बच्चों की याददाश्त बढ़ायें सुपर फूड्स

जंक फूड खाने का असर मस्तिष्क पर भी पड़ता है

डॉ दीपक कोहली

बच्चों में कमजोर याददाश्त की समस्या होना एक आम बात होती है। लेकिन यदि आपका बच्चा कुछ घंटों में ही बातों को भूल जाता है तो यह कमजोर याददाश्त की स्थिति हो सकती है। कई ऐसे बच्चे होते हैं जो चीजों को तुरंत याद कर लेते हैं फिर चाहे वह स्कूल में पढ़ाया गया पाठ हो या मातापिता द्वारा दी गई कोई सीख। कुछ बच्चों की मेमोरी बेहद तेज होती है। हालांकि, ऐसे भी कुछ बच्चे होते हैं जिन्हें कोई भी बात ज्यादा समय के लिए याद रखने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। 

हम जो भी खाते हैं उससे मस्तिष्क सबसे पहले पोषण खींच लेता है। जंक फूड खाने का असर मस्तिष्क पर भी पड़ता है। इसकी वजह से मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। बच्चों में याददाश्त बढ़ाने के कई सारे ऐसे उपाय हैं जिनकी मदद से उन्हें जंक फूड की बजाए स्वस्थ और स्वादिष्ट आहार खाने की सलाह दी जाती है। बढ़ते हुए शरीर को कई तरह के पोषक तत्वों की जरूरत होती है हम आपको बच्चों की याददाश्त बढ़ाने के लिए कुछ सुपर फूड्स के बारे में बता रहे हैं जो मस्तिष्क के लिए बहुत बेहतर माने जाते हैं

Chidren's Brian
Food for Brian

1.ओट्सओट्स बच्चों की याददाश्त के लिए सबसे बेहतरीन सुपरफूड है। इससे बच्चों के दिमाग को एनर्जी मिलती है। सुबह नाश्ते में फाइबर से युक्त ओट्स खाने से बच्चों का दिमाग दिनभर ऊर्जावान रहता है। ओट्स विटामिन , विटामिन बी, जिंक और पोटाशियम का अच्छा स्रोत होता है। इससे मस्तिष्क और शरीर को बहुत ऊर्जा मिलती है।

2.रंगबिरंगी सब्जियां : बच्चों की याददाश्त बढ़ाने के उपाय में टमाटर, शकरकंद, कद्दू, गाजर, पालक जैसी सब्जियां शामिल हैं जो एंटीऑक्‍सीडेंट से युक्‍त होती हैं। यह बच्चों के मस्तिष्‍क की कोशिकाओं को स्‍वस्‍थ और मजबूत बनाते हैं। बच्‍चों की डाइट में रंगबिरंगी सब्जियों को शामिल करें और उनके मस्तिष्‍क के साथसाथ शरीर को भी स्‍वस्‍थ बनाएं।

3. सैल्मन: फैटी फिश जैसी सैल्मन ओमेगा-3 फैटी एसिड डीएचए और ईपीए का उत्तम स्त्रोत होती है। ये दोनों ही मस्तिष्क के विकास और कार्य के लिए जरूरी होते हैं। यहां तक कि हाल ही में हुई रिसर्च में भी सामने आया है कि जो लोग अपने आहार में ये फैटी एसिड लेते हैं उनका दिमाग तेज होता है और वो दिमाग से जुड़े काम बेहतर तरीके से कर पाते हैं। टूना मछली ओमेगा से तो प्रचुर होती है लेकिन सैल्मन से कम पोषण होता है।

4. पीनट बटर: मूंगफली और पीनट बटर विटामिन अच्छा स्रोत है। विटामिन एक ऐसा एंटीऑक्सीडेंट है जो नसों की झिल्लियों को सुरक्षा प्रदान करता है। इसके साथ ही पीनट बटर में थायमिन भी होता है जो मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को एनर्जी के लिए ग्लूकोज इस्तेमाल करने में मदद करता है।

5.साबुत अनाज : बच्चों में याददाश्त बढ़ाने के उपाय में साबुत अनाज बेहद महत्वपूर्ण होता है। बच्चों के मस्तिष्क को लगातार ग्लूकोज की जरूरत होती है और साबुत अनाज इसकी पूर्ति करते हैं। इनमें मौजूद फाइबर शरीर में ग्लूकोज सके रिलीज को नियंत्रित करता है। साबुत अनाज में विटामिन बी भी होता है जो तंत्रिका तंत्र को स्वस्थ बनता है।

6. दूध और दही: दूध से बनी चीजें प्रोटीन और विटामिन बी से युक्‍त होती है जो की बच्चे का दिमाग तेज बनाने में मदद करती हैं। ये दोनों पोषक तत्‍व मस्तिष्‍क के ऊतकों, न्‍यूरोट्रांसमीटर और एंजाइम्‍स के लिए जरूरी होते हैं। दूध और दही प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट से भी युक्‍त होती है जो कि मस्तिष्‍क को ऊर्जा प्रदान करते हैं। हाल ही में हुई एक रिसर्च के अनुसार बच्‍चों और किशोंरो की याददाश्त बढ़ाने के लिए विटामिन डी की अधिक जरूरत होती है। ये विटामिन न्‍यूरोमस्‍कुलर सिस्‍टम को लाभ पहुंचाता है और कोशिकाओं की उम्र बढ़ाता है। अगर बच्‍चों को सादा दूध पीना पसंद नहीं है तो आप उन्‍हें शेक के रूप में दूध पिला सकते हैं। वहीं दही का स्‍वाद को बहुत अच्‍छा होता है और बच्‍चे रायते या अन्‍य कई तरह से दही का सेवन कर सकते हैं। 

7.बैरीज : स्ट्रॉबेरी, चैरी, ब्लूबैरी और ब्लैकबेरी पोषक तत्वों से युक्त होती हैं। इनमें एंटीऑक्सीडेंट्स खासतौर पर विटामिन सी की उच्च मात्रा होती है जो कैंसर से बचाने में मदद करता है। कई अध्ययनों में भी सामने आया है कि ब्लूबैरी और स्ट्रॉबेरी के रस से याद्दाश्त में सुधार आता है। इनके बीजों में ओमेगा-3 फैटी एसिड प्रचुरता में होता है।

8. अंडे: अंडे प्रोटीन का बेहतरीन स्त्रोत होते हैं लेकिन अंडे के पीले भाग में कोलाइन भी होता है जो कि याद्दाश्त बढ़ाने में मदद करता है। स्कूल जाने से पहले अपने बच्चे को नाश्ते में उबला हुआ अंडा खिलाएं।

9. बीन्स: प्रोटीन और कॉम्प्लेक्स कार्ब से युक्त होने के कारण बीन्स एनर्जी से भरपूर होते हैं। इनमें विटामिन और मिनरल के साथसाथ फाइबर भी प्रचुर मात्रा में  होता है। ये दिमाग के लिए बेहतरीन फूड होता है।

इस प्रकार बच्चों को जंक फूड्स से दूर रख कर तथा उपरोक्त अंकित सुपर फूडस को अपने बच्चों के आहार में सम्मिलित करके हम उनकी याददाश्त को केवल  बढ़ा सकते हैं वरन उनके शरीर को पुष्ट तथा मस्तिष्क को भी ऊर्जावान बना सकते हैं।

__________________________________________________________________

Dr Deepak Kohli
Dr Deepak Kohli

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles