पद्मश्री से सम्मानित मोहम्मद शरीफ चचा का अयोध्या विधायक ने घर जाकर किया स्वागत

लावारिस शवों का उनके धर्म के मुताबिक अंतिम संस्कार करते हैं समाजसेवी मोहम्मद शरीफ चचा

पद्मश्री से सम्मानित होकर अयोध्या पहुँचे मोहम्मद शरीफ का नगर विधायक वेद प्रकाश गुप्ता ने उनके आवास पहुँचकर स्वागत व अभिनन्दन किया। साथ ही, पद्मश्री मिलने पर उन्हें बधाई दी।

मीडिया स्वराज डेस्क

अयोध्या विधायक वेद गुप्ता ने कहा कि हजारों लावारिश शवों का अंतिम संस्कार कर चुके समाजसेवी मोहम्मद शरीफ चचा को निस्वार्थ सेवा के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा पद्मश्री प्रदान किया जाना हम सभी अयोध्यावासियों के लिए गौरव की बात है। इसके लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का मैं सभी अयोध्यावासियों की ओर से हृदय से आभार व्यक्त करता हूँ।

उन्होंने आगे कहा कि सिर्फ सिफारिश और रसूख नहीं बल्कि समाज के लिए काम करने वालों को सम्मानित कर रही है मोदी सरकार। पुरानी सरकारों में सिर्फ सिफारिश करने वालों व ऊँची पहुँच वालों को ही पद्मश्री मिलता था। आज मोदी सरकार जमीनी स्तर पर निस्वार्थ भाव से सेवाकार्य कर देश को गौरवान्वित करने वाले लोगों को उनका हक पद्मश्री प्रदान कर रही है।

इस अवसर पर सचिन सरीन, देवेन्द्र मिश्रा दीपू, सुप्रीत कपूर, अमल गुप्ता, नीरज दीक्षित व अन्य लोग भी उपस्थित थे।

राष्ट्रपति के हाथों पद्मश्री अवार्ड से सम्मानित होने के बाद अपने होमटाउन अयोध्या पहुंचे ‘शवों के मसीहा’ कहे जाने वाले समाजसेवी मोहम्मद शरीफ चचा का भव्य स्वागत किया गया। मानवीय संवेदना पर किए गए उनके कामों के लिए साल 2019 में पद्मश्री से नवाजे जाने की घोषणा केंद्र सरकार ने की थी लेकिन कोविड संक्रमण के चलते यह अवार्ड उन्हें मिल नहीं सका था। दो साल के बाद उन्हे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पद्मश्री अवार्ड देकर सम्मानित किया।

राष्ट्रपति भवन में पद्मश्री अवार्ड से सम्मानित होने के बाद शरीफ चाचा अयोध्या लौटे हैं। उन्होंने बीते 28 सालों के बीच करीब तीन हजार से ज्यादा लावारिस शवों का विधि-विधान से अंतिम संस्कार करवाया है, जिनमें से 1 हजार हिंदू और दो हजार मुस्लिमों के शव शामिल हैं।

बेहद खुश राष्ट्रपति ने की तारीफ
पद्मश्री से सम्मानित होने के बाद शरीफ चाचा ने कहा कि देश के प्रतिष्ठित सम्मान मिलने के बाद मुझे अब यह महसूस हो रहा है कि मोदी सरकार में समाज सेवा की कद्र है। राष्ट्रपति जी ने अवार्ड देते समय मेरे काम की तारीफ की और इससे बेहद खुश हुए थे। 28 साल की सेवा का प्रतिफल हमें मिला है। उन्होंने कहा कि जब तक उनके शरीर में ताकत है, वह लावारिस शवों का अंतिम संस्कार करते रहेंगे। आगे उनके परिवारीजन इस सेवा कार्य को आगे बढ़ाएंगे, ऐसा उनको भरोसा है।

लोगों ने किया सहयोग
मो शरीफ ने कहा कि उनके समाजसेवा के काम में तमाम लोगों ने भी मदद की। ईमानदारी से अच्छा काम करने पर लोगों का सहयोग मिलता है। लावारिस शवों के अंतिम संस्कार करने का जो बीड़ा उन्होंने तीन दशक पहले उठाया था, उसे पूरा करने के दौरान कई कटु अनुभवों का भी एहसास किया।

पेंशन और मकान की है चाहत
शरीफ ने सरकार से पेंशन के तौर पर रेगुलर आर्थिक मदद और मकान की मांग की है। उन्होंने कहा कि शासन से उन्हें आश्वासन मिला है लेकिन यह कब लागू होगा इसका पता नहीं है।

बेटे के शव को लावारिस मानकर पुलिस ने किया था अंतिम संस्कार

शरीफ ने बताया कि उनके बेटे की सुलतानपुर में हत्या कर दी गई थी। उसका शव पुलिस ने बरामद किया था और लावारिस समझकर उसका अंतिम संस्कार कर दिया था। उसी के बाद उन्होंने लावारिस शवों का अपने स्तर पर अंतिम संस्कार करने की शपथ ली थी।

इसे भी पढ़ें:

मनीष गुप्ता हत्या कांड : हाथरस से गोरखपुर तक क्या बदला?
support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 − 11 =

Related Articles

Back to top button