UP में धान न खरीदे जाने से BJP सरकार ने नाराज हैं किसान

बीजेपी से नाराज हैं लखीमपुर खीरी के किसान

उत्तर प्रदेश ​विधानसभा चुनाव 2022 करीब है. लखीमपुर खीरी हत्या ने पहले ही प्रदेश में बीजेपी की हालत पस्त कर रखी है, उस पर किसानों के बद से बदतर होते हालात दयनीय और चिंतनीय होते जा रहे हैं. पूरे प्रदेश की बात छोड़ भी दें तो खुद लखीमपुर खीरी का हाल ऐसा है, जिसे देखकर यह साफ हो जाता है कि बीजेपी सरकार किसानों को लेकर किस कदर लापरवाह होती जा रही है.

सुषमाश्री

जिस लखीमपुर खीरी (lakhimpur kheri) में किसानों को कुचलने की घटना हुई थी, जिसमें चार किसान और एक पत्रकार मारे गए थे, जबकि प्रदर्शनकारियों की पिटाई में तीन अन्य लोगों की मौत हुई थी, अगर उसी का हाल ऐसा है तो पूरे प्रदेश का हाल क्या होगा, यह अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है.

उत्तर प्रदेश की मंडियों (UP Paddy Purchase) में धान न खरीदे जाने को लेकर किसानों की शिकायतें लगातार बढ़ती जा रही हैं. आम किसानों के अलावा बीजेपी नेता भी इस पर खुल कर विरोध जताने लग गए हैं.

बीजेपी सांसद ने उत्तर प्रदेश के किसान समोध सिंह पिछले 15 दिनों से अपनी धान की फसल को बेचने के लिए मंडियों में मारे-मारे फिर रहे थे, जब धान बिका नहीं तो निराश होकर इसमें स्वयं आग लगा दी. बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने भी इस मुद्दे पर अपनी आवाज उठाई है.

वरुण गांधी ने किसान द्वारा धान में आग लगाने का वीडियो ट्वीट किया. उन्होंने कहा, लखीमपुर के मोहम्मदी इलाके में धान न बिकने से नाराज़ एक किसान ने अपने धान को आग लगा दी, जिसे बाद में बुझाया गया. बता दें कि कुछ वक्त पहले लखीमपुर के गोला इलाके में बीजेपी विधायक अरविंद गिरि धान न बिकने से नाराज़ होकर धरने पर बैठ गए थे.

लखीमपुर खीरी में भारतीय जनता युवा मोर्चा के नेता अनुराग बाजपेयी ने अपना वीडियो वायरल (Viral Video) कर कहा है कि वो 6 दिन से धान की ट्रॉली लेकर सरकारी खरीद केंद्र पर खड़े हैं, लेकिन उनका धान नहीं खरीदा जा रहा है. अगर यही हाल रहा तो जनता चुनाव में सरकार को सबक सिखा देगी. बाजपेयी का कहना है कि वो अपने संगठन में भी बड़े नेताओं से धान बिकवाने की सिफारिश कर चुके हैं. इसके बावजूद उनका धान नहीं खरीद जा रहा है. अगर बीजेपी नेता का ही ये हाल है तो आम आदमी का क्या होगा.

कांग्रेस पार्टी की महासचिव और उप्र की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर यह सवाल किया है कि आखिर मौजूदा व्यवस्था किसानों को कहां ले जाकर खड़ा करेगी. उप्र की भाजपा सरकार किसानों को प्रताड़ित करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है. धान की खरीदारी में व्याप्त कुव्यवस्था के कारण लखीमपुर के एक किसान को मंडी में पड़े धान में आग लगानी पड़ी. खाद वितरण में कुव्यवस्था के कारण ललितपुर के एक किसान की लाइन में खड़े-खड़े मृत्यु हो गई.

लखीमपुर खीरी हिंसा : सत्ता का नशा छोड़कर किसानों से बात करें प्रधानमंत्री

Leave a Reply

Your email address will not be published.

5 + 9 =

Related Articles

Back to top button