लखीमपुर खीरी में किसानों पर कार चढ़ायी, हिंसा में कई मरे

राम दत्त त्रिपाठी

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी ज़िले में किसानों का कहना है कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्र के बेटे ने प्रदर्शन कर रहे किसानों पर कार चढ़ा दी. कार से कुचलने और उसके बाद हिंसा में आठ लोगों की मृत्यु हो गयी. चार लोग गाड़ी से कुचलकर मरे बताए गए हैं, जबकि चार लोग गाड़ी पलटने से मरे. विपक्ष ने इसे लखीमपुर_किसान_नरसंहार की संज्ञा दी है. मंत्री का कहना है कि उनका बेटा घटनास्थल पर मौजूद नहीं था.

लगता है गाड़ी चढ़ने से मौत के बाद किसानों की भीड़ उग्र हो गयी. सोशल मीडिया पर एक वीडियो में दिखायी ड़े रहा है कि एक भीड़ एक गाड़ी को पलट रही है और गालियाँ देते हुए एक व्यक्ति को लाठियों से पीट रही है. लखीमपर खीरी के एडिशनल एसपी अरुण कुमार ने बताया कि बनवारीपुर बवाल में 8 लोगों की मौत हुई है. मरने वालों में चार किसान और चार गाड़ी सवार शामिल हैं.

किसान डिप्टी सीएम केशव मौर्य को काले झंडे दिखाने के लिए तिकोनिया में खड़े थे।दो गाड़ियां फूंक दी गयी है। हादसे की सूचना मिलने पर उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य कार्यक्रम ने नही गए और रास्ते से ही वापस लौट आए.

इलाक़े में शांति बहाली के लिए राजधानी लखनऊ से कई बड़े अफ़सर और अर्ध सैनिक बल भेजे गए हैं.

खबर है कि बड़ी संख्या में किसान और विपक्षी नेता भी लखीमपुर खीरी जा रहे हैं, इसलिए वहाँ तनाव है. प्रशासन ने ज़िले में इंटर्नेट सेवाएँ बंद कर दी हैं.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने देर रात एक बयान में कहा कि,”जनपद लखीमपुर खीरी में घटित हुई घटना अत्यंत दुखद एवं दुर्भाग्यपूर्ण है. यूपी सरकार इस घटना के कारणों की तह में जाएगी तथा घटना में शामिल तत्वों को बेनक़ाब करेगी व दोषियों के विरुद्ध सख़्त कार्रवाई करेगी. “

लखीमपुर के किसानों का बवाल
लखीमपुर में किसानों का बवाल

गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्र की सफ़ाई

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्र ने कहा कि उनके बेटे पर लगाया जा रहा ये आरोप कि वो गाड़ी चला रहे थे, ये सरासर झूठ है. उन्होंने कहा, “वो, मैं या मेरे परिवार का कोई भी सदस्य उस वक़्त वहां मौजूद ही नहीं था.”

अजय मिश्र ने बताया, “जैसा कि आप सबको जानकारी है कि हमारे पैतृक गांव में प्रतिवर्ष कुश्ती प्रतियोगिता का कार्यक्रम होता है. इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए बतौर मुख्य अतिथि आज माननीय उपमुख्यमंत्री जी को आना था और लखीमपुर में पीडब्ल्यूडी का कार्यक्रम था वो करके हम दोनों लोग साथ आ रहे थे.”

“जब हम कार्यक्रम स्थल से थोड़ी दूर थे तो हमारा रूट यह बता कर डायवर्जन कर दिया गया कि कुछ किसान वहां पर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं और काला झंडा दिखाने की कोशिश करेंगे. हमलोगों का रूट परिवर्तित हो गया उसके बाद हमारे कार्यकर्ता चार पांच गाड़ियों से हमें लेने आ रहे थे. उन कार्यकर्ताओं पर किसानों के बीच शामिल अराजक तत्वों ने पथराव किया. इसकी वजह से वो गाड़ियां रुकीं.”

“गाड़ियों से खींच कर हमारे कार्यकर्ताओं को लाठी, डंडे और तलवारों से पीटा गया. इसका वीडियो हमारे पास है. फिर गाड़ियों को धक्का देकर गड्ढे में गिराया गया. उन गाड़ियों को जलाया गया. उसके साथ साथ दूसरी गाड़ियों में भी भारी तोड़फोड़ की गई.”

“इस दुखद घटना में हमारे तीन भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं की मृत्यु हुई है. ड्राइवर की भी मृत्यु हुई है. साथ ही 10 से 12 लोग घायल हुए हैं. यह बेहद दुखद घटना है जो इस आंदोलन में घुसे उपद्रवियों ने की है. जब से ये किसान आंदोलन शुरू हुआ है, बब्बर खालसा से लेकर अनेक उपद्रवी संगठन हमारे देश में अस्थिरता फैलाने की कोशिश में लगे हैं. किसान आंदोलन को चलाने वाले लोगों को भी इन बातों को समझना चाहिए.”

भाजपाई न गाड़ी से चल पाएंगे, न उतर पाएंगे- अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार किसानों के आंदोलन के प्रति हिंसक व्यवहार कर रही है। तीन काले कृषि कानूनों के खिलाफ लखीमपुर में तिकोनिया कस्बे के बनवारीपुर गांव में लोकतांत्रिक तरीके से धरना-प्रदर्शन कर रहे किसानों पर भाजपा सरकार के गृहराज्यमंत्री के पुत्र द्वारा गाड़ी से कुचलना घोर अमानवीय और क्रूर कृत्य है। इसमें 25 किसान घायल हो गए है जबकि 4 किसानों की मौत हो गई है। इस घटना की जितनी निंदा की जाय कम है। भाजपा सरकार किसानों को लगातार अपमानित कर रही है। अब तो तानाशाही तरीके से भाजपा किसानों की हत्या पर उतारू हो गई है।

श्री यादव कल पीड़ितों से मिलने खीरी जा रहे हैं


पिछले 10 माह से अपनी मांगों में लेकर आंदोलन कर रहे किसानों की भाजपा सरकार सुनवाई नहीं कर रही है। इससे किसानों का आक्रोशित होना स्वाभाविक है। लखीमपुर खीरी में मंत्री के बेटे द्वारा किसानों को गाड़ी से कुचलना बेहद गंभीर घटना है। मामले में तत्काल हत्या का मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी हो। अब दम्भी भाजपाइयों का जुल्म उत्तर प्रदेश नहीं सुनेगा यही हाल रहा तो उत्तर प्रदेश में भाजपाई न गाड़ी से चल पाएंगे, न उतर पाएंगे।


कांग्रेस प्रतिनिधि मंडल खीरी में

कांग्रेस प्रदेश महासचिव सैफ नकवी, प्रदेश सचिव गुरमीत भुल्लर, अभिषेक पटेल व पूर्व सासंद जफर अली नकवी के नेतृ्त्व में प्रतिनिधिमंडल लखीमपुर पहुंचा।प्रियंका गांधी कल लखीमपुर जायेंगी। पीड़ित किसान परिवारों से करेंगी मुलाकात.

लखीमपुर घटना की जांच सीबीआई से हो : संजय सिंह , आपसमाजवादी पार्टी सपा का डेलिगेशन कल लखीमपुर जा रहा है।

घटनाक्रम

प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार सुबह 8 बजे किसानों ने केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी और डिप्टी CM केशव मौर्य के हेलिकॉप्टर उतरने के लिए तिकोनिया में बनाए गए हेलिपैड को कब्जे में ले लिया गया था। दोपहर 2:45 पर जब सड़क मार्ग से दोनों नेताओं का काफिला तिकोनिया चौराहे से गुजरा तो किसान काले झंडे दिखाने के लिए दौड़ पड़े।

खबरें हैं है कि इस दौरान काफिले में शामिल अजय मिश्रा के बेटे अभिषेक मिश्रा ‘मोनू’ ने अपनी गाड़ी किसानों पर कार चढ़ा दी। यह देख किसानों का गुस्सा फूट गया। किसानों ने अभिषेक की गाड़ी के अलावा एक अन्य गाड़ी को आग के हवाले कर दिया। तोड़फोड़ भी हुई है। पुलिस स्थिति को संभालने की कोशिश कर रही है। वहीं, घायलों को अस्पताल भेजा गया है। भारतीय किसान यूनियन का दावा है कि 3 किसानों की मौत हो गई है। 8 किसान घायल हैं।

आप पार्टी के नेता राघव चड्ढा ने अपने ट्वीट में कहा है,”महात्मा गांधी के देश में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे किसानों के साथ भाजपा नेता हैवानियत पर उतर आए हैं.

राकेश टिकैत का बयान

भारतीय किसान यूनियन ने ट्वीट किया है कि राकेश टिकैत मौक़े के लिए रवाना हो गए हैं. राकेश टिकैत अभी ग़ाज़ीपुर धरनास्थल पर थे .श्री टिकैत ने एक बयान में कहा ,”लखीमपुर खीरी में हुई घटना बहुत ही दुखद है। ‌इस घटना ने सरकार के क्रूर और अलोकतांत्रिक चेहरे को एक बार फिर उजागर कर दिया है। किसान आंदोलन को दबाने के लिए सरकार किस हद तक गिर सकती है, सरकार और सरकार में बैठे लोगों ने आज फिर बता दिया। लेकिन सरकार भूल रही है कि अपने हक के लिए हम मुगलों और फिरंगियों के आगे भी नहीं झुके। सरकार किसान के र्धर्य की और परीक्षा न ले। किसान मर सकता है पर डरने वाला नहीं है। सरकार होश में आए और किसानों के हत्यारों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी सुनिश्चित करे। किसानों से अपील है कि शांति बनाएं रखें, जीत किसानों की ही होगी। सरकार होश में ना आई तो भाजपा के एक भी नेता को घर से नहीं निकलने दिया जाएगा।”
-राकेश टिकैत, राष्ट्रीय प्रवक्ता, भाकियू

भारतीय किसान यूनियन ने चार मृतकों की सूची जारी की है .

लखीमपुर खीरी नरसंहार में शहीद किसानों की सूची

  1. गुरविंदर सिंह पुत्र सुखविन्द्रर सिंह
    ग्राम मकरोनिया नानपारा
    आयु 20 वर्ष
  2. दलजीत सिंह पुत्र हरी सिंह ग्राम बनजारा ठठ्ठा नानपारा आयु 35
  3. नक्षत्र सिंह पुत्र सुब्बा सिंह ग्राम नयापुरवा धौरहरा आयु 65

4.लवप्रीत सिंह पुत्र सतिनाम सिंह चौकड़ा फार्म पलियाकला आयु 20

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी घटना की कड़ी भर्त्सना की है.

लोकदल नेता जयंत चौधरी ने इसे दिल दहला देने वाली घटना बताया है .

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में कहा है कि किसानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाने देंगे.

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने आरोप लगाया है कि भाजपा किसानों से नफ़रत करती है. प्रियंका ने कहा है कि किसान सत्याग्रह मज़बूत होगा और किसान आवाज़ और बुलंद होगी.

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × four =

Related Articles

Back to top button