श्रमिक संगठनों का भारत बंद क्यों!

एक परिचर्चा THE RDT SHOW

देश के दस ट्रेड यूनियन ने 26 नवम्बर भारत बंद बुलाया है. केंद्र सरकार की कथित मजदूर विरोधी नीतियों के विरोध में ये हड़ताल है. अब ऑल इंडिया बैंक एम्पलॉइज एसोसिएशन (AIBEA) ने एलान किया है कि वह भी इन ट्रेन यूनियन की तरफ से बुलाए गए भारत बंद में शामिल होगी. ऐसे में अब बैंक का कामकाज प्रभावित होना तय माना जा रहा है.

दस केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ‘इंडियन नेशनल ट्रेड यूनियन कांग्रेस (इंटक), ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस (एटक), हिंद मजदूर सभा (एचएमएस), सेंटर फार इंडियान ट्रेड यूनियंस (सीटू), ऑल इंडिया यूनाइटेड ट्रेड यूनियन सेंटर (एआईयूटीयूसी), ट्रेड यूनियन को-ऑर्डिनेशन सेंटर (टीयूसीसी), सेल्फ-एम्प्लॉइड वुमेन्स एसोसिएशन (सेवा), ऑल इंडिया सेंट्रल काउंसिल ऑफ ट्रेड यूनियंस (एआईसीसीटीयू), लेबर प्रोग्रेसिव फेडरेशन (एलपीएफ) और यूनाइटेड ट्रेड यूनियन कांग्रेस (यूटीयूसी) के संयुक्त फोरम ने इस बारे में संयुक्त बयान जारी किया. संयुक्त फोरम में स्वतंत्र फेडरेशन और  संगठन भी शामिल हैं.

संयुक्त फोरम ने कहा, ‘‘26 नवंबर की अखिल भारतीय हड़ताल के लिये तैयारियां जोरों पर हैं. हम उम्मीद करते हैं कि 25 करोड़ से अधिक कर्मचारी इस बार हड़ताल में हिस्सा लेंगे.’’

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 2 =

Related Articles

Back to top button