मध्यप्रदेश में 2 IAS सहित 30 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग

इंदौर में पुलिस अधिकारी की मौत

Bhopal hospital

 भोपाल। कोरोना महामारी से जूझ रहे मध्यप्रदेश में भोपाल 30 मरीज़ स्वस्थ होकर घर आ गए , लेकिन इंदौर से बुरी खबर आयी है, जहां एक पुलिस अधिकारी की मौत हो गयी। शनिवार को राजधानी भोपाल में जो मरीज शनिवार को अस्पताल से डिस्चार्ज हुए उसमें स्वस्थ्य विभाग की प्रमुख सचिव पल्लवी जैन गोविल और हेल्थ कॉरपोरेशन के एमडी जे विजयकुमार भी शमिल है । इन दोनों IAS अफसरों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद इलाज के लिए निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

 गौरतलब है कि स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ IAS जे.विजय कुमार पहले अफसर थे जिनका कोरोना टेस्ट पॉजिटिव पाया गया था। इसके बाद 4 अप्रैल को स्वास्थ्य विभाग की प्रमुख सचिव पल्लवी जैन गोविल की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई थी। शनिवार को दोनों ही अफसरों की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उनको अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया। उधर राजधानी के चिरायु अस्पताल (कोविड हॉस्पिटल) से कोरोना संक्रमित 28 मरीज पूरी तरह स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए। मरीजों के अस्पताल से बाहर निकलने पर डॉक्टरों और स्टॉफ के साथ जिला प्रशासन के अफसरों और कर्मचारियों ने उनका फूलों से स्वागत कर वाटर केनन सैल्यूट दिया। जो मरीज डिस्चार्ज हुए उसमें स्वास्थ्य विभाग 11 अधिकारी और कर्मचारी और एक पुलिस विभाग का कर्मचारी भी शामिल है।

 अस्पताल से डिस्चार्ज हुए मरीज नरेंद्र जायसवाल ने बताया कि सर्दी जुकाम के अलावा कुछ नहीं है कोरोना। यदि हम सकारात्मकता तथा हिम्मत रखें तो कोरोना को अवश्य परास्त कर लेंगे। वहीं स्वस्थ हुई डॉ रूबी खान ने कहा कि कोरोना से कोई भी घबराए नहीं, यह छोटी सी बीमारी है ठीक हो जाती है, कोई दिक्कत नहीं होती।अस्पताल से डिस्चार्ज हुए कोरोना फाइटरों से खुद मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने फोन पर बात की। स्वस्थ हुए मरीज सौरभ पुरोहित ने मुख्यमंत्री को बताया कि अस्पताल में उन्हें हर तरह की सुविधा प्राप्त हुई, जिससे वे जल्द ही इस बीमारी से लड़कर एकदम ठीक होकर आज घर जा रहे हैं। उन्हें अस्पताल में घर जैसा माहौल मिला।

 मुख्यमंत्री ने कहा किया यह अत्यंत खुशी और उत्साह का विषय है कि आपने कोरोना को हराने में सफलता प्राप्त की है। कोरोना का मतलब है हिम्मत और साहस। मैं आप सभी के साहस को प्रणाम करता हूं। आप सभी के सहयोग से हम प्रदेश में कोरोना को जल्द ही पूरी तरह परास्त कर देंगे।

इंदौर में थाना प्रभारी की मौत  

 देश में कोरोना के हॉटस्पॉट के रूप में सबसे अधिक चर्चित मध्यप्रदेश के प्रमुख शहर इंदौर में एक पुलिस अफसर आखिरकार जिंदगी की जंग हार ही गए। शहर के जूनी थाने के प्रभारी के रूप में तैनात रहे देवेंद्र चंद्रवंशी का बीती रात निजी अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो गया। देंवेंद्र को 30 मार्च को तबियत बिगड़ने पर इलाज के लिए एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां पर जांच के दौरान उनका कोरोना टेस्ट पॉजिटिव पाया गया था। इसके बाद दस अप्रैल तक उनकी सेहत में कोई सुधार नहीं हुआ था लेकिन उसके बाद वह तेजी से ठीक होने लगे थे।

 अस्पताल के डॉक्टर विनोद भंडारी के मुताबिक देवेंद्र चंद्रवंशी जो कोरोना से संक्रमित थे उनकी हालात में लगातार सुधार हो रहा था और पिछले दिनों उनकी दो रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी थी और उनको जल्द ही डिस्चार्ज किया जाने वाला था, लेकिन शनिवार रात करीब 11.30 बजे उनकी सांस तेज चलने लगी और उनको पल्मोनरी एम्बुलिजम हुआ जो एक तरह का हार्ट अटैक है और इसी के चलते  उनकी मौत हो गई।  

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने टी आई देंवेंद्र चंद्रवंशी के निधन पर शोक जताया है। शोकाकुल परिवार को राज्य शासन की ओर से सुरक्षा कवच के रूप में ₹50 लाख राशि व उनकी पत्नी श्रीमती सुषमा जी को विभाग में उप निरीक्षक के पद पर नियुक्ति दी जा रही है।

इसे भी देखें :

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen − 1 =

Related Articles

Back to top button