नागरिक पत्रकारिता के लिए सुनहरा दौर

जानिए नागरिक पत्रकार कैसे बनें

जिस तरह से न्यू मीडिया NEWMedia उभरा है और लोगों को अपनी बात कहने के लिए तमाम प्लेटफॉर्म मिले हैं उससे इस दौर को नागरिक पत्रकारिता के लिए सुनहरा दौर कहा जा सकता है।

परंपरागत मीडिया के समय में आम आदमी निष्क्रिय ऑडिएंस भर था और खुद मीडिया विज्ञापन के ज़रिए कमाई का जरिया बन गया था और मीडिया घरानों के कैद में था। गांव गीरांव आम आदमी की सुनने वाले कोई नहीं था। इस शून्य को भरने का काम नागरिक पत्रकारिता ने किया।

अब मेन स्ट्रीम मीडिया बस नाम का है काम तो नागरिक पत्रकार कर रहे हैं। नागरिक पत्रकार बनने के लिए किसी सर्टिफिकेट या डिग्री कोर्स की ज़रूरत नहीं. जिसके अंदर भी जिज्ञासा अपने आस पास घट रही घटनाओं के प्रति है, जिसका सामाजिक सरोकार से लगाव है वह यह काम बखूबी कर सकता है.

नागरिक पत्रकार पेशे से नहीं कर्म से पत्रकार होता है। अतः पत्रकार के गुण आवश्यक है जैसे खबर सूंघने की शक्ति, उसका मूल्यांकन, गहरी पड़ताल करना, पढ़ने का गुण, लिखने का कौशल और अच्छा श्रोता होना. नागरिक पत्रकार अपनी जानकारी विभिन्न वेब पोर्टलों के ज़रिए या अपनी वेबसाइट बनाकर, ब्लॉग लिखकर, यू ट्यूब चैनल बनाकर, फ़ेसबुक पेज बनाकर तमाम तरीकों से प्रसारित कर सकता है.

अपनी दक्षता बढ़ाने के लिए, अपने आसपास के वरिष्ठ पत्रकारों से सहयोग, मार्गदर्शन ले सकता है और अंत में जैसा की कहा जाता है काम काम को सिखाता है वह अपने काम के निरीक्षण से उसमें निरंतर सुधार ला सकता है.

वर्तमान समय नागरिक पत्रकारिता के लिए सुनहरा दौर है.इसलिए विलम्ब न करिए और अपने आसपास के समाचार संकलित कर भेजना शुरू करिए. और इस तरह आप नागरिक पत्रकार बन जाइए.

अजय कुमार उर्फ़ पंचू काका

अजय कुमार उर्फ़ पंचू काका
अजय कुमार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

eighteen − nine =

Related Articles

Back to top button