गोरोचनादि गुलिका: कोरोना वायरस के विरुद्ध प्रभावी

ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीज़ों पर उपयोग

वैद्य वेद प्रकाश त्यागी

गोरोचनादि गुलिका (टेबलेट) अनकों जड़ी बूटीयों से निर्मित पोलीहरबो मिनरल औषधि है। गोरोचनादि गुलिका एन्टीवायरल(ANTIVIRAL- effective against virus) वायरस के विरूद्धप्रभावकारी, एन्टी इन्फ्लामेट्री (anti-inflammatory) reduce inflammation सूजन को कम करता है, एन्टी-कोगुलेट्री (anti-coagulatory – reduce the risk of formation of blood clots) खून के अन्दर थक्के बनने की जोखिम कम करता, ब्रांकोडायलेटर (Bronchodilator) increase airflow in the lungs फेंफडों में वायु प्रवाह बढ़ाता है एवं इमुनोमोडूलेटर(Immuno modulator) रोग प्रतिरोगधक क्षमता बढ़ाता है।

गोरोचनादि गुलिका के घटक

इस टेबलेट के घटक (contents) वचा, द्रोणपुष्पी, लहसुन, त्रिकटुहोने से यह औषधि- ब्रांकिओल्स (bronchioles)  को पतला करशरीर में ऑक्सीजन लेवल बढ़ा देता है। फेफड़ों केमार्ग(passage) में म्यूकस के जमाव को हटाता है।कामला इसका महत्वपूर्ण घटक है जो खून में जमाव नहीं होने देता है। अन्य घटक (contents) चन्दन, उशीरा, मुस्ता (इन्फ्लामेशन)सूजन को कम करते है।अदारक, कालाजीरा, त्रिकटु, जतिफला, पथा का प्रभाव जठरान्त्रपर होने से कोविड-19 में साधारणतया होने वाले loose motion को ठीक करते है। अदरक, कालाजीरा, व त्रिकटु GI Track (गेस्ट्रो इन्टेसटाइन ट्रैक) में आम (AAM) को कम करता है।

स्वर्ण भस्म एवं अम्बर रसायन(आयु बढाने वाला) है और यह त्रिफला के साथ मिलकर शरीर की (Immuno modulator) रोगप्रतिरोगधक क्षमता बढ़ाता है।गोरोचन शारीर का उष्णता को कम करता है एवम्एन्टीवायरल(Anti-viral) है।

बच्चों के निमोनिया एवं ILD रोगियों में प्रयोग

आयुर्वेद चिकित्सकों द्वारा कोरोना से पूर्व इस गुलिका का उपयोग बच्चों के निमोनिया एवं ILD रोगियों को स्वस्थ करने में प्रयोग किया जाता रहा है। कोविड-19 के मरीजों को गोरोचन गुलिकादेने से उनका ऑक्सीजन लेवल स्थिर होकर बढ़ना शुरू हो जाताहै। यह गुलिका बहुत उपयोगी है एवं इससे ऑक्सीजन की कमीवाले मरीज़ों का तुरन्त राहत मिलती है। इस गुलिका की प्रथमखुराक लेने के पश्चात ही रोगी का ऑक्सीजन लेवल बढ़ जाने सेकोविड रोगी के स्वस्थ होने की सम्भावना अधिक हो जाती है। इसगुलिका को एलोपैथी दवाईयों के साथ दिये जाने पर रोगी कोएंटीबोयाटीक दवाईयों से ही ठीक किया जा सकता है। कोविडकी प्रथम लहर के समय एंटीबायोटीक दवाईयों से ही कोविडरोगियों का इलाज किया जा रहा था। परन्तु इस बार दूसरीकोविड लहर के समय सभी एलोपैथी औषद्यालयों में स्टेरॉयड(steroid) का उपयोग किया गया है। जिसके कारण ब्लैक फंगसजैसी बिमारियाँ हो रही है। इस टेबलेट का उपयोग करने सेस्टेरॉयड की आवश्यकता को कम किया जा सकता है।

गोरोचनादि गुलिका का उपयोग डॉ सहदेव आर्य द्वारा लगभग 15 वर्षो से किया जा रहा है। डॉ आर्य अपनी चिकित्सा में अब तकलगभग 1.5 करोड़ गोरोचनादि गुलिका का उपयोग कर चुके है। उनके द्वारा इसका उपयोग कोरोना पेशेन्टस में किया गया और यह देखा गया कि यह गुलिका कोविड के मरीज़ों के फेफडों मेंइन्फ्लामेशन नही होने देती है। इस कारण कोविड  मरीज़ों काऑक्सीजन लेवल कम नहीं होता है। 

कोविड के मरीज जब हॉस्पीटल से डिस्चार्ज हो जाते है तो उन्हे ऑक्सीजन सेचुरेशन की समस्या बनी रहती है। इसके साथ ही उन्हे चलने-फिरने में तकलीफ़ होती है। कोविड के कारण फेफड़ो का कुछ पार्टइसके बाद भी प्रभावित रहता है। इस कारण ऐसे रोगियों में ऑक्सीजन भी फल्कचुएट होता रहता है उनको चलने में श्वासभरता है। और ऐसे रोगी अपना सामान्य कार्य करने में भी असमर्थरहते है। गोरोचन गुलिका C-Reactive Protein (CRP) को बहुत तेजी से कम करता है। दिनांक 21-05-2021 को राजस्थान पत्रिका में खबर प्रकाशित होने के पश्चात अनेको लोगो ने मुझसे सम्पर्क किया जिसमें दो रोगी बाहर के थे। 

जोधपुर से बाहर के रोगियों ने भी मुझसे सम्पर्क किया। नोएडायू.पी. एवं दूसरे पेशेन्ट कोटा राजस्थान से थे। दोनों पेशेन्टसऑक्सीजन सर्पोट पर थे। नोएडा के पेशेन्ट श्री हरि निवास त्यागीजिनकी आयु 86 वर्ष है जो ऑक्सीजन पर थे। उन्हे मैन बतायाकि यह गोरोचन गुलिका मयूर विहार दिल्ली में आयुर्वेद किदुकानों पर उपलब्ध है। वे इसे लेकर आये और उन्होनें 21-05-2021 से देने शुरू किया उसके पश्चात उनका ऑक्सीजन लेवलकम होना बन्द हो गया और वह ऊपर की ओर बढना शुरू हो गया।जब दिनांक 23-05-2021 को C-Reactive Protein (CRP) टेस्ट करवाया तो उनका CRP 123mg/l से सीधे 36.6 mg/l परआ गया और पुन: दिनांक 25-05-2021 जाँच करवाये जाने परCRP 21.3 mg/l पर आ गया।

कोटा राजस्थान से मुझे दीपक आर्य का फोन आया कि उनकेपिताजी श्री बाबुलाल जी आर्य आयु 70 वर्ष अस्पताल में 1 मई, 2021 से भर्ती है। और उनका ऑक्सीजन सेचुरेशन 85-90 हैऑक्सीजन लेवल 90 तक जाता है परन्तु पुन: 85 आ जाता है।दीपक आर्य द्वारा 23-05-2021 से गोरोचन गुलिका का उनकेपिताजी द्वारा आरम्भ की गई इस गोरोचन गुलिका को लेने केपश्चात रोगी में आर्श्चय जनक सुधार हुआ। उन्होने अपने पिताजीको हास्पिटल से डिस्चार्ज करवा लिया है। तथा उनका ऑक्सजीनलेवल 5 दिन बाद 90 से 95 प्लस है। मो.न. 9772161007

श्री राम प्रकाश चौधरी भूतपर्व अध्यक्ष जय नारायण व्यास, विश्वविद्यालय ने मुझसे सम्पर्क किया की परिवार के अधिक्तर सदस्यों को कोविड हुआ था सभी ठीक है परन्तु उनके पिता जी श्रीराम निवास चौधरी का CRP टेस्ट दिनांक 24-05-2021 कोकरवाया है जो 120 mg/l आया है। मैने उन्हे गोरोचन गुलिका दी जिसकी पाँच खुराक दो दिन लेने के पश्चात पुन: दिनांक 26-05-2021 को CRP टेस्ट करवाया तो वह पश्चात 60 mg/lआया। आज दिनांक 28-05-2021 को पुन: CRP टेस्ट करवायातो उनका CRP 29 mg/l आया। श्री राम प्रकाश चौधरी  मो. न. 9829026825

श्रीमति निशा चौधरी पार्षद 48 न. वार्ड से पार्षद है। उनके द्वाराएक कैम्प के माध्यम से ग्रीन पार्क गार्डन में ये गोरोचन गुलिकादिलवाई गई थी। जिसमें श्रीमति लक्ष्मी वैष्णव आयु 60 वर्ष उसकैम्प में उपस्थित थी। उनका ऑक्सीजन लेवल 91 था। वह कोविड पेशेन्ट थी। उनका कोविड ठीक हो चुका था परन्तु उनका ऑक्सीजन लेवल 91 से ऊपर नही जा रहा था। उनके द्वारा गोरोचन गुलिका की दो दिन दो-दो गोली प्रतिदिन ली गई तीन दिन गोरोचन गुलिका लेने से ही उनका ऑक्सीजन लेवल 96 हो गया। इनके पुत्र श्री मनीष वैष्णव का मो. न. 9987622077

दूसरे पेशेन्ट इसी कैम्प में विवेक सिघंवी भी उपस्थित थे उनकीमाता जी का भी ऑक्सीजन लेवल 92 था इस गोरोचन गुलिकाको लेने के पश्चात बढकर 96 हो गया। श्रीमति निशा चौधरी नेइस दवाई के बारे में अपने फेसबुक अकाउण्ट पर भी इसे पोस्टकिया कि गोरोचन गुलिका असरदार एवं ऑक्सीजन लेवल मेन्टेनरखती है। श्री निशा चौधरी का कार्य देख रहे श्री महीपाल चौधरीका मो. न. 9352210000

ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीज़ों पर उपयोग

गोरोचन गुलिका का उपयोग उन रोगियों में किया जाये जो अभीऐलोपैथी के हॉस्पीटल में ऑक्सीजन सपोर्ट पर है तो निश्चित ही वे सभी रोगी स्वस्थ हो सकेगे क्योकि सभी रोगियों में एक ही समस्या ऑक्सीजन लेवल का मेन्टेन नहीं होने की है। और यह गुलिका ऑक्सीजन लेवल मेन्टेन करने के साथ-साथ ही रोगी के फेफडों में इन्फ्लामेशन को समाप्त कर उनके ऑक्सीजन लेवलको बढाती है।

​​​    

​वेदप्रकाश त्यागी

Dr.VED PRAKASH TYAGI, (Former President)

Central Council of Indian Medicine, Govt. of India New Delhi

Mob: 9414071138

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × 3 =

Related Articles

Back to top button