अयोध्या में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के लिए तैयारियाँ तेज

अयोध्या में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा की तारीख़ तय  होने के बाद समारोह की तैयारियों तेज गई है।सभी तैयारियों 31 दिसंबर तक पूरा करने का लक्ष्य है। प्राण प्रतिष्ठा का पूजन वाराणसी के लक्ष्मी कांत दीक्षित करायेंगे सम्पन्न।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र का निमंत्रण स्वीकार करते हुए 22 को अयोध्या आने की स्वीकृति प्रदान कर दी है। मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष एवं प्रधानमंत्री के पूर्व सचिव नृपेंद्र मिश्र आई ए एस ने बताया की प्रधानमंत्री ने निमंत्रण स्वीकार कर लिया है। प्रधानमंत्री ने स्वयं भी अपने ट्विटर हैंडिल पर निमंत्रण स्वीकार कर अयोध्या यात्रा की पुष्टि की है। 

https://x.com/narendramodi/status/1717183441580802330?s=20

चंपत राय महासचिव श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने एक बयान में बताया, “अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि पर बन रहे नए मंदिर में रामलला के विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा 22 जनवरी 2024 को होगी। भारत के प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र भाई मोदी जी इस अवसर पर उपस्थित रहेंगे।”

https://x.com/ChampatRaiVHP/status/1717195880812708340?s=20

बयान के अनुसार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ मोहन भागवत और उत्तर प्रदेश के मुख्य मन्त्री योगी आदित्यनाथ अयोध्या राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा पर प्रधानमन्त्री जी के साथ रहेंगे ।देश के 4000 संत महात्मा एवं समाज के 2500 प्रतिष्ठित महानुभाव इस ऐतिहासिक प्रसंग के साक्षी बनेंगे।

चंपत राय ने बताया कि श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के न्यासी पूज्य स्वामी विश्वप्रसन्न तीर्थ जी महाराज पेजावर मठ उडुपी कर्नाटक,, पूज्य स्वामी गोविंद देव गिरी जी महाराज पुणे (जो ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष भी हैं ), मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष आदरणीय नृपेंद्र मिश्रा के साथ मैं स्वयं,(चंपत राय)  प्रधानमंत्री जी से मिले थे।  प्रधानमंत्री जी को अयोध्या पधारने का औपचारिक निमंत्रण पत्र प्रस्तुत किया , प्रधानमंत्री जी ने सहज स्वीकृति प्रदान की थी ।

चंपत राय की प्रेस वार्ता के प्रमुख बिंदु

प्राण प्रतिष्ठा की तारीख 22 जनवरी 24 घोषित।

पीएम मोदी ने स्वीकार किया निमंत्रण, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भी पूजन में होंगे शामिल।

सीएम योगी, राज्यपाल प्रोटोकाल शिष्टाचार के तहत होंगे प्राण प्रतिष्ठा में होंगे शामिल ।

राम मंदिर ट्रस्ट की तरफ से चार प्रतिनिधि मंडलों के दल ने रामलला के प्राण प्रतिष्ठा के लिए किया पीएम से शिष्टाचार मुलाकात कर किया आमंत्रित।

देश के सभी पूजा पद्धति के 4000 सन्त होंगे प्राण प्रतिष्ठा में शामिल।

सन्त समाज से हटकर विभिन्न क्षेत्रों से 2500 लोग जैसे वैज्ञानिक, कलाकार , परमवीर चक्र से सम्मानित परिवारों, शहीद कारसेवको के परिवारों को भी किया जाएगा आमंत्रित।

राम जन्मभूमि परिसर में अंदर में बैठने की सीमा है तय।प्राण प्रतिष्ठा में आमंत्रित मेहमानों को अनिवार्य रूप से आधारकार्ड लाना होगा आवश्यक।

प्राण प्रतिष्ठा का पूजन वाराणसी के लक्ष्मी कांत दीक्षित करायेगे सम्पन्न।

22 जनवरी को दोपहर 12:00 बजे से 12:45 के बीच होगी प्राण प्रतिष्ठा संपन्न।

राम भक्त प्रतिष्ठा के अगले दिन से कर सकेंगे रामलाल का दर्शन।

सम्भवतः 16 जनवरी से शुरू होगी प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम।

प्रधानमंत्री के पूजन के बाद ही मिल सकेगा आमंत्रित मेहमानों को रामलाल का दर्शन।

लगभग 3 घंटे से ज्यादा राम जन्मभूमि परिसर में पड़ेगा बैठना।

वयोवृद्ध और अस्वस्थ मेहमानों से ट्रस्ट ने किया अपील प्रतिष्ठा के बाद आए दर्शनार्थ।

राम मंदिर आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाले स्वर्गीय व्यक्तियों के परिजनों को भी किया जाएगा प्रतिष्ठा के लिए आमंत्रित।

100 से ज्यादा प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के मालिकों को भी प्रतिष्ठा में किया जाएगा आमंत्रित।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन शब्दों में इस कार्यक्रम की घोषणा की है।

https://x.com/myogiadityanath/status/1717208466954293403?s=20

राम मंदिर तो लगभग तैयार है देखना है कि काशी और मथुरा के मुद्दे पर संघ परिवार आगे क्या करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

four × 2 =

Related Articles

Back to top button