यूपी विधानसभा में उठी अजय मिश्र टेनी की बर्खास्तगी की मांग

कांग्रेस विधायकों ने लखीमपुर किसान कांड में आरोपी केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी की बर्खास्तगी की मांग को लेकर हजरतगंज गांधी प्रतिमा से विधानसभा तक पैदल मार्च किया। वहीं, सपा विधायकों ने गन्ना किसानों की मांग को लेकर विधानसभा के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। सपा विधायक यहां गन्ना लेकर पहुंचे थे।

कांग्रेस विधायकों ने किया पैदल मार्च, सपा विधायक गन्ना लेकर पहुंचे

लखनऊ: जैसा कि पहले से ही अनुमान लगाया जा रहा था, उत्तर प्रदेश विधानसभा के शीतकालीन सत्र के पहले दिन लखीमपुर खीरी किसान नरसंहार कांड में आरोपी केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी की बर्खास्तगी की मांग को लेकर विपक्ष ने सरकार को घेरा। तीन दिवसीय शीतकालीन सत्र के पहले दिन विपक्ष ने सदन के अंदर और बाहर महंगाई, लखीमपुर हिंसा और यूपी में बिगड़ती कानून व्यवस्था जैसे मुद्दों को लेकर प्रदर्शन किया।

कांग्रेस विधायकों ने लखीमपुर किसान कांड में आरोपी केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी की बर्खास्तगी की मांग को लेकर हजरतगंज गांधी प्रतिमा से विधानसभा तक पैदल मार्च किया। वहीं, सपा विधायकों ने गन्ना किसानों की मांग को लेकर विधानसभा के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। सपा विधायक यहां गन्ना लेकर पहुंचे थे।

पैदल मार्च में कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, कांग्रेस की नेता विधान मंडल आराधना मिश्रा मोना, कांग्रेस के नेता विधान परिषद दीपक सिंह सहित अन्य कांग्रेसियों ने गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी को बर्खास्त करो के नारे लगाए। विधानसभा की कार्यवाही में हिस्सा लेने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ भी विधानसभा पहुंचे।

तीन दिनों तक चलने वाला आखिरी विधानसभा सत्र

बताते चलें कि शीतकालीन सत्र में 16 दिसंबर को चालू वित्तीय वर्ष का दूसरा अनुपूरक बजट 2022-23 के लिए लेखानुदान पेश किया जाएगा। जुलाई तक के लिए होने वाला ये लेखानुदान लगभग पौने दो लाख करोड़ रुपये का हो सकता है। सरकार चालू वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए दूसरा अनुपूरक बजट भी लाएगी। वहीं, लेखानुदान के तहत नए वित्तीय वर्ष में जुलाई महीने तक के लिए जरूरी खर्चों के लिए बजट का प्रारूप तैयार कर लिया गया है। विधानसभा का यह सत्र बेहद छोटा होगा। महज तीन दिनों तक चलने वाला शायद विधानसभा का यह अंतिम सत्र हो सकता है।

विधानसभा की कार्यवाही कल सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित

सीएम ने देश के पहले सीडीएस सहित 11 सैन्यकर्मियों के निधन पर श्रद्धांजलि व्यक्त की। साथ ही बसपा विधायक सुखदेव राजभर के निधन की भी सूचना दी। बता दें कि 18 अक्टूबर 2021 को राजभर का निधन हुआ था। उन्होंने 2007 से 2012 तक विधानसभा अध्यक्ष के तौर पर यूपी को अपनी सेवाएं दी थीं। इसके बाद सदन को कल यानी गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया है।

इसे भी पढ़ें:

केंद्रीय मंत्री टेनी को अब हटाएंगे मोदी?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button