एक गुमनाम नायक के लिए उत्सुकता बढ़ाती ‘मुखजात्रा’

पुस्तक समीक्षा: 'मुखजात्रा'

लेखक सुनील कैंथोला
पुस्तक : ‘मुखजात्रा’

पुस्तक समीक्षा: ‘मुखजात्रा’: ‘जिन्हें खत्म मान लिया गया था, वो राजे महाराजे अपनी पूरी सामंती ठसक के साथ अब भी संसद में कब्ज़ा जमाए बैठे हैं’ जैसी पंक्ति कमाल करती हैं तो ‘जेल की सीलन भरी कोठरियों में कोड़ों की मार के बाद भी यदि कोई कोयले से जेल की दीवारों पर गीत उकेरने लगे तो उसके आगे सत्ता के सारे हथियार बौने हो जाते हैं’ पंक्ति किसी देशभक्ति फ़िल्म का संवाद बन सकती हैं।

पुस्तक समीक्षा: ‘मुखजात्रा’: किताब स्नेहलता रेड्डी को याद करते शुरू होती है, उनके बारे में पढ़ेंगे तो आगे चलकर किताब का हर शब्द जीते हुए चले जाएंगे। अगला नाम प्रसिद्ध इतिहासकार शेखर पाठक का है, फिर लेखक के कुछ विचार और सीन। किताब का नाम मुखजात्रा और आवरण चित्र समझने के लिए पूरी किताब पढ़ना जरूरी है।

पुस्तक समीक्षा: ‘मुखजात्रा’: ‘शहादतों की ऊर्जा और ऊष्मा’ में शेखर पाठक की पंक्तियां ‘मनुष्य की विकास यात्रा गुफावास से भूमंडलीकरण के दौर तक पहुंच गई हैं’ समझाने में कामयाब रही हैं कि भूमंडलीकरण ही हर बवाल की जड़ है।  यही पर आगे लिखते शेखर पाठक शहादतों से सीख लेने की बात भी कह जाते हैं।

‘जो मैं समझा’

‘जो मैं समझा’ में लेखक सुनील कैंथोला बताते हैं कि कैसे एक शवयात्रा ‘टिहरी जन क्रांति बन गई’।लेखक के लिखने का तरीका और भाषा बिल्कुल आसानी से समझ में आ जाता है। लेखक भारतीय इतिहास से राजा-प्रजा के सम्बन्धों को हमारे सामने लाते हैं, यहां आप जागृत होती प्रजा के बारे में पढ़ते हैं।

सच, पाश की ‘घास’ कविता की तरह है, पंक्ति का इस्तेमाल कर लेखक ने किताब को इतिहास के साथ- साथ हिंदी के विद्यार्थियों के लिए भी अध्ययनार्थ बना दिया है।

लेखक के दादाजी का गांव छोड़ने वाला किस्सा आपको बदलाव के दौर से गुज़र रहे भारत के दर्शन कराता है।

लेखक 12 जनवरी 1948 को कीर्तिनगर से नागेंद्र सकलानी की मुखजात्रा के साथ चले सैलाब को उत्तराखंड के वर्तमान आंदोलनों से जोड़, उत्तराखंड की वर्तमान दशा-दिशा पर विचार करवा देते हैं।

‘जो मैं समझा’ का अंत आते-आते आपको पता चल जाता है कि ‘मुखजात्रा’ क्या है और यह भी कि जो राक्षस उस दिन नागेंद्र की अंत्येष्टि के साथ समाप्त हुआ था वह फिर दबे पांव लोकतंत्र के मंच पर प्रवेश कर चुका है।

‘जैसा मैंने देखा’

‘जैसा मैंने देखा’ में लेखक भारत के गुलाम होने की दास्तां इतिहास के पन्नों से खोज-खोज कर हम तक पहुंचाते हैं।वर्तमान हालातों पर उनकी पंक्ति ‘जिन्हें खत्म मान लिया गया था, वो राजे महाराजे अपनी पूरी सामंती ठसक के साथ अब भी संसद में कब्ज़ा जमाए बैठे हैं’ हथोड़े की चोट मार जाती है।

आगे पढ़ते किताब एक करोड़ हिंदुस्तानियों के भूख से मारे जाने और चंद गिनती के अंग्रेज़ों ने भारत में कैसे राज कर लिया , इनके कारण हमारे सामने लाती है। जिसे जानने के लिए किताब खरीदना जरूरी हो जाता है। दुर्भाग्य की बात यह है कि जिन वजहों से वो मृत्यु हुई और अंग्रेज़ों ने भारत पर राज किया, वही सारे कारण आज भी जस के तस बने हुए हैं।

लेखक अब धीरे-धीरे किताब को उसके मूल मुद्दे की ओर ले जाते हैं। अब आप यहां पर ब्रिटिश शासन के दौरान गढ़वाल का इतिहास समझते, वहां के शासन में चल रही उथल-पुथल के बारे में पढ़ते हैं। किताब की मुख्य विशेषता यह है कि सब कुछ सन्दर्भ सहित कहा गया है।
हिमालय के प्राकृतिक संसाधनों पर तब शासन की जिन नज़रों का उल्लेख किताब में किया गया है, उन्हें आप आज से जोड़कर देखेंगे तो किताब में लिखा हर शब्द आपको सत्य लगेगा।

किताब के मध्य भाग में नाटक के 39 सीन की शुरुआत होती है, अंत में नागेंद्र सकलानी के पत्र चस्पा हैं जो आपको आज़ादी के आसपास चल रहे घटनाक्रमों से परिचित कराते हैं। नाटक के मंच का आंखों देखा हाल बता महात्मा गांधी से शुरुआत की जाती है। उन्हें नागेंद्र सकलानी और भोलूराम जरदारी की तीन दिन चली शवयात्रा, टिहरी रियासत की आज़ादी और हिंसा न होने की बात बताई जाती है। इसे पढ़ नाटक के प्रति आपकी जिज्ञासा बढ़ना स्वाभाविक है।

सीन 6 तक पहुंचते आपको समझ आ जाएगा कि किताब इतिहास में झांक वर्तमान को समझाने का प्रयास करने के लिए लिखी गई है।
अंग्रेज़ों की जेलें राजा की जेलों की तुलना फ़ाइव स्टार हुआ करती थी लिख लेखक ने जेलों का अंतर भी बताया है और किताब पढ़ते-पढ़ते आपको श्रीदेव सुमन, रामचन्द्र उनियाल जैसे भुला दिए गए नायकों के बारे में जानने को भी मिलता है।

गिंदाडू और नागेंद्र संवाद किताब की जान है। सीन 18 को हम किसान आंदोलन से जोड़ सकते हैं, सीन 22 में नागेंद्र और साथियों के भाषण अविस्मरणीय हैं। लेखक ने इन्हें बड़ी सरल भाषा में गहरे अर्थों के साथ लिख डाला है।

सीन 25-26 में नागेंद्र सकलानी और भोलू राम की मृत्यु का मंचन किया गया है, जिसे पढ़ते आप घटनाक्रमों को अपनी आंखों के सामने चलता महसूस करेंगे और भावुक भी हो जाएंगे।सीन 27 ही वह पड़ाव है जहां चन्द्र सिंह गढ़वाली का जनता से संवाद पढ़ कोई नागेंद्र सकलानी पर फ़िल्म बनाने का निर्णय ले सकता है।

अंत के सीनों को पढ़ते आप कल्पना के सागर में डूब यह सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि एक मुखजात्रा से जुड़ते सैलाब को साक्षात देखना कैसा अनुभव रहा होगा।

देश में चल रहे इस मुश्किल दौर के बीच मुखजात्रा को पढ़ा जाना आवश्यक है, क्या पता इसे पढ़ आज़ाद भारत के पिछड़ते नागरिकों की उम्मीद बन कोई नागेंद्र सकलानी की तरह फिर हमारे सामने आ जाए।

  • पुस्तक- मुखजात्रा
  • लेखक- सुनील कैंथोला
  • प्रकाशक- हिमालय लोक साहित्य एवं संस्कृति विकास ट्रस्ट देहरादून
  • पुस्तक मूल्य- ₹210
  • लिंक- https://www.amazon.in/dp/B08T74NHQX/ref=cm_sw_r_apan_glt_fabc_09ZE78T1MDE8XP3GM1XZ
  • समीक्षक- हिमांशु जोशी @himanshu28may

इसे भी पढ़ें:

खूब नाम कमाएगी ‘गहन है यह अन्धकारा’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

5 + 6 =

Related Articles

Back to top button