पत्रकारों के परिवारों को मुआवजा देगी सरकार…

भारत में कोरोनावायरस COVID 19 से अब तक 37 पत्रकारों की मौत की जानकारी मिली है. हालाँकि CORONA VIRUS से पत्रकारों की मौत की संख्या का सही अंदाजा लगाना मुश्किल है.

भारत में कोरोनावायरस से मरने वालों का कुल संख्या 7 जनवरी की सुबह तक बढ़ कर डेढ़ लाख से ज्यादा हो चुकी है. मरने वाले लोग हर समुदाय से हैं, जैसे की डॉक्टर्स, सुरक्षा कर्मी, पुलिस पत्रकार, कोरोना वार्रिअर्स आदि।
भारत सरकार अब महामारी के समय COVID -19 से मरने वालों की पहचान करने के लिए समाचार संस्थानों की मदद ले रही है। साथ ही यह भी पता चला है कि सरकार मुआवजा देने के लिए उनके अपने परिजनों की तलाश कर रही है।

उत्तर प्रदेश में पांच पत्रकारों की मौत कोरोनावायरस से हुई है। पांच पत्रकारों की मौत होने की वजह से उत्तर प्रदेश राज्य पत्रकारों की मौत कि गिनती में सबसे उपर है।

अन्य राज्यों में पत्रकारों की मौत की गिनती …


जम्मू में 1, पंजाब में 4, हरयाणा में 1, महाराष्ट्र में 4, तमिल नाडु में 3, आंध्र प्रदेश में 4, झारखण्ड में 1, कर्नाटक में 1, ओड़िशा में 4, वेस्ट बंगाल में 2,
त्रिपुरा में 1, असम में 3, हिमाचल में 1, बिहार में 2 और उत्तरप्रदेश में सबसे ज्यादा पत्रकारों कि मौत कि गिनती 5, टोटल 37 पत्रकारों को हमने खो दिया।

सार्वजनिक सेवा प्रसार भारती और ऑल इंडिया रेडियो ने भी अपने दो पत्रकारों को महामारी में खो दिया।

अब सूचना और प्रसारण मंत्रालय की तरफ से जो भी पत्रकारों की मौत इस महामारी में हुई है, पत्रकार कल्याण योजना के तहत उन पत्रकारों के परिवारों की मदद की जाएगी।

सरकार कोरोना वैक्सीन और लोकतंत्र(Opens in a new browser tab)

पत्रकारों के परिवारों को मुआवजा के लिए क्या करना होगा ?

परिवारों को निर्धारित प्रपत्र और एक पत्रकार के रूप में काम करने का प्रमाण भी जमा करना होगा.

उसके साथ ही एक मृत्यु प्रमाण पत्र और चिकित्सा दस्तावेज दिखाते हुए बताना होगा कि पत्रकार की मृत्यु COVID -19 से हुई है। आय प्रमाण पत्र या परिवार के आयकर रिटर्न के
किसी भी प्रमाण की एक कॉपी लगानी होगी। इसमें कोई भी लास्ट डेट नहीं दिया गया है

हमें यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सरकार ने कोरोना योद्धाओं के लिए सहायता की घोषणा की है, जो ड्यूटी पर रहते हुए मर गए थे लेकिन पत्रकारों को इससे बाहर रखा गया है।

कई राज्य ऐसे भी हैं जो अपने स्तर पर मृत पत्रकारों के परिवारों की मदद के लिए सामने आए हैं।
ओडिशा की नवीन पटनायक सरकार ने तारीफ के काबिल काम किया है उनहोंने कोरोनावायरस के कारण जान गंवाने वाले पत्रकारों के परिवारों को 15 लाख रुपये देने की घोषणा की है।

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × 4 =

Related Articles

Back to top button