क्या कोविड में ग़लत इलाज से मर रहे हैं लोग

क्या कोविड के जुगाड़ू इलाज में ग़लतियॉं हो रही है

कोविड संक्रमित गंभीर मरीज़ों  की चिकित्सा व्यवस्था में अधिक मृत्यु दर का कारण क्या है

कोविड संक्रमित मरीज आक्सीजन लेवल घटने के बाद गंभीर स्थिति में चले जा रहे है,जिन्हे आक्सीजन सपोर्टके साथ इमरजेंसी चिकित्सा दी जा रही है।परन्तु यहाँ स्वस्थ होने वाले मरीजो की संख्या बहुत कम देखने मेंआ रही है, मृत्युदर अधिक है।ऐसा भी देखने को मिल रहा है कि कोविड निगेटिव होने बाद भी बहुत से मरीजोकी मृत्यु हो जा रही है।इसलिए.यहाँ प्रश्न उठते है कि  क्या उचित चिकित्सा से संक्रमित मरीजो को गंभीरस्थिति में जाने से रोका जा सकता है? उचित चिकित्सा देकर मृत्युदर को कम किया जा सकता है ?इस प्रश्नोका उत्तर जानने के लिए आज वरिष्ठ पत्रकार रामदत्त त्रिपाठी,आई एम एस बीएचयू के हृदय रोग विभाग केप्रो.डॉ ओम शंकर एवं राँची के न्यूरो सर्जन एवं रिसर्चर डॉ सुरेश अग्रवाल से संवाद प्रस्तुत है।शाम पॉंच बजे 

AEA39DDC-EA8B-429C-AC10-B446683E828C.jpg

DR.Suresh Agrawal

MBBS,MS, Engaged in Clinical Research, Integrating Biomedicine(Allopathy) And Ayurveda nearly 30 year,

Ranchi(Jharkhand)

D8DAC99F-C49A-41EC-B0D7-E38050ADDF82.jpg

 Professor Om Shankar Dept of Cardiology, IMS, BHU

Cardiologist, social scientist, Activist and a Social Reformer.

31952848-1A78-427A-AB4F-F5130FEFE74C.jpg

रामदत्त त्रिपाठी

अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त पत्रकार, राजनीतिक विश्लेषक , सामाजिक कार्यकर्ता , विधिवेत्ता  और सूचनासंचार के विशेषज्ञ हैं. राम दत्त त्रिपाठी ने 1992 से 2013 इक्कीस वर्षों तक बी बी सी लंदन के लिए कार्यकिया और वह एक प्रकार से भारत मे बी बी सी की पहचान बन गये।

@Swaraimedia

Facebook: Mediaswaraj 

Email: mediaswaraj2020@gmail.com 

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen + 17 =

Related Articles

Back to top button