. जो भारत और पाकिस्तान के बीच संबंधों को कमजोर कर दिया था. जिसके कारण भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार खत्म हो गया था.

जिसके बाद पाक और भारत के बीच बातचीत होना बंद है. वहीं पिछले साल फरवरी में इन दोनों देशों के बीच रिश्ते में सुधार के कुछ उम्मीद थी. लेकिन बात बन न सकी. लेकिन इस बार भारत के सात पाक नए रिश्तों की शुरुआत करना चाहता है. इस बार आर्थिक सुरक्षा नई राष्ट्रीय सुरक्षा नीति का मुख्य केंद्रीय विषय होगा. पाकिस्तानी अधिकारी ने आगे कहा कि जियो-इकोनॉमिक्स का मतलब ये नहीं है कि हम अपने रणनीतिक और राजनीतिक हितों की अनदेखी करेंगे. अधिकारी ने जोर देकर कहा, भारत के साथ लंबे समय से कश्मीर विवाद को पाकिस्तान के लिए एक ‘महत्वपूर्ण राष्ट्रीय नीति’ का मुद्दा माना गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × one =

Related Articles

Back to top button