ऋषि गंगा त्रासदी पर सदन में चर्चा ना होना दुर्भाग्यपूर्ण – रेवती रमण सिंह

राज्यसभा सांसद कुंवर रेवती रमण सिंह ने ऋषि गंगा त्रासदी पर केंद्र सरकार के असंवेदनशील रवैये की निंदा करते हुए कहा कि जब बजट सत्र चल रहा था उसी समय इतनी बड़ी त्रासदी होती हैं जिसमें सैकड़ों लोगों की जान जाती हैं पर मोदी सरकार सदन में इस पर कोई चर्चा नहीं करतीं हैं यह सरकार की मानवीय मूल्यों के प्रति असंवेदनशीलता प्रकट करता है।

सांसद ने कहा कि विकास के नाम पर प्रकृति का दोहन विनाश का कारण बन रहा है हिमालय पर्वत श्रंखला कच्चा पहाड़ हैं उसपर भारी-भारी मशीनों और ब्लास्ट से सुरंग निर्माण पहाड़ को खोखला कर रही हैं जिससें पहाड़ कमजोर हो कर टूट रहे हैं और लाखों की संख्या में देवदार के पेड़ काटे जा रहे हैं देवदार पत्थरों मे खुद होती हैं इसकी रोपाई नहीं होती हैं . देवदार पौधों की जड़ें मिट्टी और पत्थर को बांधे रहती हैं उनकी अन्धाधुंध कटाई से पहाड़ों की पकड़ कमजोर हो रही हैं जो बर्फ का दबाव बर्दाश्त नहीं कर पाते और हिमस्खलन हो जाता हैं.

पत्थर और गाद भारी मात्रा में नदियों में जमा होता हैं जो वर्षा ऋतु में शहरों में बाढ़ बनाती हैं उन्होंने कहा कि महामना मालवीय जी ने अपनी जीवनीय मे बांगड़ नागल बांध के टूटने पर चिंता व्यक्त किया था  जो की टेहरी बांध से बहुत ही छोटा है आज का टेहरी बांध जिस दिन किसी दैवीय प्रकोप का शिकार होगा तो दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई जिले तबाह हो जायेंगे इसलिए बांधों के निर्माण पर तत्काल प्रभाव से रोक लगना चाहिए।

सांसद ने कहा कि केदारनाथ त्रासदी और ऋषि गंगा चमोली त्रासदी से सबक लेते हुए सदन में व्यापक रूप से चर्चा होनी चाहिये कि ऊर्जा के लिए वैकल्पिक श्रोत का इस्तेमाल हो जिसमें सौर ऊर्जा भी है और बड़े बड़े विनाशकारी बांधों को तोड़ देना चाहिए जिससे करोड़ों भारतीयों के आस्था की जीवनदायनी गंगा अविरल हो कर निर्मल हो जाय।

समाजवादी पार्टी पूर्व प्रदेश प्रवक्ता विनय कुशवाहा ने कहा कि जब से मोदी सरकार बनी है लोगों की जान पर बनी है चाहे वो दैवीय आपदा हो,किसान अंदोलन, आतंकी घटना हो या सीमा पर जवान जान गवा रहे हैं पर असंवेदनशील भाजपा सरकार उसपर भी राजनीति कर के उसको अवसर के रूप में इस्तेमाल करती हैं जैसे पुलवामा ।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार मे मानवीय मूल्यों की कोई अहमियत नहीं है वो अपने तानाशाही ऐजेंडे को लागू करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं।

support media swaraj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − 12 =

Related Articles

Back to top button