हिन्दू महासभा ने काशी-मथुरा के साथ सभी धार्मिक स्थलों को मुक्त कराने का लिया संकल्प

राष्ट्रीय अध्यक्ष त्रिदंडी महाराज ने कहा कि महासभा ने 6 दिसंबर को ईदगाह मस्जिद में श्रीकृष्ण लला के जलाभिषेक कार्यक्रम की घोषणा की थी, किन्तु उत्तर प्रदेश सरकार ने मथुरा में धारा 144 लगाकर हिन्दू महासभा नेताओं को गिरफ्तार कर आंदोलन का दमन करने की रणनीति अपनाई। इस दमन से हिन्दू महासभा हतोत्साहित नहीं हुई बल्कि आज उसने काशी मथुरा के साथ देश के उन सभी हिन्दू धार्मिक स्थलों को मुक्त कराने का संकल्प लिया, जिन्हें विदेशी आक्रांताओं ने तोड़कर अवैध मस्जिदों का निर्माण करवा दिया।

नवनिर्वाचित राष्ट्रीय अध्यक्ष त्रिदंडीजी महाराज को सौंपा गया कार्यभार

लखनऊ: अखिल भारत हिन्दू महासभा के आज यहां पटेल पार्क में हुये 65वें राष्ट्रीय अधिवेशन में नवनिर्वाचित राष्ट्रीय अध्यक्ष त्रिदंडीजी महाराज ने अगले तीन वर्षों के कार्यकाल संभालने के साथ ही काशी विश्वनाथ और कृष्ण जन्मभूमि मथुरा सहित देशभर में हिन्दू धार्मिक स्थलों से विदेशी आक्रांताओं की निशानियों को मिटाने के लिये आन्दोलन शुरू करेगी। अखिल भारत हिन्दू महासभा, उत्तर प्रदेश ने यह जानकारी दी।

इसके साथ ही हिन्दू महासभा देश की हिन्दुत्व राजनीति में खुद को स्थापित करने के लिये जन-जागरण अभियान भी चलायेगी, ताकि देश की हिन्दू जनता के समक्ष हिन्दू महासभा एक विकल्प के रूप में उभर कर सामने आ सके।

राष्ट्रीय अध्यक्ष त्रिदंडी महाराज ने कहा कि महासभा ने 6 दिसंबर को ईदगाह मस्जिद में श्रीकृष्ण लला के जलाभिषेक कार्यक्रम की घोषणा की थी, किन्तु उत्तर प्रदेश सरकार ने मथुरा में धारा 144 लगाकर हिन्दू महासभा नेताओं को गिरफ्तार कर आंदोलन का दमन करने की रणनीति अपनाई। इस दमन से हिन्दू महासभा हतोत्साहित नहीं हुई बल्कि आज उसने काशी मथुरा के साथ देश के उन सभी हिन्दू धार्मिक स्थलों को मुक्त कराने का संकल्प लिया, जिन्हें विदेशी आक्रांताओं ने तोड़कर अवैध मस्जिदों का निर्माण करवा दिया।

6 दिसंबर को ईदगाह मस्जिद में श्रीकृष्ण लला के जलाभिषेक कार्यक्रम की घोषणा की थी, किन्तु उत्तर प्रदेश सरकार ने मथुरा में धारा 144 लगाकर हिन्दू महासभा नेताओं को गिरफ्तार कर आंदोलन का दमन करने की रणनीति अपनाई। इस दमन से हिन्दू महासभा हतोत्साहित नहीं हुई बल्कि आज उसने काशी मथुरा के साथ देश के उन सभी हिन्दू धार्मिक स्थलों को मुक्त कराने का संकल्प लिया, जिन्हें विदेशी आक्रांताओं ने तोड़कर अवैध मस्जिदों का निर्माण करवा दिया।

इससे पहले अधिवेशन में पहुंचे नवनिर्वाचित राष्ट्रीय अध्यक्ष त्रिदंडीजी महाराज का देशभर से पहुंचे प्रतिनिधियों ने स्वागत किया। इसके साथ ही कई वक्ताओं ने अपने सम्बोधन में त्रिदंडीजी महाराज पर विश्वास व्यक्त करते हुये हिन्दू महासभा को मजबूती के साथ आगे बढ़ाने का संकल्प लिया।

इसके साथ ही नवनिर्वाचित अध्यक्ष त्रिदंडीजी महाराज ने अधिवेशन के सफल आयोजन और राष्ट्रीय अध्यक्ष की निर्वाचन प्रक्रिया को बेहतर ढंग से निभाने के लिये हिन्दू महासभा उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष व अधिवेशन के संयोजक ऋषि त्रिवेदी और स्वागत समिति के अध्यक्ष दिवाकर विक्रम सिंह की सराहना और देशभर से आये प्रतिनिधियों का राष्ट्रीय अध्यक्ष त्रिदंडीजी ने आभार प्रकट किया।

उन्होंने कहा कि आप सभी लोगों के सहयोग से हिन्दू महासभा को ऊंचाइयों पर ले जाने में हम न सिर्फ सफल होंगे, बल्कि देश में हिन्दुत्व की राजनीति में हिन्दू महासभा एक नयी मजबूती के साथ खड़ी नजर आयेगी। अधिवेशन के दौरान कई प्रमुख साधु संतों का भी सम्मान किया गया।

सम्मानित संतों ने भी एकसुर में हिन्दू महासभा के पदाधिकारियों को आगे बढ़ते रहने का आशीर्वाद दिया और कहा कि जिस जोश-खरोश के साथ हिन्दू महासभा आगे बढ़ रही है, उससे साफ है कि देश में शुद्धरूप से हिन्दुत्व की राजनीति करने वाली हिन्दू महासभा एक मजबूत स्थान बनायेगी।

इसे भी पढ़ें:

पुरी पीठाधीश्वर शंकराचार्य सनातनधर्मियों के महासंगम में हिस्सा लेने पहुंचे रामकथा पार्क

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × five =

Related Articles

Back to top button