PM मोदी को लाइव देख रहे थे BJP नेता, किसानों ने बनाया बंधक

पूर्व मंत्री के माफी मांगने के बाद किसानों ने बीजेपी नेताओं को किया रिहा

एक ओर जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार सुबह केदारनाथ में कई प्रोजेक्ट्स का शुभारंभ कर रहे थे, वहीं दूसरी ओर हरियाणा के रोहतक जिले के एक मंदिर में इस कार्यक्रम का लाइव प्रसारण देख रहे बीजेपी के नेताओं को किसानों ने कई घंटो तक बंधक बनाए रखा. मामले की गंभीरता को भांपते हुए जब पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर ने किसानों से माफी मांगी तब जाकर किसानों ने उन्हें रिहा किया. जानकारी के मुताबिक, ये सभी किसान तीन कृषि कानूनों के विरोध में लंबे समय से आंदोलन कर रहे हैं.

मीडिया स्वराज डेस्क

घटना दिलचस्प है और चौंकाने वाली भी. खास यह है कि इन नेताओं में पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर भी शामिल हैं. हालांकि बाद में जब पूर्व मंत्री ने किसानों से हाथ जोड़कर माफी मांगी, तब जाकर मामला सुलझा. किसानों ने पूर्व मंत्री को उनके द्वारा दिए गए बयान पर माफी मांगने के लिए कहा था. इस मामले के सामने आने के बाद पुलिस अलर्ट हो गई और फौरन जवानों को मौके पर भेजा.

जनसत्ता डॉट कॉम की एक खबर के मुताबिक, ये बीजेपी नेता पीएम मोदी के केदारनाथ से लाइव टेलीकास्‍ट को देखने के लिए मंदिर में पहुंचे थे, लेकिन यहां उनको आंदोलन कर रहे किसानों ने घेर लिया. किसानों का आरोप है कि पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर ने उनके खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया.

ये किसान बीते एक साल से ज्यादा समय से केंद्र सरकार के 3 विवादास्‍पद कृष‍ि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं. किसानों ने पूर्व मंत्री को उनके द्वारा दिए गए बयान पर माफी मांगने के लिए कहा था.

इस मामले के सामने आने के बाद पुलिस अलर्ट हो गई और फौरन जवानों को मौके पर भेजा. जिन नेताओं को मंदिर में बंधक बनाया गया था, उसमें पार्टी के संगठन मंत्री रवींदर राजू, बीजेपी जिला प्रमुख अजय बंसल, मेयर मनमोहन गोयल और पार्टी नेता सतीश नांदाल भी थे.

बता दें कि हरियाणा और पंजाब के किसान तीन कृषि कानूनों के विरोध में काफी समय से आंदोलन कर रहे हैं. इन किसानों का कहना है कि अगर ये कानून अमल में ला दिए गए तो कृषि का भी प्राइवेटाइजेशन हो जाएगा. वहीं, सरकार का कहना है कि वह किसानों का हित देख रही है और वह उनके हिसाब से सारे काम करने को तैयार हैं.

इसे भी पढ़ें:

किसान आंदोलन से भाजपा की मुश्किलें बढ़ीं

क्या था पूरा मामला

पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर शुक्रवार सुबह दस बजे के करीब रोहतक के गांव किलोई में पूजा करने पहुंचे थे, जिस किलोई के प्राचीन शिव मंदिर में वह गए थे, वहां केदारनाथ धाम में पहुंचे पीएम मोदी के कार्यक्रम का लाइव प्रसारण हो रहा था. इसी दौरान जब किसानों को ये बात पता लगी कि बीजेपी नेता मंदिर में हैं, तो वे वहां आ गए और विरोध करने लगे. इस दौरान किसानों ने मंदिर में लगी टीवी के तार भी तोड़ दिए.

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × 2 =

Related Articles

Back to top button