सरसों के मिलावटी तेल से कैसे बचें

बाजार का ब्लेंडिंग वाला तेल नुकसान पहुंचा सकता है.

मिलावटी सरसों का तेल एक बड़ी समस्या है. विशेषकर जो बड़े कारख़ानों में बनता है और बाज़ार में डिब्बा बंद या खुले में बिकता है. एक जमाने में गाँव गाँव बैल कोल्हू थे, या फिर पास की बाज़ार में अपने सामने सरसों को तेल पेरा लिया जाता था. ख़ली जानवरों के काम आ जाती थी . पर अब किसी के पास समय नही. पत्रकार अम्बरीश कुमार का विचार है कि अब फिर से बैल कोल्हू पुनर्जीवित करने का समय आ गया है.

अंबरीश कुमार 

पिछले दिनों दो खबर पर अपना ध्यान गया.पहली खबर सरसों के तेल में ब्लेंडिंग की फिर से इजाजत दिए जाने की.दरअसल सरसों का जो तेल बड़ी कंपनियां बनाती हैं उसमें वे बीस फीसदी कोई दूसरा तेल मसलन पाम आयल या राइस ब्रान यानी धान की भूसी का तेल मिला सकते हैं.

यह छूट उन्हें इस वजह से दी गई ताकि महंगी सरसों की वजह से उसका तेल गरीब परिवारों की पहुंच से बाहर न हो जाए.पर इस वजह से बाजार से शुद्ध सरसों का तेल गायब हो गया.

उत्तर प्रदेश खासकर पूर्वी उत्तर प्रदेश ,बिहार ,बंगाल से लेकर पंजाब कश्मीर तक में खाने के लिए सरसों के तेल का ही ज्यादा इस्तेमाल होता है .जबकि महाराष्ट्र में मूंगफली तो दक्षिण में नारियल का तेल ज्यादा इस्तेमाल होता है.पर सरसों के तेल की गुणवत्ता आलिव आयल से बेहतर मानी जाती है जिसकी वजह से परम्परागत रूप से दूसरे तेल का इस्तेमाल करने वाले राज्यों में भी इसकी खपत बढ़ रही है.

इसी वजह से इसका बाजार भी बढ़ा तो कीमत भी.जिसके बाद इसमें ब्लेंडिंग के नाम पर दूसरा तेल मिलाने का प्रचलन भी.तकनीकी रूप से इसे ब्लेंडिंग कहें पर है तो यह मिलावट ही.खैर इसी के साथ एक दूसरी खबर भी आई .       

मुजफ्फरपुर जिला खादी ग्रामोद्योग ने लकड़ी के कोल्हू में तैयार कच्ची घानी शुद्ध पीला सरसों का तेल बेचना शुरू किया है .

इसके लिए साठ के दशक का कोल्हू झाड़ पोछ कर बाहर निकाला गया.ऐसे सात कोल्हू मिले लकड़ी के जो पूर्व राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद के समय के हैं.

प्रयोग शुरू हुआ और इसकी मांग भी बढ़ी .ग्रामोद्योग की इस पहल से जुड़े कुंदन कुमार ने कहा ,शुद्ध सरसों के तेल की मांग है इसलिए यह सिर्फ यहीं नहीं बाहर भी भेजा जाएगा .

पीली सरसों के तेल का भाव 215 रुपए लीटर है और बाहर भेजने की लागत अलग होगी.

यह एक प्रयोग शुरू हुआ तो हमने उत्तर प्रदेश में पता किया .लखनऊ के गांधी आश्रम में भी कोल्हू का तेल मिलता है पर वह उतराखंड के काशीपुर स्थित कोल्हू से आता है.

इसके लिए वे गुजरात की उंझा मंडी से पीली सरसों मंगाते है.वहां की पीली सरसों सबसे बेहतर मानी जाती है और उसमें आंखों में लगने वाली झार भी कम होती है.

बहरहाल यह दोनों प्रयोग यह बताते हैं कि आज भी शुद्ध सरसों का तेल उपलब्ध है. हो सकता बैल कोल्हू का तेल न मिले पर बिजली से कालने वाले स्पेलर जैसी छोटी यूनिट में भी शहर कसबे में सरसों का तेल आसानी से मिल जाता है.

कोल्हू
कोल्हू से सरसों तेल

गांव में जिनके खेत में सरसों होता है वे स्पेलर से सरसों का तेल निकलवाना पसंद करते हैं.एक लीटर की पिराई करीब पांच सात रुपए पड़ती है.कई तो सरसों की खली के बदले भी सरसों की पिराई कर देते हैं .

दरअसल दस किलो सरसों करीब छह सौ रुपए का पड़ता है.इससे तीन साढ़े तीन किलो तेल निकलता है.आप बाजार में जो बोतल बंद तेल लेते हैं वह सवा सौ से डेढ़ सौ रुपए लीटर मिलता है जिसमें उनका मुनाफा लागत पैकिंग सब शामिल है.

अब आप इस खेल को समझिये सरसों का एक लीटर तेल बिना मुनाफे का दो सौ रुपए लीटर किसान को पड़ता है तो इतने बड़े बड़े उद्योगपति जो इस धंधे में हैं वे कैसे इतना सस्ता तेल बाजार में बेच रहे हैं ? जवाब है वह मिलावटी यानी उसमें दूसरा सस्ता तेल मिला देते हैं.सरसों के तेल में मुख्य रूप से पाम आयल या राइस ब्रान यानी धान की भूसी का तेल मिलाते हैं.

अब आप इस खेल को समझिये सरसों का एक लीटर तेल बिना मुनाफे का दो सौ रुपए लीटर किसान को पड़ता है तो इतने बड़े बड़े उद्योगपति जो इस धंधे में हैं वे कैसे इतना सस्ता तेल बाजार में बेच रहे हैं ? जवाब है वह मिलावटी यानी उसमें दूसरा सस्ता तेल मिला देते हैं.सरसों के तेल में मुख्य रूप से पाम आयल या राइस ब्रान यानी धान की भूसी का तेल मिलाते हैं.

धान की भूसी के तेल की बहुत खासियत पिछले कुछ समय में बताई गई.पर यह नहीं बताया गया कि लंबे समय तक इसका इस्तेमाल साबुन बनाने के लिए किया जाता था.

आहार विशेषग्य भी इसे कोई अच्छा तेल नहीं मानते हैं .आहार विशेषग्य पूर्णिमा अरुण ने कहा ,यह तेल रासायनिक प्रक्रिया के बाद निकाला जाता है और यह स्वास्थ्य के लिए कहीं से भी बेहतर नहीं है.

बेहतर यही है आप जो भी तेल बिना ब्लेंडिंग वाला मिले उसे ही इस्तेमाल करें.आज भी गांव में जो लोग सरसों की खेती करते हैं वे तो तेल पिरवा कर ही खाते हैं.

प्रयास करे तो यह भी मिल ही जाएगा.क्योंकि बाजार का ब्लेंडिंग वाला तेल नुकसान पहुंचा सकता है.’

दरअसल हमने डिब्बाबंद बोतल बंद खाद्य सामग्री को हाइजिन की वजह से बेहतर मान लिया था पर ऐसा है नहीं.

गोरखपुर आजमगढ़ में बड़े ब्रांड के तेल में मिलावट पाई गई और उनपर जुर्माना भी हुआ.इसलिए यह भ्रम पालना ठीक नहीं.

कोल्हू तो पहले गांव गांव में होता था.पर जबसे हमने बैल को खेती से बाहर किया यह सब भी खत्म होते चले गए.

गाय का भी मान सम्मान तभी तक रहता है जबतक वह दूध देती है.उसके बाद उसकी चिंता करता कोई गो रक्षक हमें तो नहीं दिखा.

पर अभी भी कुछ बिगड़ा तो नहीं है.कोल्हू या तेल के स्पेलर को अगर सरकार गांव में बढ़ावा दे तो पशुधन भी काम आएगा और रोजगार का बड़ा अवसर मिलेगा.

कृपया इसे भी देखें

मिलावटी तेल स्वास्थ्य के लिए हानिकारक

सबसे बड़ी बात शुद्ध सरसों मूंगफली तिल का तेल भी मिल सकेगा.            

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × two =

Related Articles

Back to top button