इमरान खान को बड़ा भाई बोलकर फिर विवादों में घिरे नवजोत सिद्धू, बीजेपी ने उठाये सवाल

संबित पात्रा ने सिद्धू के जरिये राहुल और प्रियंका को घेरा, जबकि रवि किशन ने उन्हें इमरान से देश में आतंकी और ड्रग्स भेजने से रोकने को कहा

नवजोत सिंह सिद्धू जब भी पाकिस्तान जाते हैं, विवादों को हवा जरूर देते हैं। आज एक बार फिर उनकी पाकिस्तान यात्रा से भारत में खासकर बीजेपी सरकार की ओर से आलोचनाओं का दौर शुरू हो गया है। इस बार सिद्धू ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को अपना बड़ा भाई बताया और कहा कि उसने बहुत प्यार दिया है, कहकर फिर से बखेड़ा खड़ा कर दिया है।

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नवजोत सिंह सिद्धू के मसले पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पर भी निशाना साधा। संबिता पात्रा ने कहा कि जिसका डर था वही हुआ। नवजोत सिंह सिद्धू का बयान कोई इत्तेफाक नहीं है। संबित पात्रा ने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू ने राहुल गांधी के कहने पर इमरान खान को अपना बड़ा भाई कहा है।

बीजेपी प्रवक्ता ने राहुल गांधी को घेरते हुए हिंदुत्व पर हमला बताया और कहा कि हिंदू में कांग्रेस को बोको हराम, आईएस दिखता है। उन्होंने प्रियंका गांधी पर भी हमला बोला। संबित पात्रा ने कहा कि प्रियंका गांधी ने नवजोत सिंह सिद्धू को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताया था। सिद्धू के करतारपुर जाने के बाद अब नई कंट्रोवर्सी शुरू होती दिख रही है।

बता दें कि बीजेपी नेता अमित मालवीय ने जो वीडियो ट्वीट किया है, उसमें नवजोत सिंह सिद्धू की आवाज स्पष्ट सुनाई दे रही है। सिद्धू इमरान खान को बड़ा भाई बताते हुए कह रहे हैं कि उसने बहुत प्यार दिया। बीजेपी ने इसे लेकर हमलावर रुख अख्तियार कर लिया है।

वहीं, बीजेपी नेता और एक्टर रवि किशन ने भी नवजोत सिंह सिद्धू के इस बयान पर सिद्धू को आड़े हाथों लेते हुये कहा कि अगर सिद्धू वाकई इमरान के छोटे भाई हैं तो उन्हें समझायें कि वे हमारे देश में आतंकियों और ड्रग्स को भेजना बंद कर दें। अगर सिद्धू अपने बड़े भाई को ऐसा करने के लिये मना लें तो हम मान लेंगे कि वाकई इमरान खान सिद्धू के बड़े भाई हैं।

बीजेपी नेताओं के बयानों पर कोई कमेंट किये बिना सिद्धू ने पाकिस्तान में कहा कि दोनों देशों के बीच रिश्ते ​बेहतर बनने चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं सकारात्मक सोच का हूं। हम दोनों देशों की भाषा और संस्कृति एक ही है। हमें पाकिस्तान के साथ व्याव​सायिक रिश्ते बनाने चाहिए। दोनों देशों के बीच दूरी बहुत कम है। मैं चा​हता हूं कि दोनों ही देशों के बीच रिश्ते बेहतर होने चाहिए।

पिछली बार भी जब सिद्धू पाकिस्तान गए थे तो करतारपुर कॉरिडोर खोलने के मुद्दे पर पाकिस्तानी सेना के जनरल बाजवा से गले मिले थे। इसके बाद उनका कड़ा विरोध हुआ था।मंगलवार को पंजाब कांग्रेस भवन में प्रेस वार्ता के दौरान सिद्धू ने एलान किया था कि वह श्री करतारपुर साहिब जाने के लिए तुरंत आवेदन कर रहे हैं। सिद्धू 19 नवंबर को गुरुपर्व के मौके पर दर्शन करने के इच्छुक थे लेकिन उन्हें यह मौका नहीं मिल पाया।

इसे भी पढ़ें:

अपनी महत्वाकांक्षा और उतावलेपन से कहीं के न रहे सिद्धू
support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 + 12 =

Related Articles

Back to top button