कोरोनावायरस प्रभावित लखनऊ का सी एम ओ आफिस सील , हाईकोर्ट में थर्मल स्‍कैनिंग करने वाला पाजिटिव 

लॉक डाउन बढ़ने के संकेत

(मीडिया स्वराज़ डेस्क)
 

मुख्‍य चिकित्‍साधिकारी डॉ नरेंद्र अग्रवाल ने बताया कि लखनऊ में शनिवार को केजीएमयू द्वारा जांचे गए 142 सैंपल कोरोना पॉजिटिव पाए गए। यह अब तक का सर्वाधिक आंकड़ा है। इनमें 35 महिलाएं, 10 युवतियां, 2 बालिकाएं, 73 पुरुष, 16 युवक, 5 बालक और एक शिशु बालक शामिल हैं। वहीं सीएमओ आफिस में काम करने वाला एक कर्मचारी भी कोरोना संक्रमित पाया गया है, जिसके बाद सीएमओ आफिस को सील कर सैनिटाइजेशन किया जा रहा है।

हाईकोर्ट में थर्मल स्‍कैनिंग करने वाला भी पाजिटिव


लखनऊ हाईकोर्ट के रजिस्‍ट्रार ने अवध बार के अध्‍यक्ष को पत्र भेजकर यह सूचित किया है कि हाईकोर्ट परिसर के गेट पर आने जाने वाले लोगों की थर्मल स्‍कैनिंग करने वाला व्‍यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। उन्‍होंने सभी वकीलों को इस बाबत आगाह किया है कि जो लोग गेट नंबर 5 और 6 से 2,3,8,और 9 जून को हाईकोर्ट आए थे, उन्‍हें अपने और अपने परिवार का स्‍वास्‍थ्‍य परीक्षण कराना चाहिए। 

 
लॉक डाउन बढ़ने के संकेत 


 उत्‍तर प्रदेश की योगी सरकार के निर्देश के मुताबिक पूरे प्रदेश में  13 जुलाई की सुबह 5 बजे तक के लिए लॉकडाउन लागू किया गया है।संकेत हैं कि ज़रूरत पड़ने पर इसे बढ़ाया  भी जा सकता है. 

ऐसे में में राजधानी में लॉकडाउन का असर शनिवार को साफ तौर पर देखने को मिला। लोग घरों में कैद रहे और पुलिस सड़कों पर मुस्‍तैद दिखी। वहीं राजधानी के अलग अलग इलाकों में प्रशासन और पुलिस के बीच एक बार फिर से समन्‍वय की कमी दिखी। लॉकडाउन के दिशा निर्देशों के मुताबिक आवश्‍यक वस्‍तुओं से जुड़ी दुकानों, किराना स्‍टोर, सब्‍जी और फल की दुकानों पर प्रतिबंध नहीं है। लेकिन कई थाना क्षेत्रों में इन दुकानों को पुलिस वालों ने बंद करवा दिया। जिसके चलते जन सामान्‍य को परेशानी उठानी पड़ी।
 

इंदिरानगर के एक स्‍थानीय दुकानदार ने बताया कि उसकी सब्‍जी की दुकान है, यह आवश्‍यक  वस्‍तु की श्रेणी में आता है। लेकिन सुबह सुबह पुलिस वालों ने उनकी दुकानों को बंद करवा दिया। कमोबेश यही हाल कई किराना की दुकानों का रहा। वहीं कई क्षेत्रों में इस तरह की आवश्‍यक वस्‍तु की दुकानें खुली रहीं। स्‍थानीय निवासियों ने बताया कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि पुलिस और प्रशासन में नियमों को लेकर कुछ कंफ्यूजन है, जिसकी वजह से यह स्थिति देखने को मिली है।

लखनऊ अधिकारी सड़कों पर

 शनिवार को लॉकडाउन के दौरान पुलिस सड़कों पर मुस्‍तैद दिखी। पुलिस आयुक्‍त सुजीत कुमार पांडेय और जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश समेत अन्‍य अधिकारी राजधानी में घूम घूम कर चेकिंग करते दिखे। कई अधिकारी जन सामान्‍य को पब्लिक एड्रेस सिस्‍टम की मदद से जागरूक करते भी दिखाई दिये। राजधानी में 262 चेकिंग प्‍वाइंट बनाए गए हैं। पुलिस आयुक्‍त सुजीत कुमार पांडेय ने बताया कि इस दौरान मास्‍क लगाए बिना जो लोग निकल रहे हैं, उन पर कार्रवाई की जा रही है। अनावश्‍यक मूवमेंट पर प्रतिबंध है।  स्‍टेशन से आने वाले और हॉस्पिटल जाने वाले लोगों की मदद की जा रही है।

 जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने शनिवार को राजधानी के अलग अलग इलाकों का निरीक्षण किया। वह लॉकडाउन और साफ सफाई की व्‍यवस्‍था का जायजा लेने के लिए अपनी टीम के साथ निकले। उन्‍होंने जुगौली, कसैला, नारायणपुरवा, फैजुल्‍लागंज समेत कई क्षेत्रों का निरीक्षण किया। उन्‍होंने लोगों से लॉकडाउन के नियमों और सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियमों का पालन करने को कहा। इसके साथ साथ उन्‍होंने जरूरतमंद लोगों व बच्‍चों को मास्‍क वितरित किए।

इस दौरान उनके साथ नगर आयुक्‍त इंद्रमणि त्रिपाठी और अन्‍य प्रशासनिक अफसर मौजूद रहे।  जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने कहा है कि आवश्‍यक वस्‍तुओं पर कोई प्रतिबंध नहीं है। जहां से भी इसकी शिकायत आ रही है, उसका निस्‍तारण किया जा रहा है।

 

 
 
 
 
support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − 3 =

Related Articles

Back to top button