धान के कटोरे में पहली बार काला गेहूं की खेती

-भभौरा गांव निवासी राजेश पटेल के 12 बिस्वा खेत में लहलहा रही काला गेहूं की फसल

शेरवां मिर्जापुर। किसानों को मालामाल करने वाले काला गेहूं की खेती अब मिर्जापुर जिलेे में धान का कटोरा कहे जाने वाले इलाके भुइली परगना में भी शुरू हो गई है। जिसके तहत प्रयोग के तौर पर जमालपुर ब्लॉक के भभौरा गांव निवासी किसान राजेश पटेल के 12 बिस्वा खेत में काला गेहूं की फसल लहलहा रही है। इसकी पहली सिंचाई हो चुकी है। आवश्यक पौष्टिक तत्व देने के बाद खतपतवार नाशक का भी छिड़काव कर दिया गया है।

काला गेहूं की खेती आजकल आम गेहूं की खेती से चार गुना फायदेमंद है। पंजाब के बाद उत्तर प्रदेश के कई जिलों में किसान इसकी खेती कर मोटी कमाई कर रहे हैं। बाजार में यह चार से छह हजार रुपये प्रति कुंतल पर बिकता है। साथ ही वैज्ञानिकों का दावा है कि काला गेहूं साधारण गेहूं से ज्यादा पौष्टिक है। यह 12 बीमारियों में फायदेमंद है।

नाबी ने तैयार किया है इसे
विध्याचल मंडल के उप कृषि निदेशक अशोक उपाध्याय ने बताया कि नेशनल एग्री फूड बायो टेक्नॉलजी इंस्टीट्यूट नाबी मोहाली ने काला गेहूं तैयार किया है। इसका पेटेंट नाबी के ही नाम है। इसका नाम नाबी एमजी रखा गया है। यह कृषि वैज्ञानिक डॉ. मेनिका गर्ग की रिसर्च का परिणाम है।

नेचुरल एंटी ऑक्सीडेंट का खजाना है यह
अधिक एंथोसाएनिन की वजह से फलों, सब्जियों, अनाजों का रंग काला, नीला या बैंगनी हो जाता है। एंथुसाएनिन नेचुरल एंटी ऑक्सीडेंट भी है। इसी वजह से यह सेहत के लिए फायदेमंद माना जाता है। नाबी ने काले के अलावा नीले व जामुनी रंग के गेहूं की किस्म भी विकसित की है। इसमें सामान्य गेहूं से अधिक पोषक तत्व होते हैं। सामान्य गेहूं में पिगमेंट की मात्रा पांच से 15 पीपीएम के बीच होती है। काला गेहूं में पिगमेंट की मात्रा 100 से 200 पीपीएम तक होती है। इसमें सामान्य गेहूं के मुकाबले 60 फीसद आयरन ज्यादा होती है। जिंक की भी मात्रा कुछ ज्यादा होती है। दावा है कि इसकी रोटी के सेवन से कैंसर, शुगर, मोटापा, कोलेस्ट्राल, दिल की बीमारी आदि में फायदा होता है।

मिर्जापुर में तीन किसानों ने की है इसकी खेती
किसान राजेश पटेल ने बताया कि उन्होंने काले गेहूं के बारे में काफी पढ़ने के बाद इसकी खेती करने का निर्णय लिया। अब समस्या बीज की थी। कई जिलों के जिला कृषि अधिकारी से बात की। खेती करने की सलाह तो सभी ने दी, लेकिन बीज की समस्या बरकरार रही। एक दिन लखनऊ के एक अखबार में खबर पढ़ी की मोहनलालगंज में महिलाएं इसकी पैकिंग कर कमा रही हैं। इसके माध्यम से संबंधित किसान तक पहुंच गए, लेकिन दुख इस बात का रहा कि तब तक उनके पास मात्र 30 किग्रा बीज बचा था। उतना ही ले आया। भारत संचार निगम लि. मिर्जापुर के पूर्व जीएम छानबे ब्लॉक के निवासी इं. रामलौटन बिंद व गुलौरी गांव निवासी महेश सिंह को पांच-पांच किग्रा दिया। शेष 20 किग्रा की खेती 12 बिस्वा में की है। बीज देने वाले किसान ने बताया कि इसका उत्पादन अन्य गेहूं की ही तरह है। खेती भी जमालपुर की उपजाऊ भूमि पर अन्य गेहूं की तरह से की जा सकती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button