Ayodhya Deepotsav 2021 : इस दिवाली 7.5 लाख दीयों से रौशन होगी अयोध्या नगरी

अयोध्या में भव्य होगा दीपोत्सव

Diwali 2021 में इस बार राम की अयोध्या नगरी के पांच दिवसीय दीपोत्सव कार्यक्रम में जहां 7.5 लाख दीये राम की पैड़ी पर जलेंगे तो वहीं, डेढ़ लाख दीपक अयोध्या के सभी प्राचीन मंदिर और कुंडों की शोभा बढ़ाएंगे. एक नवंबर को रामायण कॉन्क्लेव का समापन अयोध्या में होगा.

सुषमाश्री

Diwali 2021 : अयोध्या की दिवाली देश ही नहीं, पूरी दुनिया में मशहूर है. पांचवीं बार दिवाली के मौके पर खूब धूम धाम से सबसे ज्यादा दीये जलाकर विश्व रिकॉर्ड कायम करने की कोशिश की जा रही है.

अयोध्या का दीपोत्सव : इस बार राम की अयोध्या नगरी के पांच दिवसीय दीपोत्सव कार्यक्रम में जहां 7.5 लाख दीये राम की पैड़ी पर जलेंगे तो वहीं, डेढ़ लाख दीपक अयोध्या के सभी प्राचीन मंदिर और कुंडों की शोभा बढ़ाएंगे. एक नवंबर को रामायण कॉन्क्लेव का समापन अयोध्या में होगा. 2 नवंबर को विदेशी मेहमान अयोध्या में मौजूद रहेंगे, जो टूर एंड ट्रैवल्स के लोग रहेंगे. 3 नवंबर को सभी मुख्य कार्यक्रम रहेंगे. 4 नवंबर को दिवाली है. उससे ठीक एक दिन पहले यानि 3 नवंबर को ही मुख्य दीपोत्सव कार्यक्रम आयोजित होगा.

यहां राम की पैडी में स्थित पुराने मंदिरों की रंगाई पुताई हो चुकी है. 85 से 90% तक सारे काम पूरे हो चुके हैं. आधिकारिक प्रवक्ता के अनुसार, पर्यटन विभाग को आयोजन की तैयारी करने और उसी के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है. दिवाली की तैयारियों से जुड़े सभी कार्यों की देखरेख राज बहादुर सिंह कर रहे हैं.

योगी आदित्यनाथ सरकार इस साल दिवाली पर अयोध्या में सरयू नदी के घाटों पर 7.5 लाख दीये (दीपक) जलाने की तैयारी कर चुकी है. 7.5 लाख दीयों की रौशनी से पूरी अयोध्या नगरी जगमग होगी. यकीनन दीपावली का यह नजारा भव्य होगा.

प्रवक्ता ने कहा, मुख्य कार्यक्रम होने से पहले कार्यक्रम के तीन परीक्षण होंगे. अनुमानित रूप से 7,000 स्वयंसेवक दीया जलाने में भाग लेंगे. ये तैयारियां बेहद विशाल स्तर आयोजित की जा रही हैं.

दिवाली से ठीक एक दिन पहले यानि 3 नवंबर को साकेत महाविद्यालय से शोभायात्रा निकलेगी, भगवान राम का राज्याभिषेक होगा. सरयू जी की भव्य आरती होगी. राम की पैड़ी के तट पर 7.50 लाख दीपक जलाकर कीर्तिमान स्थापित करने का प्रयास किया जाएगा. 4 नवंबर को लेजर शो तथा लाइटिंग बरकरार रहेगी जो 5 नवंबर तक रहेगी.

मुख्य कार्यक्रम होने से पहले कार्यक्रम के तीन परीक्षण होंगे. अनुमानित रूप से 7,000 स्वयंसेवक दीया जलाने में भाग लेंगे. ये तैयारियां बेहद विशाल स्तर आयोजित की जा रही हैं.

इस बार राज्य सरकार ने पिछले साल 2020 के अपने ही रिकॉर्ड को तोड़ने की योजना बनाई है, जब दीपोत्सव के दौरान 5.5 लाख दीये जलाए गए थे. योगी आदित्यनाथ सरकार इस साल दिवाली पर अयोध्या में सरयू नदी के घाटों पर 7.5 लाख दीये (दीपक) जलाने की तैयारी कर चुकी है. 7.5 लाख दीयों की रौशनी से पूरी अयोध्या नगरी जगमग होगी. यकीनन दीपावली का यह नजारा भव्य होगा.

हनुमान जयंती के अवसर पर आयोजित होने दीपोत्सव- 2021 के मुख्य अतिथि कोरिया गणराज्य के राष्ट्रपति मून-जे-इन हो सकते हैं. इस संभावना को उस समय अधिक बल मिला जब यहां शनिवार को नई दिल्ली स्थित कोरियाई दूतावास की दस सदस्यीय टीम अयोध्या पहुंची. इस टीम के सदस्यों ने पर्यटन विभाग समेत इंडो-कोरियन मान्यूमेंट के निर्माण की कार्यदाई संस्था यूपीआरएनएन के अधिकारियों व मान्यूमेंट के आर्किटेक्ट के साथ साइट विजिट किया. इस दौरान मानचित्र में प्रस्तावित योजना के सभी बिन्दुओं का बारीकी से अध्ययन करते हुए शेष कार्य को निर्धारित अवधि में पूरा कर लेने की गारंटी मांगी.

आज भी शायद ही वह नजारा कोई भूल पाया होगा, जब पिछले साल दिवाली के मौके पर अयोध्या में विशाल दीपोत्सव का आयोजन किया गया था. उन तस्वीरों ने सबका मन मोह लिया था. इस साल भी राज्य सरकार ऐसी ही तैयारी में है.

इस मान्यूमेंट के अनावरण के लिए कोरिया गणराज्य का कौन अतिथि होगा, यह तय नहीं है लेकिन दीपोत्सव में कोरिया के भारतीय राजदूत का कार्यक्रम तय है. बताते चलें कि इस मान्यूमेंट के निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वर्ष 2015 में अपनी कोरिया यात्रा के दौरान कोरियाई राष्ट्रपति के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किया था.

अयोध्या में दीपोत्सव की तैयारियों को लेकर एएनआई का ट्वीट

वहीं, सुरक्षा के लेकर भी सारी तैयारियां कर ली गई हैं. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि, हमने व्यापक इंतजाम किए हैं. मेला और आगामी दीपोत्सव की तैयारी को देखते हुए सुरक्षा का प्लान तैयार किया गया है. मेले को लेकर समन्वय बैठक संत समाज के साथ की गई है. बैठक में सुरक्षित माहौल में सभी कार्यक्रम संपन्न कराए जाने पर चर्चा की गई है. यातायात व्यवस्था और सुरक्षा व्यवस्था कैसे फुलप्रूफ रहे, इस पर भी चर्चा की गई है.

ता दें कि इस साल दिवाली का पर्व 4 नवंबर को है. दीपोत्सव का यह कार्यक्रम एक दिन पहले आयोजित किए जाने की संभावना है. पिछले साल की तरह इस साल भी इस पर्व में लोगों के बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने के कयास लगाए जा रहे हैं.

आज भी शायद ही वह नजारा कोई भूल पाया होगा, जब पिछले साल दिवाली के मौके पर अयोध्या में विशाल दीपोत्सव का आयोजन किया गया था. उन तस्वीरों ने सबका मन मोह लिया था. इस साल भी राज्य सरकार ऐसी ही तैयारी में है. बता दें कि इस साल दिवाली का पर्व 4 नवंबर को है. दीपोत्सव का यह कार्यक्रम एक दिन पहले आयोजित किए जाने की संभावना है. पिछले साल की तरह इस साल भी इस पर्व में लोगों के बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने के कयास लगाए जा रहे हैं.

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × five =

Related Articles

Back to top button