हैदराबाद के जू में आठ एशियाई शेर कोरोना पॉजिटिव

डा दीपक कोहली
डा दीपक कोहली

हैदराबाद के नेहरू जूलॉजिकल पार्क में आठ एशियाई शेर कोरोना पॉजिटिव पाए गए है। सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी ने बताया कि नेहरू जूलॉजिकल पार्क में इन शेरों का RT-PCR टेस्ट पॉजिटिव आया है। यह देश का पहला मामला है , जब जानवर कोरोना वायरस की चपेट में आए हैं।  

सूत्रों ने बताया कि 29 अप्रैल को सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलेक्युलर बॉयोलाजी  ने नेहरू जूलोजिकल पार्क के अधिकारियों को मौखिक बताया कि आरटी -पीसीआर टेस्ट में 8 शेर पॉजिटिव मिले हैं। सूत्रों के मुताबिक  पशुचिकित्सों ने इन जानवारों की देखभाल के दौरान पाया कि इनमें कोरोना के लक्षण जैसे-भूख न लगना, नाक से पानी आना और कफ की शिकायत पाई थी।

इस जू में 12 शेर हैं, जिनकी उम्र करीब 10 साल है। जू की सफारी एरिया का क्षेत्रफल करीब 40 एकड़ है। नेहरू जूलॉजिकल पार्क को फिलहाल जनता के लिए बंद कर दिया गया है।

यह पार्क घनी आबादी वाले क्षेत्र के पास स्थित है। सुरक्षा का दृष्ट को ध्यान में रखते हुए पार्क में काम करने वाले 25 कर्मचारियों का भी कोरोना जांच करवाई जा रही है। अगर उनकी जांच पॉजिटिव आती है, तो पार्क के लिए यह बड़ी समस्या होगी।

जूलोजिकल पार्क का रखरखाब करने वाले और डायरेक्टर डॉक्टर सिद्धानंद कुकरेती ने न इसकी पुष्टि की और न ही इस बात से इनकार किया कि ये शेर पॉजिटिव पाये गए हैं । डॉक्टर कुकरेती ने कहा, यह बात सच है कि शेरों में कोरोना के लक्षण दिखे हैं लेकिन हमें अभी इन शेरों की  आरटी-पीसीआर  रिपोर्ट मिलनी बाकी है। रिपोर्ट मिलने के बात ही हम इस बारे में जानकारी दे पाएंगे।

हैदराबाद शहर में वाइल्डलाइफ रिसर्च एंड ट्रेनिंग सेंटर के डायरेक्टर डॉक्टर शिरीष उपाध्याय बताते हैं कि पिछले साल न्यूयार्क के एक जू में भी 8 टाइगर और शेर कोरोना पाॉजिटिव पाये गए थे। इसके अलावा इससे पहले जानवरों को कोरोना संकमण को लेकर कोई खबर सामने नहीं आई थी। हालांकि, हांगकांग में कुत्तों और बिल्लियों में कोरोना वायरस पाया गया था।

_____________________________________________________
प्रेषक: डॉ दीपक कोहली, संयुक्त सचिव ,पर्यावरण ,वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग ,उत्तर प्रदेश शासन ,5 /104, विपुल खंड, गोमती नगर, लखनऊ- 226010 ( मोबाइल- 9454410037) 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

11 + 11 =

Related Articles

Back to top button