CBSE 10th Result 2020: सीबीएसई बोर्ड परीक्षा में अभिषेक व सारा ने मारी बाजी

बढ़ा 90 फीसदी से अधिक अंक पाने वालों का ग्राफ़

लखनऊ. केंद्रीय माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड ने बुधवार को दसबीं बोर्ड परीक्षा के परिणाम जारी कर दिए। राजधानी में सीबीएसई के 11 हजार से अधिक छात्र- छात्राओं ने परीक्षा में प्रतिभाग में किया था। पिछले वर्ष की तुलना में रिजल्‍ट बेहतर रहा है। 90 प्रतिशत से अधिक अंक हासिल करने वाले मेधावियों की संख्‍या में बढोत्‍तरी हुई है। राजधानी के लखनऊ पब्लिक स्‍कूल साउथ सिटी शाखा के छात्र यशस्‍वी चौधरी और रानी लक्ष्‍मीबाई सीनियर सेकेंडरी स्‍कूल के अभिषेक यादव को 98.4 प्रतिशत अंक हासिल हुए। वहीं लखनऊ पब्लिक की सारा सिंह और एलपीएस के आयुष सिंह को 98.2 प्रतिशत, एलपीएस की श्रद्धा और आरएलबी की दिव्‍या को 98 प्रतिशत, आरएलबी की काव्‍या सिंह व श्‍वेता अग्रवाल को 97.8 प्रतिशत, एसकेडी की विशाखा को 97.8 प्रतिशत, लखनऊ पब्लिक कालेज की आयुषी अवस्‍थी और द मिलेनियम स्‍कूल की अनीशा मोटवानी को 97.6 प्रतिशत, वरदान इंटरनेशल एकेडमी की छात्रा नीतिका सिंह को 97.4 प्रतिशत, जीडी गोयनका पब्लिक स्कूल के छात्र आयशानी मिश्रा को 97.4 प्रतिशत, लोयला इंटरनेशनल स्कूल की छात्रा मैत्री सिंह को 97.4 प्रतिशत, अवध कॉलिजिएट की छात्रा तनिष्क मौर्या और पूजा त्रिपाठी को 97 प्रतिशत, एसकेडी एकेडमी की आकांक्षा पटेल को 96.6 प्रतिशत और शचि को 96.4 प्रतिशत अंक हासिल हुए हैं।

केंद्रीय विद्यालय अलीगंज की प्रिंसिपल संगीता यादव ने बताया कि बीते वर्ष की तुलना में इस बार के रिजल्ट में खासा उछाल आया है। 90 प्रतिशत से अधिक अंक हासिल करने वाले मेधावियों की संख्या में इजाफा हुआ है। सीबीएसई का फ्रेंडली सेलेबस होने से बच्चों में न सिर्फ प्रतिस्पर्धा बढ़ी है बल्कि पढ़ाई के प्रति भी रुझान बढ़ा है। इसमें कतई संदेह नहीं है कि बच्चों ने अच्छे रिजल्ट के लिए अपना शत प्रतिशत देने का प्रयास किया है। केंद्रीय विद्यालय के होनहारों का परीक्षा परिणामों में दबदबा कायम है।

वरदान इंटरनेशल एकेडमी, गोमतीनगर की प्रधानाचार्या ऋचा खन्‍ना ने बताया कि संस्‍थान के मेधावियों ने उत्‍कृष्‍ट सफलता और शैक्षणिक योग्‍यता का पुन: उदाहरण प्रस्‍तुत किया है। शिक्षकों के उचित मार्गदर्शन और अथक प्रयासों द्वारा विद्यालय के छात्र- छात्राओं का सत्र 2019-2020 का सीबीएसई बोर्ड परीक्षा परिणाम 100 प्रतिशत रहा है। जिसमें नीतिका सिंह ने सर्वोच्‍च अंक 97.4 प्रतिशत प्राप्‍त कर विद्यालय को गौरवान्वित किया है। विद्यालय के निदेशक जीवन खन्‍ना ने भी मेधावियों को बधाई दी है।

वहीं शिवानी पब्लिक स्‍कूल की दिव्‍यांशी दुबे को 96.8 प्रतिशत, युवराज सिंह को 94.6 प्रतिशत, तान्‍या सिंह को 94.4 प्रतिशत, अंकित कुमार को 93.4 प्रतिशत, दिव्‍यांश शुक्‍जला को 90.4 प्रतिशत, अपूर्वा को 90.8 प्रतिशत, पलक सिंह को 87.4 प्रतिशत, अभिषेक तिवारी को 86.6 प्रतिशत, स्‍वाति कुशवाहा को 86.2 प्रतिशत और शिखर तिवारी को 85 प्रतिशत अंक हासिल हुए हैं।
इरम पब्लिक कॉलेज की प्रधानाचार्या सहर सुल्‍तान ने बताया कि सीबीएसई बोर्ड परीक्षा परिणामों में विद्यालय के स्‍टूडेंट्स ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है। संस्‍था के अध्‍यक्ष डॉ ख्‍वाजा बज्मी युनुस और निदेशक फैजी युनुस ने भी सफल विद्यार्थियों को बधाई देते हुए उनके उज्‍जवल भविष्‍य की कामना की है।

इन होनहारों का भी रहा दबदबा

राजधानी स्थित वरदान इंटरनेशल एकेडमी के अक्षत वर्मा को आईटी में 93 प्रतिशत, गणित में 92 प्रतिशत, तरन्‍नुम अख्‍तर को आईटी में 98 प्रतिशत, गणित में 92 प्रतिशत, प्रिंस वरुण को आईटी में 95 प्रतिशत, विनायक श्रीवास्‍तव को आईटी में 94 प्रतिशत, जय कुमार को आईटी में 90 प्रतिशत और सोनल सिंह को आईटी में 90 प्रतिशत अंक हासिल हुए हैं। वहीं इरम पब्लिक कॉलेज की शाम्‍भवी शर्मा को 90 प्रतिशत, जैशी वर्मा को 89 प्रतिशत और पलक मिश्रा को 88.4 प्रतिशत अंक हासिल हुए हैं।

सुप्रिया को तीन विषयों में शत प्रतिशत अंक

दिल्ली पब्लिक स्कूल एल्डिको शाखा की प्रधानाचार्य मनीषा अन्थवाल ने बताया कि उनके विद्यालय की सुप्रिया रघुवंश ने 98 प्रतिशत अंक लाकर विद्यालय का नाम रौशन कर दिया। सुप्रिया को अंग्रेजी, गणित व सामाजिक विज्ञान विषय में सौ में सौ अंक मिले हैं। उन्होंने बताया कि विद्यालय के 79 छात्रों ने 90 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किये हैं। उन्होंने कहा कि यह विद्यार्थियों और अध्यापकों की मेहनत का परिणाम है कि विद्यालय का परिणाम शत प्रतिशत रहा।

इंजीनियर बनकर करना चाहती हैं देश सेवा

सीबीएसई 10वीं की छात्रा यशस्वी चौधरी ने दो विषयों में सौ में सौ अंक प्राप्त किये है। उन्हें गणित और सामाजिक अध्ययन में 100 में से 100 अंक मिले हैं। यशस्वी के पिता संजय कुमार ईएसआई अस्पातल में फार्मसिस्ट हैं। यशस्वी कहती हैं कि पिता का सपना है कि वह इंजीनियर बने। उनके इस सपने को पूरा करना ही लक्ष्य है। वह इंजीनियर बनकर देश सेवा करना चाहती हैं। यशस्वी ने बताया कि उनका पढ़ाई करने का एक टाइम टेबल रहता है। इस नियम को कभी नहीं तोड़ा। इसी का नतीजा है कि गणित और सामाजिक विज्ञान में 100-100 अंक मिले हैं। वह बताती हैं कि गणित और विज्ञान पसंदीदा विषय है। इसलिए पढ़ाई का आधा समय नियमित रूप से इन विषयों को दिया। स्कूल में जो भी पढ़ाया गया उसे नियमित रूप से घर पर दोहराया। कोचिंग नहीं गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles