युवा पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि की रिहाई की माँग

संयुक्त किसान मोर्चा

संयुक्त किसान मोर्चा के नेता डा दर्शन पाल ने युवा पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि की रिहाई की माँग की है और 18 फ़रवरी को चार घंटे के लिए रेल रोको कार्यक्रम का आह्वान किया है. डा दर्शन पाल का मूल वक्तव्य इस प्रकार है :

संयुक्त किसान मोर्चा – एसकेएम चल रहे किसान आंदोलन को कमजोर करने के सरकार के प्रयासों में पुलिस की शक्ति के दुरूपयोग के बारे में गहराई से चिंतित है। हम युवा पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि की गिरफ्तारी की निंदा करते है। एसकेएम बिना शर्त तत्काल दिशा रवि की रिहाई की मांग करता है।

दिशा रवि, पर्यावरण कार्यकर्ता

आज के युवा पर्यावरणविद यह भली भांति समझते है कि वर्तमान खेती नीतियां न सिर्फ किसानों के लिए शोषणकारी है बल्कि ये पर्यावरण को भी नुकसानदायी है।यह अस्वाभाविक है कि बाजार के अनुसार खेती करते हुए किसानों ने फसल विविधता को समाप्त कर लिया है। तेजी से बड़े निगमों द्वारा अनुचित व्यापार की वजह से और जलवायु परिवर्तन से जटिल होने के कारण खेती जोखिम में पड़ी है।

केंद्र द्वारा लाये गए तीन कृषि कानून किसानों के लिए न सिर्फ MSP के लिए एक बड़ा खतरा है बल्कि इसके बजाय खुले बाजारों के सहारे खेती को ज्यादा जोखिम भरा बनाते हैं। ऐसी स्थिति में, किसानों द्वारा सततपोषणीय कृषि प्रथाओं को अपनाने की संभावना कम है। यह व्यवहार्यता और स्थिरता के बीच अंतर-संबंध है जिसे दिशा रवि जैसे कार्यकर्ताओं ने किसानों के समर्थन में विस्तार में समझा है।

दूसरी ओर, सभी फसलों के लिए MSP की कानूनी गारंटी की मांग किसानों को धान और गेहूं के मोनोक्रॉपिंग से विविधता लाने में मदद करेगी। मिट्टी के क्षरण, वायु प्रदूषण और अन्य स्वास्थ्य समस्या के स्थायी समाधान के लिए मार्ग प्रशस्त करेगी। यह खेती के साथ साथ शहरी नागरिको के हक़ में भी होगा। इसलिए यह बहुत ही आश्चर्यजनक नहीं है कि पर्यावरण कार्यकर्ता चल रहे किसानों के आंदोलन को समर्थन दे रहे हैं।

कल, 16 फरवरी 2021 को, संयुक्त किसान मोर्चा ने धार्मिक रेखाओं के पार किसान चेतना के लिए काम करने वाले सर छोटू राम के योगदान को याद करने का आह्वान किया है। 1930 के दशक में सूदखोरी के खिलाफ एक कानून लाने वाली यूनियनिस्ट पार्टी ने किसानों को साहूकारों के चंगुल से बचाया और भूमि के अधिकार को वापस दिलाया। सर छोटू राम को भारत में मंडी प्रणाली की स्थापना का श्रेय भी दिया जाता है और वर्तमान किसान आंदोलन इन्ही मंडियों की सुरक्षा व सुधार करना चाहता है।

16 फरवरी को SKM देशभर में अनेक कार्यक्रम आयोजित करने का आह्वान करता है, जो सर छोटू राम के योगदान और उनके जैसे अनुकरणीय लोगों से प्रेरणा लेते हुए चल रहे आंदोलन को और मजबूत करने की आवश्यकता पर प्रकाश डालते हैं।

18 फरवरी को, SKM ने पूरे भारत में दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक रेल रोको कार्यक्रम का आह्वान किया है व यह पूरे भारत में होने की उम्मीद है

डा दर्शन पाल

डॉ दर्शन पाल
संयुक्त किसान मोर्चा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ten − two =

Related Articles

Back to top button